News Nation Logo
Banner

'बच्चा चोरी' की अफवाह फैलाने और हमला करने वालों की खैर नहीं, अब रासुका के तहत होगी कार्रवाई

सूबे की सियासत और उत्तर प्रदेश पुलिस में भूचाल लाने वाले कथित बच्चा चोरी पिटाई कांड जैसी घटनाओं में शामिल पाए जाने वालों की अब खैर नहीं होगी.

By : Dalchand Kumar | Updated on: 29 Aug 2019, 10:19:18 AM
डीजीपी ओपी सिंह (फाइल फोटो)

डीजीपी ओपी सिंह (फाइल फोटो)

लखनऊ:

सूबे की सियासत और उत्तर प्रदेश पुलिस में भूचाल लाने वाले कथित बच्चा चोरी पिटाई कांड जैसी घटनाओं में शामिल पाए जाने वालों की अब खैर नहीं होगी. समाज में भय फैलाने वाली ऐसी बे-सिर-पैर की घटनाओं को बढ़ावा देने और अंजाम देने वालों को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत कार्रवाई कर जेल भेज दिया जाएगा. जिससे आरोपी कम से कम एक साल तक तो जेल से बाहर न आ सके. इन तमाम घटनाओं को लेकर सूबे के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओम प्रकाश सिंह ने यह जानकारी दी.

यह भी पढ़ेंः मथुरा: पुलिस ने नहीं सुनी फरियाद तो दंपति ने थाने में खुद को लगाई आग, दिल्ली रेफर, डीजीपी ने मांगी रिपोर्ट

पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओम प्रकाश सिंह ने कहा कि ऐसी घटनाओं ने कानून-व्यवस्था के लिए जो परेशानी पैदा की है, वो तो है ही, ऐसे लोग समाज में भी बे-वजह भय फैला रहे हैं. साथ ही इन घटनाओं में यह भी देखने में आ रहा है कि बेकसूर लोग ही पिस रहे हैं. उन्होंने कहा, 'ऐसे अपराधियों से निपटने के लिए मैंने राज्य के सभी जिलों के पुलिस अधीक्षकों (एसपी) को इन घटनाओं में शामिल लोगों पर सीधे रासुका के तहत केस दर्ज करके उन्हें जेल भेजने का निर्देश दिया है, क्योंकि रासुका के तहत गिरफ्तार किए जाने के बाद ऐसे लोग कम से कम एक साल तक तो जेल से बाहर नहीं आ पाएंगे.'

उन्होंने हालांकि बच्चा चोरी में बेकसूरों को पीटे जाने के पीछे किसी सोची समझी साजिश की संभावना से इंकार करते हुए कहा, 'नहीं यह कोई साजिश नहीं. यह महज एक गलत के पीछे-पीछे बाकी सौ के भी चल देने जैसा है. इस तरह की घटनाओं में अब तक यही देखा गया है कि, ये घटनाएं अमूमन किसी भी शहर की नई बसी बस्तियों-कालोनियों में ही हो रही हैं.' पुलिस महानिदेशक ने आगे कहा कि जो लोग घटना में शामिल पाए जाएंगे उन पर तो रासुका लगेगी ही, साथ ही जो इन अफवाहों को सोशल मीडिया पर वायरल करके माहौल खराब करने की कोशिश करेंगे, उनसे भी घटना में शामिल अपराधियों की तरह ही सख्त कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ेंः UP पुलिस की एक और लापरवाही, मथुरा के बाद बरेली में अधेड़ ने SSP दफ्तर में जहर खाकर दी जान

उल्लेखनीय है कि उत्तर प्रदेश में ही अलग अलग स्थानो पर हुई करीब ऐसी 20 से ज्यादा घटनाओं में अब तक 45 से ज्यादा आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है. एटा में भीड़ ने बच्चा चोरी के शक में हिमाचल प्रदेश की एक महिला पर हमला कर दिया था. बीते 11 अगस्त को गोंडा में तो अराजक तत्वों ने हद ही पार कर दी और बच्चा चोरी के शक में एक महिला को पेड़ से बांधकर बुरी तरह पीटा गया. अमरोहा में भी एक ऐसी ही घटना घटी.

जौनपुर में तो गांव वालों ने मानसिक रुप से कमजोर महिला को ही पीट दिया और पिटाई का वीडियो भी वायरल कर दिया. जौनपुर की घटना पर पुलिस महानिदेशक ने कहा कि इस तरह की घटनाओं का सोशल मीडिया के जरिये प्रचार-प्रसार करना भी घटना में शामिल करने से कम दोष नहीं माना जायेगा. हद तो तब हो गयी जब 10 अगस्त को फिरोजाबाद जिले में बच्चा चोरी के ऐसे ही एक मामले में भीड़ ने कार सवार दो महिलाओं और दो पुरुषों को भी शिकार बना डाला. इतना ही नहीं, भीड़ ने कार तक क्षतिग्रस्त कर दी. इस तरह की मारपीट की खबरें प्रदेश के बलरामपुर, गाजियाबाद, अलीगढ़, बरेली, मथुर, बुलंदशहर और बिजनौर जिलों से भी खूब आई हैं.

यह वीडियो देखेंः 

First Published : 29 Aug 2019, 10:19:18 AM

For all the Latest States News, Uttar Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×