logo-image
लोकसभा चुनाव

Karnataka Politics: कर्नाटक सरकार के नए कानून पर बवाल, केंद्रीय मंत्री ने हिंदू विरोधी कहा

Karnataka Politics: केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कांग्रेस नेता राहुल और कर्नाटक की सरकार को आड़े हाथ लिया हैं. इसमें कहा कि कर्नाटक सरकार द्वारा लाया गया नया कानून तुष्टिकरण की राजनीति का सबसे न्यूनतम स्तर है.

Updated on: 22 Feb 2024, 05:42 PM

नई दिल्ली:

Karnataka Politics: केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर  ने गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी और कर्नाटक की सरकार पर निशाना साधा है. दरअसल कर्नाटक सरकार ने कर्नाटक हिंदू धार्मिक संस्थान और धर्मार्थ बंदोबस्ती विधेयक 2024 को पास कर दिया है. इसके बिल के मुताबिक राज्य उन सभी मंदिरों से 10 प्रतिशत टैक्स वसूल करेगी जो सलाना 1 करोड़ से अधिक रेवेन्यू जेनरेट करते हैं वहीं 10 लाख से लेकर 1 करोड़ तक के लिए ये 5 प्रतिशत टैक्स होगा. केंद्रीय मंत्री ने कहा कि तुष्टिकरण की राजनीति का न्यूनतम स्तर है. 

केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने कांग्रेस नेता राहुल और कर्नाटक की सरकार को आड़े हाथ लिया हैं. इसमें कहा कि कर्नाटक सरकार द्वारा लाया गया नया कानून तुष्टिकरण की राजनीति का सबसे न्यूनतम स्तर है. ये कानून सिर्फ सीएम सिद्धारमैया और राज्य के उप मुख्यमंत्री डीके शिवकुमार के खाते को भरने के लिए लाया गया है. एक और राहुल भारत जोड़ो यात्रा लेकर पूरे भारत में घूम रहे हैं वहीं उनकी कर्नाटक की सरकार कर्नाटक हिंदू धार्मिक संस्थान और धर्मार्थ बंदोबस्ती विधेयक 2024 जैसे बिल लेकर आई है. 

मंदिरों पर बुरी नजर

इस बिल के विरोध में वीडियो मैसेज के जरिए कहा कि हम इस नए कानून का विरोध करेंगे. भारतीय जनता पार्टी इस बिल का विरोध करती है इसके साथ ही राज्य सरकार हिंदू विरोधी नीति लागू करने पर लगी है. इस मामले पर कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष विजेंद्र येदुरप्पा का कहना है कि राज्य सरकार ये बिल अपना खजाना भरने के लिए लेकर आई है. आगे कहा कि ये सरकार भ्रष्ट, अयोग्य और लूट की सरकार करार दिया है. उन्होंने कहा कि धर्मनिरेपक्षता की आड़ में सरकार हिंदू विरोधी विचारधारा की नीति अपना चुकी है इतना ही नहीं अब उसकी बुरी नजर मंदिरों पर भी हो गया है.

केंद्रीय मंत्री ने एक्स पर लिखा हिंदू धार्मिक बंदोबस्ती संशोधन एक्ट के जरिए अपने खाली खजाने को भरने के लिए हिंदू मंदिरों, धार्मिक संस्थाओं के दान के साथ-साथ प्रसाद को भी छीनने की कोशिश में लग गई है. इसके बाद राज्य सरकार से सवाल पूछा कि ये नियम सिर्फ हिंदू धर्म के लिए ही क्यों बाकी धर्मों के आय पर क्यों नहीं. 

मंत्री का बयान

सवाल उठने के बाद कर्नाटक के मंत्री बीजेपी इस पर राजनीति कर रही है. वो कांग्रेस को हिंदू विरोधी साबित करने की कोशिश कर रही. मंत्री ने आगे कहा कि कांग्रेस सालों से मंदिरों और हिंदूओं का ख्याल रखा है.