News Nation Logo
Banner

अनंतनाग में शहीद मेजर केतन ने कहा था, 'जल्द घर लौटूंगा मां'

जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए मेरठ (Meerut) का लाल शहीद हो गया. मंगलवार को अनंतनाग (Anantnag) में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई.

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 18 Jun 2019, 02:06:07 PM
शहीद मेजर केतन शर्मा (फाइल फोटो)

शहीद मेजर केतन शर्मा (फाइल फोटो)

highlights

  • आतंकियों से लोहा लेते हुए मेजर केतन शर्मा शहीद
  • सेना के अफसर पहुंचे मेजर केतन के घर
  • मां का रो-रो कर बुरा हाल

मेरठ:

जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लोहा लेते हुए मेरठ (Meerut) का लाल शहीद हो गया. मंगलवार को अनंतनाग (Anantnag) में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ हुई. जिसमें मेरठ के रहने वाले मेजर केतन शर्मा (Ketan Sharma) शहीद हो गए. 29 साल के केतन शर्मा (Ketan SHarma) कुछ दिन पहले ही छुट्टी से वापस लौटे थे. उन्होंने परिवार से वादा किया था कि वह जल्द ही घर वापस लौटेंगे.

यह भी पढ़ें- UP: 18 जुलाई से मानसून सत्र समेत इन 6 फैसलों पर योगी कैबिनेट ने लगाई मुहर

केतन शर्मा का पार्थिव शरीर मंगलवार को दिल्ली पहुंचेगा. जहां रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) उन्हें श्रद्धांजलि देंगे. इसके बाद उनका पार्थिव शरीरी मेरठ लाया जाएगा. उनका पार्थिव शरीर घर पहुंचने से पहले मेरठ कैंट के अफसर शहीद मेजर केतन के घर पहुंचे. सेना के वरिष्ठ अधिकारी भी मेजर केतन के अंतिम संस्कार में शामिल हो सकते हैं.

सोमवार को अनंतनाग के एकिंगम में आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिली थी. जिसके बाद सुरक्षाबलों ने सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया. आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच फायरिंग हुई जिसमें मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए. मेजर केतन की शहादत की खबर सुनकर उनके परिवार के साथ ही मेरठ में शोक की लहर दौड़ गई.

बेटी भी मायूस

केतन शर्मा की पांच साल पहले शादी हुई थी. मेजर केतन के घर में उनकी पत्नी इरा, माता-पिता और एक तीन साल की बेटी काइरा है. जब से केतन के शहीद होने की खबर मिली है घर वालों का रो-रो कर बुरा हाल है. तीन साल की बच्ची को इस बारे में कुछ भी नहीं पता है. मेजर केतन 2012 में IMA देहरादून से लेफ्टिनेंट बने थे. जिसके बाद उनकी पहली पोस्टिंग पुणे में हुई. दो साल पहले उन्हें अनंतनाग में पोस्टिंग मिली.

यह भी पढ़ें- खूनी सड़क बना आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे, तीन महीने में हुए 402 हादसे, 36 ने गंवाई जान

केतन मेरठ कैंट इलाके के रहने वाले थे. मंगलवार को जैसे ही उनके शहादत की खबर मिली तो सेना के बड़े अधिकारी उनके माता-पिता से मिलने उनके घर पहुंचे. कैंट के विधायक सत्य प्रकाश अग्रवाल भी श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी है.

योगी सरकार ने मेजर केतन के परिवार को 25 लाख रुपये की सहायता राशि देने की घोषणा भी की है. परिवार के किसी एक सदस्य को सरकारी नौकरी और शहीद मेजर केतन शर्मा के नाम से एक सड़क की भी घोषणा हुई है.

First Published : 18 Jun 2019, 02:06:07 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो