News Nation Logo

अयोध्या: मस्जिद निर्माण के लिए IICF ट्रस्ट ने जारी किया लोगो, जानिए क्या है खासियत

अरबी में 'रब' का अर्थ एक चौथाई है और 'हिज्ब' का मतलब एक समूह या पार्टी है. दरसअल, 60 हिज्बों में विभाजित की गई कुरान को याद करने का यह आसान तरीका है.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 23 Aug 2020, 05:14:05 PM
iicf

आईआईसीएफ लोगो (Photo Credit: न्यूज नेशन)

नई दिल्‍ली:

अयोध्या में बाबरी मस्जिद की जगह वैकल्पिक मस्जिद के निर्माण के लिए उत्तर प्रदेश केंद्रीय सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा गठित ट्रस्ट इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन (आईआईसीएफ) ने अपना आधिकारिक लोगो जारी कर दिया है. शनिवार को जारी किया गया यह लोगो बहुभुजी आकार का है. मस्जिद ट्रस्ट के सचिव अतहर हुसैन ने कहा कि यह लोगो एक इस्लामी प्रतीक रब-अल-हिज्ब है. उन्होंने बताया, अरबी में 'रब' का अर्थ एक चौथाई है और 'हिज्ब' का मतलब एक समूह या पार्टी है. दरसअल, 60 हिज्बों में विभाजित की गई कुरान को याद करने का यह आसान तरीका है. इस प्रतीक का उपयोग अरबी कैलिग्राफी में अध्याय को चिन्हित करने के लिए मार्कर के तौर पर किया जाता है. 

शनिवार को ट्रस्ट के सचिव और सदस्यों ने जिला प्रशासन से धनीपुर में मिली 5 एकड़ जगह का निरीक्षण भी किया था. साथ ही सचिव अतहर हुसैन और ट्रस्टी इमरान अहमद शिबली समेत ट्रस्ट के अन्य सदस्यों ने धनीपुर और आसपास के गांवों के मौलवियों और मुस्लिम समुदाय के लोगों से मुलाकात की थी. इस दौरान ग्रामीणों ने मस्जिद और अन्य सार्वजनिक सुविधाओं के निर्माण में पूरा सहयोग देने की बात कही.

यह भी पढ़ें-अयोध्या में नई मस्जिद का दो महीने तक नहीं शुरू हो सकेगा काम, वजह है इस्लामिक मान्यता

बता दें कि ट्रस्ट इस जमीन पर मस्जिद के अलावा एक मल्टी-स्पेशिलिटी हॉस्पिटल, एक सामुदायिक रसोईघर और लाइब्रेरी का निर्माण करेगा, जिनका उपयोग सभी समुदाय के लोग कर सकेंगे. वहीं, मस्जिद के नाम को लेकर ट्रस्ट पहले ही घोषणा कर चुका है कि मस्जिद बाबर के नाम पर नहीं होगी. इस प्रतिनिधिमंडल ने धनीपुर से सटे जैन धर्म के 15वें र्तीथकर के प्राचीन जैन मंदिर श्री जैन श्वेतांबर मंदिर रौनाही रत्नापुरी का भी दौरा किया.

यह भी पढ़ें-अयोध्या में मस्जिद के लिए जमीन पर मिला कब्जा, मेड़बंदी जल्द ही 

जानिए क्या है इस लोगो की खासियत
इंडो-इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन के सचिव अतहर हुसैन ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि, यह एक ऑक्टाग्राम के आकार का एक इस्लामी प्रतीक है. इंडो इस्लामिक आर्किटेक्चर में इसका इस्तेमाल रहा है. अगर हम इस प्रतीक के मिसाल की बात करें तो दिल्ली में बना हुमायूं का मकबरा इसी प्रतीक से मिलता जुलता बना है. मुगल बादशाह हुमायूं के मकबरे में यहे एक जाली के रुप में इस्तेमाल किया गया है. कुरान के अध्यायों की समाप्ति पर भी इस आकृति का इस्तेमाल है. अरबी में इसे 'द रूब अल हिज्ब' कहा जाता है. इसे इस्लामिक झंडे पर भी प्रयोग किया जाता है. अरबी में, रूब का अर्थ है एक चौथाई जबकि हिज्ब का मतलब एक समूह या पार्टी है.

मस्जिद के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जमीन देने का निर्देश दिया था
आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में ही बीते 9 नवंबर को अयोध्या के विवादित स्थल पर राम मंदिर का निर्माण कराने और उत्तर प्रदेश सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को मस्जिद के निर्माण के लिए अयोध्या में किसी प्रमुख स्थान पर 5 एकड़ जमीन देने का आदेश जारी किया था. बोर्ड ने इस जमीन पर मस्जिद के अलावा इंडो इस्लामिक रिसर्च सेंटर, एक अस्पताल, कम्युनिटी किचन, पुस्तकालय और म्यूजियम बनाने का फैसला किया था. इसके लिए इंडो इस्लामिक कल्चरल फाउंडेशन नामक ट्रस्ट बनाया गया है जो मस्जिद तथा अन्य इमारतों का निर्माण करवाएगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 23 Aug 2020, 04:37:26 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.