News Nation Logo

Dy SP अमरेश सिंह बघेल 13 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में, बलात्कार केस में सांसद को मदद पहुंचाने का आरोप

वरुणा की टीम अमरेश सिंह बघेल को वाराणसी लेकर पहुंची और देर रात लंका थाने में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. आत्महत्या के दुष्प्रेरण समेत कई धाराओं में ये एफआईआर दर्ज की गई है.

News Nation Bureau | Edited By : Pradeep Singh | Updated on: 30 Sep 2021, 06:13:34 PM
Dy SP Amresh singh baghel

डिप्टी एसपी अमरेश सिंह बघेल (Photo Credit: News Nation)

highlights

  • अमरेश सिंह बघेल पर सीओ भेलूपुर रहने के दौरान सांसद अतुल राय की मदद करने का आरोप
  • युवती ने 1 मई, 2019 को लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था 
  • अमरेश सिंह बघेल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया

नई दिल्ली:

जिला सत्र अदालत, वाराणसी ने डिप्टी एसपी अमरेश सिंह बघेल को 13 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. उन्हें कल देर रात वाराणसी अपराध शाखा द्वारा बाराबंकी टोल प्लाजा से गिरफ्तार कर वाराणसी लाया गया था. आरोप है कि सीओ भेलूपुर रहते हुए उन्होंने बसपा सांसद अतुल राय की मदद करने के लिए अपने पद का दुरुपयोग किया था. बसपा सांसद अतुल राय बलात्कार के एक मामले में आरोपी हैं.आरोप है कि  उक्त बलात्कार प्रकरण की जांच आख्या में अनुचित टिप्पणी सीओ अमरेश सिंह बघेल ने की थी.

बहुजन समाज पार्टी (BSP) के सांसद अतुल राय पर दुष्कर्म (Rape) का मुकदमा दर्ज कराने वाली युवती और उसके गवाह द्वारा सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह करने के मामले में वाराणसी के तत्कालीन डिप्टी एसपी अमरेश सिंह बघेल को गिरफ्तार कर लिया गया है. आज उन्हें न्यायालय में पेश किया गया, जहां से अमरेश सिंह बघेल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया. डिप्टी एसपी अमरेश सिंह बघेल पर सीओ भेलूपुर रहने के दौरान बलात्कार केस की जांच में सांसद अतुल राय की मदद करने का आरोप है. 

एडीसीपी, वरुणा की टीम गिरफ्तार करने के बाद अमरेश सिंह बघेल को वाराणसी लेकर पहुंची और देर रात लंका थाने में उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया. आत्महत्या के दुष्प्रेरण समेत कई धाराओं में ये एफआईआर दर्ज की गई है.

यह भी पढ़ें: मनीष मर्डर केस: पीड़ित परिवार से मिले CM योगी, पत्नी को KDA में OSD पद पर मिलेगी नौकरी

बता दें कि पूरी रात कमिश्नर ए सतीश गणेश के नेतृत्व में एडीसीपी वरुणा प्रबल प्रताप सिंह ने पूछताछ की और सुबह उन्हें मेडिकल परीक्षण के लिए जिला अस्पताल भेजा गया. बाद में पुलिस ने उन्हें न्यायालय में पेश किया, जहां से बघेल को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया.

बता दें कि बीती 16 अगस्त को पीड़ित युवती और मामले में गवाह युवती के दोस्त सत्यम राय ने सुप्रीम कोर्ट के बाहर आत्मदाह किया था. इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई. युवती ने 1 मई, 2019 को वाराणसी के लंका थाने में अतुल राय के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया था और इस मामले में अतुल राय 22 जून 2019 से जेल में बंद है. आरोप है कि प्रकरण की जांच आख्या में अनुचित टिप्पणी सीओ अमरेश सिंह बघेल ने की थी. आत्मदाह मामले की जांच 2 सदस्यीय एसआईटी टीम कर रही है. इस टीम में डीजी पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड डॉक्टर आरके विश्वकर्मा और एडीजी महिला और बाल सुरक्षा संगठन मीरा रावत शामिल हैं.

First Published : 30 Sep 2021, 06:12:57 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.