News Nation Logo
Banner

कासगंज कांड: नदी के किनारे चल रहा था मुख्य आरोपी मोती का 'शराब साम्राज्य', सामने आई क्राइम हिस्ट्री

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिसकर्मियों पर हुए हमला करने वाले शराब माफियों की तलाश के लिए कई टीमों का गठन किया गया है. मुख्य आरोपी मोती की तलाश में भी पुलिस जुटी है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 10 Feb 2021, 04:53:34 PM
Kasganj case

कासगंज कांड: सामने आई मुख्य आरोपी मोती की क्राइम हिस्ट्री (Photo Credit: IANS)

कासगंज:

उत्तर प्रदेश के कासगंज में पुलिसकर्मियों पर हुए हमला करने वाले शराब माफियों की तलाश के लिए कई टीमों का गठन किया गया है. मुख्य आरोपी मोती की तलाश में भी पुलिस जुटी है. आसपास के जिलों की कुछ विशेष टीमों को मुख्य आरोपी और उसके साथियों की पकड़ के लिए इस मिशन में लगाया है. इलाके में फैले शराब माफिया के कारोबार की जांच पड़ताल में भी पुलिस लगी है. बताया जाता है कि मुख्य आरोपी मोती अपने साथियों के साथ नदी के किनारे कच्ची शराब का कारोबार चलाता था. इसके अलावा मुख्य आरोपी मोती की क्राइम हिस्ट्री भी सामने आई है.

यह भी पढ़ें: कासगंज 'बिकरू पार्ट-2' का एक आरोपी ढेर,शहीद सिपाही के परिजन को 50 लाख 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मुख्य आरोपी मोती की क्राइम हिस्ट्री में उस पर दर्ज मुकदमों का खुलासा हुआ है. आरोपी मोती पर कुल 11 मुकदमे दर्ज हैं. वह अपने इलाके के पुलिस स्टेशन का पहले नंबर का अपराधी है. फिलहाल मंगलवार को पुलिसवालों पर हमला करने के मामले में वह फरार है. कासगंज के नगला धीमर गांव में मंगलवार देर रात शराब माफिया मोती और उसके साथियों ने सिपाही देवेंद्र और दारोगा अशोक कुमार को बंदी बनाया था. हमले में एक पुलिस कांस्टेबल की मौत हो गई, जबकि एक सब-इंस्पेक्टर गंभीर रूप से घायल हो गया.

देखें : न्यूज नेशन LIVE TV

जानकारी के अनुसार, कथित रूप से शराब तस्करी गतिविधियों पर मोती नाम के एक हिस्ट्रीशीटर को संपत्ति की कुर्की के लिए दो पुलिसकर्मी कानूनी नोटिस देने गए थे, जब उनके सहयोगियों द्वारा घात लगाकर हमला किया गया, लाठी और अन्य हथियारों से हमला किया गया और बंधक बना लिया गया. एक तलाशी अभियान चलाया गया और अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को बुलाया गया, जो पुलिसकर्मी घटना स्थल से भागने में कामयाब रहे, उन्होंने अधिकारियों को सूचित किया.

यह भी पढ़ें: किसानों के जरिए 'वोटबैंक' पर कांग्रेस की नजर! सहारनपुर में आज प्रियंका गांधी की 'चुनावी' महापंचायत 

सिद्धपुरा पुलिस थाने के तहत आने वाले नगला धीमर गांव के एक खेत में दोनों पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें स्थानीय अस्पताल ले जाया गया. हालांकि, बाद में इलाज के दौरान देवेंद्र ने दम तोड़ दिया. इस दौरान आरोपी मोती धीमर का भाई ओमकार धीमर एक मुठभेड़ में मारा गया. हालांकि मोती और उसके कुछ साथी फरार हो गए. फिलहाल पुलिस आरोपियों की तलाश में जुटी है.

First Published : 10 Feb 2021, 04:53:34 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.