News Nation Logo
Banner

आजम खान की गिरफ्तारी और योगी सरकार पर SP ने कही ये बड़ी बात

राग द्वेष से सरकारें काम नहीं कर सकती हैं. समाजवादी पार्टी भी न्यायिक प्रणाली पर भरोसा करती है. अदालत पर विश्वास है न्याय मिलेगा.

News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 26 Feb 2020, 04:48:21 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

रामपुर:

समाजवादी पार्टी के वरिष्‍ठ नेता आजम खान (Azam Khan) को उनकी पत्‍नी तंजीम फातिमा और बेटे अब्‍दुल्‍ला आजम (Abdullah Azam) के साथ 2 मार्च तक जेल भेज दिया गया. दस्‍तावेजों में फर्जीवाड़े के आरोपों को लेकर एडीजे 6 की अदालत ने उन्‍हें जेल भेज दिया. रामपुर के एडीजे 6 की अदालत में बुधवार को आजम खान अपने परिवार के साथ पेश हुए थे. वहीं इस मामले में समाजवादी पार्टी ने ट्वीट कर कहा कि सप बदले की भावना से किसी भी कार्रवाई को उचित नहीं मानती है. राग द्वेष से सरकारें काम नहीं कर सकती हैं. समाजवादी पार्टी भी न्यायिक प्रणाली पर भरोसा करती है. अदालत पर विश्वास है न्याय मिलेगा.

यह भी पढ़ें- ट्रंप भले अमेरिका लौट गए हों, लेकिन उनके ये मजेदार मीम्स हमारे बीच हैं

सपा सांसद आजम खान पर 88 मुकदमे दर्ज

बता दें कि पिछली कई बार से कोर्ट के बुलाने पर भी आजम खान हाजिर नहीं हो रहे थे. गैर हाजिरी के चलते कोर्ट ने आजम खान, बेटे अब्दुल्ला आजम और पत्नी तंजीम फातमा के खिलाफ कई बार जमानती और गैर जमानती वारंट जारी किया था. अब तक सपा सांसद आजम खान पर 88 मुकदमे भी दर्ज है. आजम खान ने अब्दुल्ला आजम के दो जन्म प्रमाणपत्र के मामले में पत्नी व बेटे के साथ जमानत की अर्जी दाखिल की थी, जो खारिज हो गई थी. एडीजे 6 की कोर्ट में सुनवाई के बाद उन्‍हें पत्‍नी और बेटे के साथ न्‍यायिक हिरासत में भेज दिया गया. अब तीनों को 7 दिन के लिए जेल भेजा गया है.

यह भी पढ़ें- ट्रंप भले अमेरिका लौट गए हों, लेकिन उनके ये मजेदार मीम्स हमारे बीच हैं

तजीम फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम की संपत्ति कुर्क करने के आदेश

एक दिन पहले निचली अदालत ने सपा सांसद आजम खान, उनकी पत्नी डॉ. तजीम फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम की संपत्ति कुर्क करने के आदेश दिए थे. अब्दुल्ला के खिलाफ दो-दो जन्म प्रमाणपत्र बनवाने, दो-दो पासपोर्ट बनवाने और दो-दो पैन कार्ड बनवाने के मुकदमे चल रहे हैं. तीन मुकदमे बीजेपी नेता आकाश सक्सेना ने दर्ज कराए हैं. एक जन्म प्रमाणपत्र रामपुर नगरपालिका से बनवाया गया है, जिसमें जन्मतिथि एक जनवरी 1993 दर्शाई गई है तो दूसरा जन्‍म प्रमाणपत्र लखनऊ के अस्पताल से बनवाया गया है. उसमें जन्मतिथि 30 सितंबर 1990 अंकित है. आरोप है कि बाद में पासपोर्ट और पैन कार्ड में उम्र ठीक कराने के लिए भी दूसरा पासपोर्ट और दूसरा पैन कार्ड बनवा लिया गया, जिसमें दूसरी जन्मतिथि है.

First Published : 26 Feb 2020, 04:48:21 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×