News Nation Logo

गरीबों की बेटियों की शादी 5 सितारा होटल में होगी, सरकार करेगी इंतजाम

उत्तर प्रदेश सरकार अब गरीबों की बेटियों की शादी पांच सितारा होटल में करवाएगी. अभी तक 5 सितारा होटल में ही किसी बड़े बिजनेसमैन की ही शादी हो सकती थी. लेकिन अब समाज कल्याण विभाग ने विषमता की दीवार गिराने का फैसला लिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 27 Dec 2019, 09:56:37 AM
प्रतीकात्मक फोटो।

नोएडा:

उत्तर प्रदेश सरकार अब गरीबों की बेटियों की शादी पांच सितारा होटल में करवाएगी. अभी तक 5 सितारा होटल में ही किसी बड़े बिजनेसमैन की ही शादी हो सकती थी. लेकिन अब समाज कल्याण विभाग ने विषमता की दीवार गिराने का फैसला लिया है. मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत इसका आयोजन किया जाएगा. इसके लिए फंड कार्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी (CSR) के तहत होगा. जिले की कंपनियों और होटलों से इसके लिए मदद ली जाएगी. सरकार से मिलने वाली अनुदान राशि दुल्हन के बैंक खाते में जमा कराया जाएगा.

सामूहिक विवाह योजना में हुए फर्जीवाड़े के आरोपों के बाद विभाग की काफी किरकिरी हुई है. अब विभाग अपनी छवि फिर से सुधारना चाहता है. प्रदेश में सरकार बनने के साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना की घोषणा की थी. इस योजना में उन गरीब परिवारों की लड़की की शादी सामूहिक रूप से कराई जाती है जिनकी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होती है. योजना का लाभ लेने के लिए परिवार की सालाना आय 2 लाख रुपये से कम होनी चाहिए.

योजना के तहत गौतम बुद्धनगर जिले में पहली बार हुए सामूहिक विवाह योजना में फर्जीवाड़ा सामने आया था. इसका खुलासा होने के बाद कई फर्जी लाभार्थियों व प्रधानों को जेल भी भेजा गया था. 5 सितारा होटल में शादी की व्यवस्था करने के लिए जिले के होटलों व कंपनियों से CSR फंड की मदद ली जाएगी. समाज कल्याण विभाग के अधिकारी प्रशासन के अन्य विभागों के अधिकारियों से बातचीत कर इसे अमलीजामा पहनाने का प्रयास किया जा रहा है.

समाज कल्याण अधिकारी शैलेंद्र बाहदुर सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना सरकार की एक महत्वपूर्ण योजना है. इसे 5 सितारा शादी कान्सेप्ट में लाकर एक नया प्रयास किया जा रहा है.

First Published : 27 Dec 2019, 09:46:56 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.