News Nation Logo
Banner

पुलिस का इंसानियत वाला चेहरा आया सामने, 2 दिन से भूखे परिवार को दिया राशन

पुलिस गेहूं, 50 किलोग्राम चावल के अलावा सब्जी और तेल मसाले लेकर उसके घर पहुंची और उन्हें यह राशन का सामान दिया.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 31 Mar 2020, 12:02:01 PM
up police

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: फाइल फोटो)

महोबा:

कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए 25 मार्च से देश लॉकडाउन है. उत्पीड़न के लिए बदनाम रही पुलिस का अब इंसानियत वाला चेहरा भी सामने आ रहा है. कुलपहाड़ के इंस्पेक्टर ने मुढारी में दो दिन से भूखे एक मजदूर परिवार को सोमवार की शाम राशन सामग्री उपलब्ध कराई. कुलपहाड़ कोतवाली क्षेत्र के मुढारी गांव के राजू रैकवार (48) ने मंगलवार को बताया कि वह रोजाना मेहनत-मजदूरी कर अपने परिवार के लिए दो वक्त की रोटी का इंतजाम करता है.

यह भी पढ़ें- वसीम रिजवी बोले- तब्लीगी जमात ने 'कोरोना बम' बनाकर भेजे भारत, मिले मौत की सजा

पुलिस को फोन किया तो पहुंचाया राशन

उसने कहा, "कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते लॉकडाउन होने से पिछले छह दिनों से कोई काम नहीं मिला, जिससे बच्चे दो दिन से भूखे थे." उसने बताया कि गांव वालों के कहने पर उसने हिम्मत जुटाकर कोतवाल साहब को फोन कर अपनी दास्तान सुनाई. लिहाजा सोमवार शाम पुलिस गेहूं, 50 किलोग्राम चावल के अलावा सब्जी और तेल मसाले लेकर उसके घर पहुंची और उन्हें यह राशन का सामान दिया.

यह भी पढ़ें- मरकज भवन में मौजूद 24 लोग कोरोना पॉजिटिव, 700 लोग को किया गया क्वारंटाइन

लोगों को भूख से बचाना है

इस संबंध में कुलपहाड़ कोतवाली के प्रभारी निरीक्षक (एसएचओ) अभिमन्यु सिंह यादव ने कहा कि देश संकट के दौर से गुजर रहा है. महामारी के साथ-साथ लोगों को भूख से भी बचाना है. राजू ने फोन पर राशन न होने की जानकारी दी थी. सो जो बन पड़ा भिजवा दिया है. उन्होंने कहा, "हम इसे प्रचारित नहीं करना चाहते क्योंकि पुलिस से पहले हम भी इंसान हैं. पुलिस सदैव आपकी सेवा के लिए तत्पर है, बशर्ते लॉकडाउन का पूर्णतया पालन करें."

यह भी पढ़ें- निजामुद्दीन मामले पर केंद्र ने मांगी रिपोर्ट, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों पर हो सकती है बड़ी कार्रवाई

बीमार को भी पहुंचाया राशन

गौरतलब है कि इसके पूर्व बांदा के डीआईजी दीपक कुमार ने ट्विटर से मिली सूचना पर गुजरात में फंसे एक युवक की बीमार मां को हमीरपुर जिले में राशन भिजवाया था. इतना ही नहीं फोन पर मिली सूचना के आधार पर हैदराबाद में फंसे युवक की साढ़े आठ माह की गर्भवती पत्नी काजल (25) को बांदा जिले के रमजूपुर गांव से उसकी ससुराल चित्रकूट जिले के सभापुर-तरांव गांव वाहन से भिजवाया गया था.

First Published : 31 Mar 2020, 11:55:34 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×