News Nation Logo
Banner

UPPCL PF Scam: सपा अध्यक्ष और श्रीकांत शर्मा में ट्विटर वॉर

उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन के भविष्य निधि में हुए अरबों के घोटाले के मामले में राज्य सरकार और समाजवादी पार्टी के बीच जुबानी जंग ठन गई है. मंगलवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को प्रेस कान्फ्रेंस करके इस मामले में बीजेपी को निशाने पर लिया.

By : Yogendra Mishra | Updated on: 06 Nov 2019, 02:44:23 PM
अखिलेश यादव और श्रीकांत शर्मा।

अखिलेश यादव और श्रीकांत शर्मा। (Photo Credit: फाइल फोटो)

लखनऊ:

UPPCL PF scam: उत्तर प्रदेश पावर कॉर्पोरेशन के भविष्य निधि में हुए अरबों के घोटाले के मामले में राज्य सरकार और समाजवादी पार्टी के बीच जुबानी जंग ठन गई है. मंगलवार को समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मंगलवार को प्रेस कान्फ्रेंस करके इस मामले में बीजेपी को निशाने पर लिया. समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने इस घोटाले को लेकर बीजेपी को जिम्मेदार ठहराते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगा. इस पर अब प्रदेश सरकार के ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा ने पलटवार किया है.

यह भी पढ़ें- पत्नी से झगड़े के बाद यूपी पुलिस के इंस्पेक्टर ने पंखे से लटकर दी जान

उन्होंने इस घोटाले की जड़ को समाजवादी पार्टी का बताया है. दोनों नेताओं के बीच आरोप प्रत्यारोप की जंग ट्विटर पर पहुंच गई है. अखिलेश यादव ने ट्वीट किया कि प्रदेश की नाकाम व भ्रष्ट भाजपा सरकार बिजली कर्मचारियों के प्रोविडेंट फंड घोटाले में बिजली मंत्री को तुरंत बर्खास्त करके कर्मचारियों की भविष्य निधि तुरंत सुनिश्चित करे; नहीं तो ये कर्मचारी भाजपा सरकार की बत्ती गुल कर देंगे. फिर मुखिया जी पूछते फिरेंगे ‘इतना अंधेरा क्यों है भाई?’

श्रीकांत शर्मा ने ट्वीट करते हुए लिखा कि श्रीमान अखिलेश यादव आज आपको इस बात से भी तकलीफ है कि बीजेपी सरकार में गरीब की झोपड़ी भी दूधिया रोशनी से रोशन हो रही है. अब 75 जिलों में लोगों को पर्याप्त बिजली मिल रही है. आप तो सिर्फ चार जिलों के ही सीएम थे.

यह भी पढ़ें- विनय कटियार ने कहा 'अयोध्या के बाद मथुरा-काशी की बारी', उलेमा बोले...

बीजेपी सरकार ने 1 करोड़ 12 लाख घरों और 1 लाख 30 हजार मजरों में रोशनी पहुंचाई तो अमेठी, रायबरेली का अंधेरा तक दूर न कर पाने वाली कांग्रेस और सिर्फ 4 जिलों को बिजली देने वाली सपा का सियासी सफर अंधेरे में डूब गया. मुद्दाविहीन दल सिर्फ आलोचना के लिए आलोचना कर रहे हैं.

कर्मचारियों की भविष्य निधि का पैसा कहां जमा होगा यह ट्रस्ट तय करता है. ट्रस्ट से जुड़ा कोई भी दस्तावेज ऊर्जा मंत्री के पास नहीं आता. डीएचएफएल मामले की शिकायत मिलते ही मैंने यूपी सीएम श्री योगी आदित्यनाथ. जी से CBI जांच का अनुरोध किया.

First Published : 06 Nov 2019, 02:42:28 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×