News Nation Logo

बढ़ती कोरोना मौतों के बीच वाराणसी में मणिकर्णिका घाट का होगा विस्तार

सबसे पवित्र श्मशान घाटों में से एक मणिकर्णिका घाट का अब तीन प्लेटफार्मों पर 18 और चिता के तख्ते के साथ विस्तार किया जा रहा है.

By : Nihar Saxena | Updated on: 11 Jun 2021, 12:54:28 PM
Manikarnika Ghat

केवी धाम परियोजना के तहत मणिकर्णिका घाट का जीर्णोद्धार. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • जीर्णोद्धार 18 नए चिता के फ्रेम के साथ होगा
  • ग्रीनटोरियम में शव जलाने में बचेगी लकड़ी
  • शवों की कतार से मिल सकेगा छुटकारा

वाराणसी:

वाराणसी में कोविड के कारण मौतों की संख्या बढ़ने से सबसे पवित्र श्मशान घाटों में से एक मणिकर्णिका घाट का अब तीन प्लेटफार्मों पर 18 और चिता के तख्ते के साथ विस्तार किया जा रहा है. फिलहाल काशी विश्वनाथ धाम (कॉरिडोर) परियोजना के तहत दो हरे श्मशान, जिन्हें ग्रीनटोरियम भी कहा जाता है, उनको भी स्थापित किया जा रहा है. केवी धाम परियोजना को क्रियान्वित करने वाली कंपनी ने युद्ध स्तर पर श्मशान घाट पर विस्तारित प्लेटफार्मों की रिटेनिंग दीवारों के निर्माण सहित सिविल कार्य शुरू कर दिया है. मणिकर्णिका घाट और उसके पुराने प्लेटफार्मों की ओर जाने वाली सीढ़ियों सहित पुराने ढांचे को ध्वस्त कर दिया गया है. महामारी की दूसरी लहर में मौतों की संख्या में अप्रत्याशित वृद्धि देखी गई है, जिससे दाह संस्कार के लिए लंबी कतारें लग गई हैं. श्मशान सुविधाओं के विस्तार के साथ, लोगों को अब अंतिम संस्कार करने के लिए कतारों में इंतजार नहीं करना पड़ेगा.

संभागायुक्त दीपक अग्रवाल ने कहा, 'केवी धाम परियोजना के तहत मणिकर्णिका घाट का जीर्णोद्धार 18 नए चिता के फ्रेम के साथ किया जा रहा है. जीर्णोद्धार की लागत केवी धाम परियोजना के कुल लागत बजट 339 करोड़ रुपये में शामिल है, जो सभी निर्माण कार्यों के लिए स्वीकृत है. इस परियोजना के 15 नवंबर तक पूरा होने की संभावना है.' वाराणसी के जिला मजिस्ट्रेट कौशल राज शर्मा ने कहा, 'गंगा तट के किनारे पारंपरिक रूप से शवों का अंतिम संस्कार करने के लिए प्रत्येक नीचे तीन प्लेटफार्मों पर छह नए चिता फ्रेम बनाए जाएंगे. पूरा होने के बाद इसे डोम राजा परिवार को सौंप दिया जाएगा.' उन्होंने कहा कि इससे बाढ़ के मौसम में असंगठित तरीके से और घाटों के पास जमा गाद पर शवों को जलाने की प्रथा समाप्त हो जाएगी. दो ग्रीनटोरियम भी बनाए जा रहे हैं.

नगर आयुक्त गौरांग राठी ने कहा, 'ग्रीनटोरियम में बिजली की भट्टियों में जलाने के लिए लकड़ी पर शरीर स्थापित करने की सुविधा शामिल है. यह लोगों को चिता पर पारंपरिक अनुष्ठान करने में सक्षम बनाएगा. यह लकड़ी के उपयोग को 80 प्रतिशत तक कम करता है, मणिकर्णिका घाट पर ग्रीनटोरियम की स्थापना के लिए स्थल को जल्द ही अंतिम रूप दिया जाएगा.' बाबा शमशान नाथ मंदिर सेवा समिति के प्रबंधक गुलशन कपूर के नेतृत्व वाले एक समूह सहित कुछ समूहों ने मणिकर्णिका घाट पर विद्युत शवदाह गृह का विरोध किया है. उन्होंने दावा किया है कि 'शास्त्र' इसकी अनुमति नहीं देते हैं.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 11 Jun 2021, 12:54:28 PM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.