News Nation Logo

BREAKING

Banner

VIDEO: चाउमीन का पैसा मांगा तो UP पुलिस ने की पिटाई, कहा- 'रुको अच्छे से पैसा देता हूं'

90 के दशक की फिल्मों में आपने देखा होगा कि पुलिस किसी भी सामान को खरीदने के बाद उसका मूल्य नहीं चुकाती है. एक व्यंग के तौर पर इसे सिक्योरिटी मनी की तरह दिखाया जाता है.

By : Yogendra Mishra | Updated on: 22 Oct 2019, 12:01:37 PM
युवक की पिटाी करती पुलिस।

युवक की पिटाी करती पुलिस। (Photo Credit: फाइल फोटो)

लखनऊ:

90 के दशक की फिल्मों में आपने देखा होगा कि पुलिस किसी भी सामान को खरीदने के बाद उसका मूल्य नहीं चुकाती है. एक व्यंग के तौर पर इसे सिक्योरिटी मनी की तरह दिखाया जाता है. इस तरह की फिल्मों के बारे में जब पुलिस वालों से बात होती है तो वह कहते हैं कि 'पुलिस की छवि खराब की जा रही है'. लेकिन लखनऊ में पुलिस पर ऐसे ही गंभीर आरोप लगे हैं. बताया जा रहा है कि मुफ्त में चाउमीन न खिलाने पर पुलिस कई पुलिस वालों ने रेस्टोरेंट संचालक मामा-भांजे की पिटाई कर दी. पिटाई भी किसी एक पुलिस वाले ने नहीं की है बल्कि पूरा गुट बनाकर हमला किया गया है.

यह पूरी वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई. जिसमें दिख रहा है कि करीब 5-10 पुलिस वाले एक युवक पर हमला करते हैं और उसे घसीट कर ले जाने का प्रयास करते हैं. जिस युवक की पिटाई हुई है उसके चाचा राजेश कुमार ने बताया कि उसका भतीजा रात में दौड़ता हुआ आया.

यह भी पढ़ें- महिला को धक्का देती ये पुलिस अंग्रेजों वाली नहीं बल्कि UP की है, देखें VIDEO

जब वह उठा तो देखा कि उसे कुछ पुलिस वाले मार रहे हैं. बचाने के लिए जब वह दौड़ा तो पुलिस वालों ने उसे भी जमकर पीटा. जिसके बाद उसने डायल 100 को फोन किया. मौके पर पहुंची डायल 100 की टीम मदद करने के बजाय अपने साथियों की तरफ से बात करने लगी. टीम पूछने लगी कि आखिर इनसे क्या लिखवा लें.

यह भी पढ़ें- वर्दी के नशे में चूर दरोगा ने रिटायर्ड फौजी को मारा थप्पड़, VIDEO में देखें उसके बाद क्या हुआ

जिस पर वहां मौजूद पुलिसकर्मियों ने कहा कि इनसे लिखवा लो कि यह अपनी मर्जी से समझौता करना चाहते हैं. राजेश ने बताया कि सभी पुलिसकर्मी लखनऊ के आसियाना थाने के थे. पुलिस फर्जी केस न बना दे इसके लिए आस-पड़ोस से भी कोई नहीं बचाने के लिए आया. चाउमीन का पैसा मांगने को लेकर ये मामला शुरु हुआ.

यह भी पढ़ें- रॉबर्ट वाड्रा नोएडा के मेट्रो अस्पताल में भर्ती, प्रियंका गांधी रातभर रहीं मौजूद 

वहीं इस मामले में आसियाना थाना के दरोगा का कहना है कि देर रात 12:30 बजे तक दुकान खुली हुई थी. जब पुलिस बंद कराने पहुंची तो दुकानदार ने झगड़ा किया.

हफ्ते भर में तीसरी घटना

हफ्ते भर के भीतर पुलिस पर आम जनता की पिटाई करने का यह तीसरा गंभीर आरोप है. मऊ (Mau) में शहर कोतवाली के सारहू पुलिस चौकी पर बृहस्पतिवार की शाम चौकी प्रभारी और एक रिटार्ड फौजी के बीच मारपीट हुई. पहले दरोगा ने फौजी से बदतमीजी से बात की और एक थप्पड़ जड़ दिया. जिसके बाद फौजी ने एक के बाद एक कई थप्पड़ दरोगा को जड़ दिए.

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: रोडवेज बसों की हड़ताल आज से, दीपावली पर बढ़ने वाली है दिक्कत

लोगों ने बीच-बचाव करके मामला शांत कराया. अधिकारियों तक मामला पहुंचा है. जिसके बाद हड़कंप मच गया. फौजी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है और दरोगा के खिलाफ जांच शुरु कर दी गई है. वहीं दूसरी ओर गाजियाबाद में भी एक दंपति को पुलिस वालों ने मारा था. गाजियाबाद के मामले में मौके पर मौजूद पुरुष पुलिस वालों ने महिला को धक्का दिया था.

First Published : 22 Oct 2019, 12:01:37 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×