News Nation Logo
Banner

कल्बे सादिक का मोदी-शाह पर तीखा हमला, कहा- उनकी मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा देश

उन्होंने कहा कि आज देश में जो भी हो रहा है. वह बेहद दर्दनाक है. यह देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा.

IANS | Updated on: 25 Jan 2020, 09:56:01 AM
सीएए विरोध में फिर कल्बे सादिक की ललकार.

सीएए विरोध में फिर कल्बे सादिक की ललकार. (Photo Credit: न्यूज स्टेट)

highlights

  • ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के मौलाना डॉ. कल्बे सादिक भी सीएए विरोध में उतरे.
  • कहा - यह देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा. हालात बेहद दर्दनाक.
  • 120 मीटर लंबे बैनर पर कदमों के निशान बनाकर उस पर नो सीएए, बायकाट एनआरसी.

:

नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के खिलाफ चल रहा आंदोलन रुकने का नाम नहीं ले रहा है. लखनऊ के घंटाघर में चल रहे अंदोलन में शुक्रवार को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के उपाध्यक्ष मौलाना डॉ. कल्बे सादिक हिस्सा लेने पहुंचे. उन्होंने कहा कि देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा. कल्बे सादिक ने घंटाघर में प्रदर्शनकारियों को आने वाली दिक्कतों पर रोष जताते हुए कहा, 'मैंने आज तक कभी सिनेमा नहीं देखा, पर हर घर में उजाला है और घंटाघर पर अंधेर, जो सरकार को दिखाई नहीं दे रहा है. कोई मोदी कोई शाह हमारा भविष्य नहीं बना सकता. आज जो हमारे देश में हो रहा है वो बेहद दर्दनाक है.'

यह भी पढ़ेंः Twitter ने कपिल मिश्रा का विवादित ट्वीट हटाया, चुनाव आयोग ने दिया था निर्देश

देश के हालात बेहद दर्दनाक
उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि आज देश में जो भी हो रहा है. वह बेहद दर्दनाक है. यह देश मोदी-शाह की मर्जी से नहीं, संविधान से चलेगा. विरोध प्रदर्शन में अपने चार साल के मासूम के साथ शामिल शाइस्ता से उनकी राय जानी तो उनका बस एक ही कहना था कि देश के इतने सारे नागरिक बीते कई दिनों से सड़क पर हैं, हम सब देश के संविधान की मूल भावना पर इस चोट को बर्दाश्त नहीं करेंगे. तहजीब और पर्दे में रहने वाली हम मुस्लिम महिलाओं को सड़क पर लोकतंत्र के मूलभूत ढांचे के लिए बेपर्दा होना पड़ रहा है, इससे ज्यादा लोकतंत्र के लिए काला दिन क्या होगा.

यह भी पढ़ेंः फांसी टलवाने के लिए निर्भया के दोषी आजमा रहे सभी हथकंडे, अब...

120 मीटर लंबा बैनर
इस मौके पर अरीशा सादिक, खतीजा और अकबर सादिक ने 120 मीटर लंबे बैनर पर कदमों के निशान बनाकर उस पर नो सीएए, बायकाट एनआरसी लिख विरोध दर्ज कराया. नौवीं कक्षा से लेकर स्नातक तक की छात्राओं की मेहनत से बना बैनर प्रदर्शन स्थल पर लगाया गया है. गौरतलब है कि लखनऊ में चल रहे सीएए विरोधी धरना-प्रदर्शन को मिनी शाहीन बाग करार दिया जा रहा है. हालांकि योगी सरकार ने धरना-प्रदर्शन के पहले प्रदर्शनकारियों को कड़ी चेतावनी जारी की थी.

First Published : 25 Jan 2020, 09:56:01 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो