logo-image
लोकसभा चुनाव

एक्शन में RLD नेता जयंत चौधरी, हरियाणा और यूपी के बीच पानी बंटवारे पर करेंगे चर्चा

RLD नेता जयंत चौधरी एक्शन में नजर आ रहे हैं. गुरुवार को जयंत चौधरी सहारनपुर जा रहे हैं, जहां वे यूपी और हरियाणा के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. सूत्रों की मानें तो इस बैठक में दोनों राज्यों के बीच पानी बंटवारे को लेकर चर्चा की जा सकती है.

Updated on: 20 Jun 2024, 06:09 AM

highlights

  • एक्शन में आरएलडी नेता जयंत चौधरी
  • यूपी और हरियाणा के बीच पानी बंटवारे पर करेंगे चर्चा
  • आरएलडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने पार्टी पद से दिया इस्तीफा

Lucknow:

राष्ट्रीय लोक दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी को मोदी कैबिनेट 3.0 में पहली बार केंद्र सरकार में मंत्री पद मिला. जयंत चौधरी को कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार से राज्य मंत्री बनाया गया. कार्यभार संभालते ही जयंत चौधरी एक्शन मोड में नजर आ रहे हैं. गुरुवार को वह सहारनपुर पहुंच रहे हैं, जहां वे यूपी और हरियाणा के अधिकारियों के साथ बैठक करेंगे. सूत्रों की मानें तो इस बैठक में जयंत चौधरी दोनों राज्यों के बीच पानी के बंटवारे को लेकर चर्चा कर सकते हैं. सांसद सुबह 8 बजे दिल्ली से गाजियाबाद होते हुए मेरठ के रास्ते सहारनपुर पहुंचेंगे. वहीं से होते हुए हथनी कुंड बैराज के लिए रवाना होंगे. केंद्रीय मंत्री सबसे पहले हथनी कुंड बैराज का निरीक्षण करेंगे और फिर उसके बाद यूपी के सहारनपुर जनपद और हरियाणा के यमुनानगर जिले के अधिकारियों के साथ समीक्षा करेंगे.

यह भी पढ़ें- Aligarh: यूपी के अलीगढ़ में मॉब लिचिंग, दो समुदायों के बीच तनावपूर्ण माहौल

एक्शन में जयंत चौधरी

केंद्र में मंत्री पद मिलते ही आरएलडी नेता एक्शन में नजर आ रहे हैं. आरएलडी के नेताओं की मानें तो अगले महीने यूपी की राजधानी लखनई में देशभर से पार्टी के कार्यकर्ता पहुंचेंगे, जहां प्रदेश स्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा. इस बैठक के जरिए पार्टी अपने संगठन की जमीनी हकीकत को समझने की कोशिश करेंगे और फिर यह रिपोर्ट पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को सौंपी जाएगी. दरअसल, पार्टी ये कदम आने वाले उपचुनाव को देखते हुए उठा रही है. कयास तो यह भी लगाए जा रहे हैं कि आगामी उपचुनाव में पार्टी कम से कम दो सीटों की डिमांड कर सकती है. आरएलडी का फोकस पश्चिमी यूपी पर है. पार्टी अपनी पकड़ पूर्वांचल, बुंदेलखंड में मजबूत करना चाहती है. बता दें कि यूपी विधानसभा का चुनाव 2027 में होने वाला है, लेकिन पार्टी अभी से ही उसे लेकर रणनीति बनाती नजर आ रही है. 

आरएलडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता ने पार्टी पद से दिया इस्तीफा

इन सबके बीच पार्टी को बुधवार को बड़ा झटका भी लगा है. दरअसल, आरएलडी का एनडीए के साथ जाने का फैसला पार्टी के कई नेताओं को पसंद नहीं आया और इस वजह से पार्टी में कई नेताओं ने बगावत शुरू कर दी. इसी कड़ी में आरएलडी के राष्ट्रीय प्रवक्ता भूपेंद्र चौधरी ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है. इस्तीफा देने के बाद इसकी जानकारी भूपेंद्र चौधरी ने सोशल मीडिया पर भी दी.