News Nation Logo

Unnao Rape Case: CBI की प्राथमिक जांच में सामने आए ये चौंका देने वाले तथ्य

पीडिता और उसका वकील गंभीर रुप से घायल हैं जिसका इलाज अस्पताल में चल रहा है. पीड़िता और उसके वकील की हालात कुछ ज्यादा ही नाजुक बताई जा रही है.

News Nation Bureau | Edited By : Vikas Kumar | Updated on: 01 Aug 2019, 10:18:31 AM
CBI कर रही है उन्नाव केस की  पड़ताल

highlights

  • Unnao Rape Case में सीबीआई की जांच में पता चला पीड़िता के कार की स्पीड थी ट्रक से ज्यादा.
  • हालांकि उल्टी दिशा में आ रहा था ट्रक.
  • जांच में अभी और भी बड़े खुलासे हो सकते हैं. 

लखनऊ:

रविवार को रायबरेली (Raebareli) जाते समय उन्नाव रेप (Unnao Rape Case) पीडिता की कार को एक ट्रक ने टक्कर मार दी थी जिसमें पीड़िता की मौसी और चाची की मौत हो गई जबकि पीडिता और उसका वकील गंभीर रुप से घायल हैं जिसका इलाज अस्पताल में चल रहा है. पीड़िता और उसके वकील की हालात कुछ ज्यादा ही नाजुक बताई जा रही है. हालांकि यूपी की योगी सरकार ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी थी जिसके बाद सीबीआई एक्शन में आई और सीबीआई ने जांच शुरू कर दी है.सूत्रों के मुताबिक, सीबीआई की प्राथमिकी जांच में ये तथ्य सामने आए हैं-

यह भी पढ़ें: उन्नाव रेप पीड़िता के लिए कांग्रेसियों ने निकाला कैंडल मार्च, जताया विरोध

  • सीबीआई की प्राथमिकी जांच में सामने आया है कि पीड़िता की कार ट्रक से ज्यादा स्पीड में थी. 
  • हादसे के समय पीड़िता की कार 100 से ज्यादा स्पीड थी जबकि ट्रक की स्पीड 70-80 किलोमीटर प्रतिघंटे की ही थी. 
  • ट्रक लहराते हुए दाहिने तरफ से रांग साइड से आ रहा था.
  • ट्रक के रांग साइड से आने पर सामने से आ रही कार के चालक ने बचने की पूरी कोशिश की.
  • रफ्तार की वजह से ट्रक के पिछले हिस्से से जा टकराई कार.
  • तेज टक्कर की वजह से ट्रक की कमानी टूट गई और पहिए पीछे खिसक गए.

सीबीआई ने इसके अलावा घटनास्थल पर मौजूद रहे दो चश्मदीदों से भी बात की और उनसे पूरी जानकारी ली. सीबीआई ने  गिरफ्तार ट्रक ड्राइवर आशीष पाल और क्लीनर मोहन से घण्टों पूछताछ की. इसके अलावा ट्रक के मालिक को भी सीबीआई की जांच का सामना करना पड़ा. हालांकि ट्रक के मालिक को पूछताछ के बाद सीबीआई ने कभी भी बुलाए जाने की नोटिस के साथ छोड़ दिया है.

यह भी पढ़ें: उन्नाव कांड सरकार के संरक्षण के बिना संभव नहीं, अब परतें खुल रहीं, प्रियंका गांधी ने लगाए गंभीर आरोप

सीबीआई ने एफआईआर में करीब 25 लोगों का नाम दर्ज किया है. इनमें से कई नाम ऐसे हैं जो बेहद रसूखदार हैं.

ये हैं नामजद
पीड़िता के चाचा की तरफ से दी गई तहरीर में कुलदीप सिंह सेंगर, मनोज सिंह सेंगर, विनोद मिश्रा, हरिपाल सिंह, नवीन सिंह, कमल सिंह, अरुण सिंह, ज्ञानेंद्र सिंह, रिंकू सिंह, वकील अवधेश सिंह को नामजद आरोपी बनाया गया है. बताया जा रहा है कि नामजद आरोपियों में शामिल हरिपाल सिंह और रिंकू सिंह केस में आरोपी शशि सिंह के पति और बेटे हैं.
नवीन सिंह को विधायक का राइट हैंड कहा जाता है. वहीं ज्ञानेंद्र सिंह पत्रकार हैं और कुलदीप सिंह सेंगर के खास दोस्त हैं. वकील अवधेश सिंह कुलदीप सिंह सेंगर के मामले की पैरवी करते हैं. इन सभी नामजद के अलावा 15-20 अज्ञात लोगों पर भी मुकदमा दर्ज हुआ है.

यह भी पढ़ें: उन्नाव कांड के बाद बाराबंकी की छात्रा ने ऐसा सवाल पूछा कि ASP जवाब नहीं दे पाए
मां ने लगाए थे हत्या कराने का आरोप
रविवार को हादसे सड़क हादसे की शिकार हुई रेप पीड़िता की मां ने सीधे तौर पर बीजेपी विधायक कुलदी सिंह सेंगर और कई अन्य लोगों पर हत्या का आरोप लगाया था. पीड़िता की मां का कहना था कि कुलदीप सेंगर और उसके गुर्गे लगातार हत्या करवाने की धमकी देते रहते थे. मंगलवार को राज्य सरकार सीबीआई जांच के लिए तैयार हो गई. केंद्र सरकार भी अब सीबीआई जांच के लिए तैयार है.

First Published : 01 Aug 2019, 09:57:15 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.