News Nation Logo

BREAKING

Banner

उत्तर प्रदेश: पुरानी पेंशन स्कीम लागु करने की मांग पर हाईकोर्ट हुई सख्त, राज्य सरकार को लगाई फटकार

हाईकोर्ट ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि इस हड़ताल से नुकसान सरकार को नहीं बल्कि आम जनता को हो रहा है.

News Nation Bureau | Edited By : Vikas Kumar | Updated on: 09 Feb 2019, 12:45:07 PM

प्रयागराज:

पुरानी पेंशन स्कीम को लागु करने के राज्य कर्मचारियों के मांग को लेकर योगी सरकार को हाईकोर्ट की तीखी आलोचना का सामना करना पड़ा है. हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार से पूछा है कि यदि नई पेंशन स्कीम बेहतर है तो सरकार पहले ये स्कीम सांसदों और विधायकों के लिए क्यों नहीं लागु करती. कोर्ट ने सरकार से पूछा है कि क्या सरकार अपने असंतुष्ट कर्मचारियों से कैसे काम ले सकती है.

यह भी पढ़ें: ट्विटर पर छाईं बसपा सुप्रीमो मायावती, जानें किन्हें करती हैं फॉलो और कितने हुए फॉलोअर्स

कोर्ट ने पूछा कि बिना कर्मचारियों की सहमति के बिना उनका अंशदान शेयर में कैसे लगा सकती है और जो कर्मचारी 30 - 35 साल से प्रदेश की सेवा कर रहे हैं क्या सरकार को उन्हें न्यूनतम पेंशन का आश्वासन नहीं देना चाहिए. बिना कर्मचारियों की सहमति के उनका अंशदान शेयर में सरकार कैसे लगा सकती है. हाईकोर्ट ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि इस हड़ताल से नुकसान सरकार को नहीं बल्कि आम जनता को हो रहा है.

यह भी पढ़ें: आज से गाजियाबाद भी रुकेगी कैफियात एक्सप्रेस, यात्रियों को मिली बड़ी राहत

हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को कर्मचारी नेताओं की शिकायत को सुनकर नई पेंशन स्कीम की खामियों को दूर कर 10 दिन में पूरे ब्यौरे के साथ हलफनामा देने का आदेश दिया है. जस्टिस सुधीर अग्रवाल और जस्टिस राजेंद्र कुमार की खंडपीठ ने ये आदेश दिये हैं. अब योगी सरकार को 25 फरवरी तक हलफनामा जमा करने का निर्देश है. 

बता दें कि राजकीय मुद्रणालय कर्मियों की हड़ताल से हाईकोर्ट की कॉजलिस्ट नहीं छपने से हुई थी परेशानी, न्याय प्रशासन को पंगु बनाने पर कायम जनहित याचिका पर कोर्ट ने सुनवाई की है.

First Published : 09 Feb 2019, 12:24:15 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.