News Nation Logo
विपक्षी सांसदों की नारेबाजी के बीच राज्यसभा आज दोपहर 12 बजे तक के लिए स्थगित हुई भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से हराकर टेस्ट मैच श्रृंखला 1-0 से जीती टीम इंडिया ने घर में लगातार 14वीं टेस्ट सीरीज जीती न्यूजीलैंड पर 372 रनों से जीत रनों के लिहाज से भारत की टेस्ट मैचों में सबसे बड़ी जीत है उत्तराखंड के चमोली में देवल ब्लॉक के ब्रह्मताल ट्रेक मार्ग पर बर्फबारी हुई रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर के साथ नई दिल्ली में बैठक की बाबा साहब आंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस आज. बसपा कर रही बड़ा कार्यक्रम नीट काउंसिलिंग में हो रही देरी के खिलाफ रेजिडेंट डॉक्टर्स आज ठप रखेंगे सेवा रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन आज आ रहे भारत. कई समझौतों को देंगे अंतिम रूप पंजाब के पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह आज करेंगे अमित शाह-जेपी नड्डा से मुलाकात.

अयोध्या केस पर फैसले के 19 दिन बाद केंद्र ने योगी सरकार को क्यों लिखी चिट्ठी, जानें यहां

9 नवंबर को देश की सर्वोच्च अदालत ने सालों से चले आ रहे अयोध्या विवाद को खत्म कर दिया. इस फैसले के 19 दिन बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को चिट्ठी लिखी थी.

न्यूज स्टेट ब्यूरो | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 11 Dec 2019, 09:05:22 AM
नरेंद्र मोदी।

लखनऊ:

9 नवंबर को देश की सर्वोच्च अदालत ने सालों से चले आ रहे अयोध्या विवाद को खत्म कर दिया. इस फैसले के 19 दिन बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को चिट्ठी लिखी थी. केंद्र सरकार ने अयोध्या मामले (Ayodhya Case) पर फैसले के बाद स्थितियों पर नियंत्रण बनाए रखने के लिए योगी सरकार की सराहना की है.

देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल (AJit Doval) की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि फैसले के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने जिस तरीके से पूरे मामले को हैंडल किया है वह काबिले तारीफ है. उत्तर प्रदेश के चीफ सेक्रेट्री आरके तिवारी (RK Tiwari) को अजीत डोभाल ने यह पत्र लिखा था. इस पत्र में यहां के पुलिस अधिकारियों और प्रशासन की ताफ की गई है.

आपको बता दें कि कई दशकों से चले आ रहे अयोध्या रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर 9 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट की 5 जजो वाली बेंच ने अपना फैसला सुनाया. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में माना कि बाबरी मस्जिद के नीचे पहले कोई ढांचा था. हालांकि वह राम मंदिर था या नहीं इसकी पुष्टि नहीं हुई है. सुप्रीम कोर्ट ने विवादित जमीन को रामलला विराजमान का सौंपने का फैसला सुनाया. इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने यह भी फैसला सुनाया कि मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में ही पांच एकड़ जमीन मस्जिद के लिए दी जाए.

रिव्यू पिटीशन दाखिल

अयोध्या मामले (Ayodhya Case) पर फैसला आने से पहले दोनों पक्षों ने कहा था कि जो भी सुप्रीम कोर्ट का फैसला आएगा उसे माना जाएगा. लेकिन अब दोनों पक्षों ने रिव्यू पिटीशन दाखिल करने का मन बना लिया है. मुस्लिम पक्ष का कहना है कि जमीन मुस्लिमों की है इसलिए रिव्यू पिटीशन दाखिल की जा रही है. वहीं अब हिंदू पक्ष ने भी इस मामले में रिव्यू पिटीशन दाखिल करने का फैसला किया है. हिंदू पक्ष के वकील का कहना है कि हिंदुओं ने अपनी जमीन वास ली है. ऐसे में मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ जमीन देना गलत है.

First Published : 11 Dec 2019, 08:40:40 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.