News Nation Logo
Banner

अखिलेश यादव ने कहा योगी सरकार ने यूरिया का वजन कम कर दिया, ये है सच्चाई

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव कई बार योगी सरकार और मोदी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं कि यूरिया का वजन कम कर दिया गया. किसानों को पहले 50 किलो यूरिया मिलता था जो अब सिर्फ 45 किलो है. तो क्या सच में सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है? आइए जानते हैं क्या है इस दावे की सच्चाई?

News Nation Bureau | Edited By : Yogendra Mishra | Updated on: 20 Apr 2019, 01:40:41 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली:

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव कई बार योगी सरकार और मोदी सरकार पर निशाना साधते रहे हैं कि यूरिया का वजन कम कर दिया गया. किसानों को पहले 50 किलो यूरिया मिलता था जो अब सिर्फ 45 किलो है. तो क्या सच में सरकार ने किसानों के साथ धोखा किया है? आइए जानते हैं क्या है इस दावे की सच्चाई? अखिलेश यादव के द्वारा लगाए गए आरोपों को जांचने परखने के लिए न्यूज स्टेट की टीम ने गोरखपुर की साधन सहकारी समिति का जायजा लिया. यहां जो तथ्य पता चला वो चौंकाने वाला था.

यह भी पढ़ें- हावड़ा से नई दिल्ली जा रही पूर्वा एक्सप्रेस पटरी से उतरी, हादसे के बाद कई ट्रेनें हुई रद्द और डायवर्ट

यूरिया खाद का वजन सच में पांच किलो घटा दिया गया है. लेकिन 50 किलो की जो बोरी 325.50 रुपये में मिलती थी, वो अब 266.50 रुपये में मिलती है. यानी पहले 6 रुपये 25 पैसे प्रति किलो मिलने वाला यूरिया आज 5 रुपये 90 पैसे में मिलता है. वजन घटाने के साथ ही सरकार ने इसके दाम भी घटाए हैं.

यह भी पढ़ें- गर्भवती महिलाओं के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दिया बड़ा आदेश, आप भी जान लीजिए

साधन सहकारी समिति के सचिव के मुताबिक वजन घटाने से किसानों पर कोई फर्क नहीं पड़ा है. अगर किसानों को 5-10 किलो खाद की अलग से जरूरत होती है तो खुले में सरकारी रेट पर उपलब्ध करा दिया जाता है. यूरिया के वजन को लेकर कुछ किसानों ने बताया कि खेती पर कोई विशेष असर नहीं पड़ा है. वजन कम होने से खेतों में यूरिया का कम इस्तेमाल करते हैं और जैविक खेती पर ज्यादा ध्यान देते हैं.

First Published : 20 Apr 2019, 01:37:51 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो