News Nation Logo

अब संगम नगरी प्रयागराज के गंगा घाट में मिले शव

कोविड से मौतों के आंकड़े बढ़ने से श्रृंगवेरपुर घाट पर हर दिन सैकड़ों की संख्या में शवों के आने का सिलसिला शुरू हो गया. जिससे श्रृंगवेरपुर घाट पर दाह संस्कार के लिए लकड़ियों की भारी कमी हो गई.

Written By : मानवेंद्र सिंह | Edited By : Ritika Shree | Updated on: 15 May 2021, 02:31:04 PM
Dead bodies in Prayagraj

Dead bodies in Prayagraj (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • डेढ़ महीने में हजारों शवों को गंगा नदी के किनारे रेत में दफन
  • शवों को दफन कर चारों ओर बांस की घेराबंदी कर दी गई है

उत्तर प्रदेश:

यूपी में उन्नाव, कन्नौज, कानपुर और रायबरेली के बाद अब संगम नगरी प्रयागराज में भी गंगा नदी के किनारे शवों को रेत में दफनाए जाने का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. भगवान राम और निषादराज गुह की मिलन स्थली ऋंगवेरपुर धाम में गंगा के किनारे बीते करीब डेढ़ महीने में हजारों शवों को गंगा नदी के किनारे रेत में दफन कर दिया गया है. इसके साथ ही अभी भी शवों को रेत में दफनाए जाने का सिलसिला जारी है. शवों को दफन कर चारों ओर बांस की घेराबंदी कर दी गई है. ताकि लोगों को पता चल सके कि यहां पर शव को दफन किया गया है. हालांकि हिंदू धर्म में शवों के दाह संस्कार की ही परंपरा है. ऋंगवेरपुर धाम में प्रयागराज के अलावा प्रतापगढ़, सुल्तानपुर और फैजाबाद जिलों के शवों का अंतिम संस्कार किया जाता है. कोरोना की सेकंड वेब से पहले यहां पर प्रतिदिन 50 से 60 शवों का दाह संस्कार किया जाता था. लेकिन अप्रैल माह में जब कोविड से मौतों के आंकड़े बढ़े तो श्रृंगवेरपुर घाट पर हर दिन सैकड़ों की संख्या में शवों के आने का सिलसिला शुरू हो गया. जिससे श्रृंगवेरपुर घाट पर दाह संस्कार के लिए लकड़ियों की भारी कमी हो गई और लकड़ी ठेकेदारों ने भी लोगों से दाह संस्कार के लिए ज्यादा पैसे वसूलने शुरू कर दिए. 

जिसके बाद लोगों ने मजबूरी में दाह संस्कार के बजाय शवों को दफनाना शुरू कर दिया. ऋंगवेरपुर धाम में गंगा नदी के घाट पर जिस ओर नजर जा रही है शव दफनाये गये हैं. दफनाये गये शवों को जहां किसी जानवरों द्वारा निकाले जाने की आशंका बनी हुई है. वहीं जून-जुलाई में गंगा का जलस्तर बढ़ने से शवों के रेत से बाहर निकलने की आशंका जताई जा रही है. हांलाकि यह साफ नहीं है कि दफनाए जा रहे शवों में मौत कोरोना की वजह से हुई है या फिर सामान्य मौतें हुई हैं. लेकिन अभी भी प्रयागराज के ऋंगवेरपुर घाट पर शवों को दफनाए जाने को लेकर प्रशासन पूरी तरह से लापरवाह बना हुआ है. जबकि सीएम योगी आदित्यनाथ ने गंगा नदी के किनारे शवों को दफनाया जाने को लेकर एसडीआरएफ और जल पुलिस, को गंगा नदी के किनारे पेट्रोलिंग का भी निर्देश दिया है. इसके साथ ही साथ जो लोग शवों का दाह संस्कार करने में सक्षम नहीं है उन शवों का प्रशासन की ओर से अंतिम संस्कार कराए जाने की भी आदेश दिए हैं. इसके बावजूद संगम नगरी में सीएम योगी आदित्यनाथ के इस आदेश का अनुपालन नहीं हो रहा है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 15 May 2021, 02:31:04 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.