News Nation Logo
Banner

नोएडा की तरह ही अब लखनऊ में आया 'होमगार्ड हाजिरी घोटाला', एक गिरफ्तार

नोएडा में हुए होमगार्ड घोटाले की जांच अभी पूरी भी नहीं हो पाई थी कि लखनऊ में भी होमगार्डों का घोटाला सामने आया है.

न्यूज स्टेट ब्यूरो | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 21 Nov 2019, 09:26:44 AM
लखनऊ में सामने आया होमगार्ड्स घोटाला।

लखनऊ:  

नोएडा में हुए होमगार्ड घोटाले की जांच अभी पूरी भी नहीं हो पाई थी कि लखनऊ में भी होमगार्डों का घोटाला सामने आया है. लखनऊ के गुडम्बा और विभूतिखंड थाने में भी मस्टररोल में ज्यादा होमगार्डस की ड्यूटी दिखाकर या गैरहाजिर को उपस्थित दिखाकर उनका वेतन निकालने का मामला सामने आया है. शासन के आदेश पर होमगार्ड्स मुख्यालय के DIG मामले की जांच करेंगे. मस्टर रोल में हेरफेर करके होमगार्डस की ड्यूटी लगाने के मामले में घोटाला करके 4 लाख 99 हज़ार रुपये के गबन के आरोपी जिला कमांडेंट होमगार्डस लखनऊ कृपाशंकर पांडे को लखनऊ पुलिस ने गिरफ्तार किया है. जुलाई-अगस्त में 23 होमगार्डस की जगह सिर्फ 8 को ड्यूटी पर लगाया और मस्टररोल में 23 होमगार्डस की उपस्थिति दिखाई. 15 होमगार्डस का वेतन फर्जी तरीके से खुद हड़प लिया.

पांच अधिकारी गिरफ्तार

नोएडा के गौतमबुद्ध नगर जिले में होमगार्डों की ड्यूटी लगाने के मामले में हुए करोड़ों रुपये के घोटाले के संबंध में नोएडा पुलिस की अपराध शाखा ने होमगार्ड विभाग के पांच अधिकारियों को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया. गौतमबुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण ने बताया कि ऐसा पता चला था कि ड्यूटी से नदारद रहने वाले होमगार्डों की फर्जी तरीके से हाजिरी लगाकर होमगार्ड विभाग के अधिकारियों ने करोड़ों रुपये का घोटाला किया है.

यह भी पढ़ें- पराली जलाने पर 11 किसानों को जेल भेजा, 300 को नोटिस, 13 लाख का जुर्माना

उन्होंने बताया कि इस मामले में उनके स्तर से एक जांच करायी गई थी. जांच की रिपोर्ट दो माह पूर्व शासन को भेजी गई थी. शासन ने भी इस मामले की जांच के लिए चार सदस्यीय कमेटी बनाई थी. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि इस मामले में 13 नवंबर को थाना सूरजपुर में होमगार्ड विभाग के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज हुआ था. उन्होंने बताया कि इस मामले की जांच पुलिस कर रही थी.

घोटाले को छुपाने की कोशिश

इसी बीच, 18 नवंबर की रात को जिला कलेक्टर स्थित जिला होमगार्ड कमांडेंट के कार्यालय में आग लग गई जिससे उक्त घोटाले से संबंधित दस्तावेज नष्ट हो गए. वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामले की जांच कर रही अपराध शाखा ने वर्तमान संभागीय कमांडेंट एचजी राम नारायण चौरसिया, असिस्टेंट कंपनी कमांडर सतीश, प्लाटून कमांडर मोंटू तथा सतवीर और शैलेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है.

यह भी पढ़ें- BHU विवाद: फिरोज खान ने तोड़ी चुप्पी, कहा 'पूरा परिवार करता है भगवान कृष्ण की पूजा'

उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पता चला है कि ये लोग ड्यूटी से गैरहाजिर रहने वाले होमगार्डों के मस्टररोल में हेरफेर कर उनका पूरा वेतन बैंक से निकाल लेते थे. आग लगने की घटना को साजिश माना जा रहा है. गुजरात से आई फॉरेंसिक टीम ने बुधवार को जांच की.

First Published : 21 Nov 2019, 07:52:18 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.