News Nation Logo
Banner

सीबीआई ने महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच अपने हाथ में ली, जांच टीम बनाई  

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच सीबीआई ने संभाल ली है. इसके लिए जांच टीम गठित कर दी गई.

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 24 Sep 2021, 12:33:18 PM
mahant narendra giri

Mahant Narednra giri (Photo Credit: File Photo)

highlights

  • सीबीआई की टीम गुरुवार को प्रयागराज पहुंची थी
  • योगी सरकार ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी
  • शिव सेना समेत कई विपक्षी दलों ने उठाई थी सीबीआई जांच की मांग

प्रयागराज:  

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की मौत की जांच सीबीआई ने संभाल ली है. इसके लिए जांच टीम गठित कर दी गई. एजेंसी ने 6 सदस्यीय टीम का गठन किया है। सीबीआई द्वारा गठित यह टीम प्रयागराज के लिए रवाना भी हो चुकी है. महंत की कथित मौत मामले में सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर ली है और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट, साक्ष्य और प्रयागराज पुलिस द्वारा दर्ज किए गए बयानों सहित मामले के दस्तावेज लेगी. योगी आदित्यनाथ सरकार ने बुधवार देर रात महंत की मौत की केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) से जांच कराने की सिफारिश की थी. कांग्रेस और शिवसेना समेत विपक्षी दलों ने सीबीआई जांच की मांग उठाई थी. कुछ संतों और हिंदू धर्मगुरुओं ने भी महंत नरेंद्र गिरी की मौत की सीबीआई जांच की मांग की थी.  इससे पहले प्रयागराज एसएसपी ने मामले की जांच के लिए 18 सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया था. महंत नरेंद्र गिरि को श्रद्धांजलि देने प्रयागराज पहुंचे मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा था कि मामले को जल्द सुलझा लिया जाएगा.

यह भी पढ़ें : महंत की मौत की जांच के लिए प्रयागराज पहुंची सीबीआई टीम

महंत नरेंद्र गिरि सोमवार को अपने मठ के एक कमरे में मृत पाए गए थे. पुलिस के मुताबिक, गिरि ने कथित तौर पर पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली थी. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष और श्रीमठ बाघंबरी गद्दी के महंत नरेंद्र गिरि को बुधवार को पूर्ण विधि-विधान से समाधि दी गई. महंत नरेंद्र गिरि ने कथित तौर पर प्रयागराज के बाघंबरी मठ में आत्महत्या करके अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली थी और अपने पीछे एक 7-पृष्ठ का सुसाइड नोट छोड़ दिया था, जो एक तरह की वसीयत भी है. राज्य सरकार ने उन परिस्थितियों की जांच के लिए मंगलवार को 18 सदस्यीय विशेष जांच दल (एसआईटी) का भी गठन किया था, जिसके कारण संत की मौत हुई थी. एसआईटी सूत्रों के मुताबिक, नरेंद्र गिरि के फोन की कॉल डिटेल की जांच में अब पता चला है कि महंत नरेंद्र गिरि ने हरिद्वार के कुछ प्रॉपर्टी डीलरों को कई कॉल किए और प्राप्त किए। कथित तौर पर बाघंबरी मठ की हरिद्वार में काफी संपत्ति है। सूत्रों ने बताया कि एसआईटी ने प्रॉपर्टी डीलरों समेत 18 लोगों को पूछताछ के लिए तलब किया जा चुका है. महंत की मौत के तुरंत बाद ली गई एक वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी. वीडियो में, महंत द्वारा कथित तौर पर अपनी जीवन लीला समाप्त करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली पीली नायलॉन की रस्सी को तीन भागों में कटा हुआ देखा जा सकता है.

First Published : 24 Sep 2021, 11:22:31 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.