News Nation Logo

मारे गए लोगों के परिजनों को 10 लाख रुपये मुआवजा देगी कांग्रेस: प्रियंका

दूसरी ओर, उत्‍तर प्रदेश की पुलिस और प्रशासन का कहना है कि प्रियंका गांधी को हिरासत में नहीं लिया गया है और सोनभद्र जाने की किसी को भी इजाजत नहीं दी जाएगी, क्‍योंकि वहां हिंसा के बाद तनाव कायम है.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 20 Jul 2019, 03:35:27 PM
चुनार में प्रियंका गांधी

नई दिल्‍ली:  

उत्‍तर प्रदेश के सोनभद्र में उभ्‍भा गांव में हुई हिंसा के पीड़ितों से मिलने जा रहीं कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को यूपी पुलिस ने रास्‍ते में रोककर हिरासत में ले लिया है. वह सोनभद्र के उभ्‍भा गांव जाने पर अड़ी हुई हैं. उनका कहना है कि पीड़ितों से मिले बगैर वे नहीं जाएंगी. प्रियंका गांधी को पुलिस-प्रशासन चुनार के किले में ले गई, जहां रात भर वे वहीं रुकी रहीं. उनके साथ कांग्रेस के भी कार्यकर्ता थे. दूसरी ओर, उत्‍तर प्रदेश की पुलिस और प्रशासन का कहना है कि प्रियंका गांधी को हिरासत में नहीं लिया गया है और सोनभद्र जाने की किसी को भी इजाजत नहीं दी जाएगी, क्‍योंकि वहां हिंसा के बाद तनाव कायम है.

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा, मेरा उद्देश्य है कि मैं उनसे (सोनभद्र गोलीबारी का शिकार) मिल चुकी हूं. मैं अभी भी हिरासत में हूं, देखें कि प्रशासन क्या कहता है. कांग्रेस पार्टी घटना में मारे गए व्यक्ति के परिजनों को 10 लाख रुपये का मुआवजा देगी.



यूपी के डिप्‍टी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा, सोनभद्र के उभ्‍भा गांव में धारा 144 लागू है. आप अपने राजनीतिक इरादों को पूरा करने के लिए जाते हैं, तो यह सही नहीं है. संवेदनशील मुद्दों पर किसी को राजनीति नहीं करनी चाहिए. हमारा सरकार शांति बनाए रखने के लिए प्रतिबद्ध है.



प्रियंका गांधी को रोके जाने पर कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा- यह सरकार नहीं चाहती कि कोई पीड़ितों के आंसू पोंछे. जो कुछ भी हुआ वह असंवैधानिक और अलोकतांत्रिक है और ऐसा लगता है जैसे उत्तर प्रदेश सरकार ने अपने पापों और छोटी-छोटी बातों को छिपाने के लिए अघोषित आपातकाल लागू किया है.



लखनऊ में उत्‍तर प्रदेश के राज्‍यपाल रामनाईक से मिलने पहुंचे कांग्रेस के नेता, कांग्रेस के नेताओं ने प्रियंका गांधी को रोके जाने का विरोध किया है. 



सोनभद्र (यूपी) में गोलीबारी की घटना पर जनजातीय मामलों के केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा ने कहा, यह घटना दुर्भाग्यपूर्ण है. मुझे मिली जानकारी के अनुसार, राज्य सरकार कार्रवाई कर रही है. मुझे लगता है कि राज्य सरकार निष्पक्ष जांच करेगी और दोषियों को दंडित किया जाएगा.



प्रियंका गांधी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि केवल दो पीड़ितों को मिलने दिया गया है. 15 पीड़ितों को गेस्‍ट हाउस के बाहर रोका गया है. उन्‍होंने कहा, प्रशासन को इनकी सुरक्षा करनी चाहिए. जब सुरक्षा करनी चाहिए थी, तब नहीं किया. अब मुझसे नहीं मिलने दिया जा रहा है. 


आप भी देखें VIDEO: प्रियंका गांधी ने क्‍या कहा



इस बीच उत्‍तर प्रदेश की पूर्व मुख्‍यमंत्री मायावती ने ट्वीट कर कहा है कि यूपी सरकार जान-माल की सुरक्षा व जनहित के मामले में अपनी विफलता छिपाने के लिए धारा 144 का सहारा लेकर किसी को सोनभद्र जाने नहीं दे रही है. फिर भी उचित समय पर वहां जाकर पीड़ितों की यथासंभव मदद कराने का बीएसपी विधानमण्डल दल को निर्देश दिया गया है. इस नरसंहार का मुख्य कारण सरकारी लापरवाही है. 



दोपहर 12 बजे कांग्रेस के मुख्‍य प्रवक्‍ता रणदीप सिंह सुरजेवाला पार्टी की ओर से प्रेस को संबोधित करेंगे. माना जा रहा है कि प्रियंका गांधी को हिरासत में लेने को लेकर कांग्रेस के रुख को वे और स्‍पष्‍ट करेंगे. 

सोनभद्र के उभ्‍भा गांव जाने की जिद पर अड़ीं प्रियंका गांधी से पीड़ित परिवार को मिलवाया गया है. प्रियंका गांधी ने बिना मिले वापस जाने से इनकार कर दिया था. 

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के चार सदस्यीय संसदीय प्रतिनिधिमंडल को वाराणसी पुलिस ने बाबतपुर के लाल बहादुर शास्त्री अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर रोक लिया है. प्रतिनिधिमंडल सोनभद्र जा रहा था, जहां 17 जुलाई को भूमि विवाद की घटना में 10 लोग मारे गए थे. 



First Published : 20 Jul 2019, 09:32:29 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.