logo-image
लोकसभा चुनाव

Jaipur: वेश्यावृत्ति से पहले संबंध बनाने का विरोध करने पर महिला की हत्या, दो लोग गिरफ्तार 

जयपुर की करधनी थाना पुलिस ने करधनी के क्षेत्र में नग्न हालत में एक शव बरामद किया. इस मामले को लेकर दो आरोपियों को गिरफ्तार किया.

Updated on: 05 Jun 2024, 11:42 PM

नई दिल्ली:

जयपुर की करधनी थाना पुलिस ने करधनी इलाके में सुनसान जगह पर नग्न हालत में मिली महिला के शव के मामले का पर्दाफाश किया है. इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस की जानकारी में सामने आया है कि दोनों आरोपी महिलाओं से वेश्यावृति करवाने का काम करते हैं. मृतका को भी आरोपी वेश्यावृत्ति करवाने के लिए लेकर जा रहे थे. इसी दौरान आरोपियों ने महिला को उनसे संबंध बनाने की बात कहीं तो उसने मना कर दिया. इस पर आरोपियों ने महिला को मौत के घाट उतार दिया. इसके बाद उसके शव को सुनसान स्थान पर फेंक कर फरार हो गए.

पुलिस ने बताया कि दो जून को सात नम्बर बस स्टेंड से मंगलम सिटी की तरफ जाने वाली रोड पर एक अज्ञात महिला का नग्न अवस्था में शव पड़ा मिला और उसके चेहरे पर धारदार हथियार से वार किया गया था. महिला के शरीर के अन्य भागों पर भी चोट के निशान मिले थे. मौके पर एक कार के टायरों के निशान भी मिले. इस  मामले में पुलिस ने आशाराम स्वामी और राहुल अग्रवाल को गिरफ्तार किया गया है और दोनों आरोपी वेश्यावृत्ति का काम करते है.

ये भी पढ़ें: Modi 3.O: NDA में शुरू हुई मंत्री पद की डिमांड, जानें नीतीश और शिंदे ने क्या रखी शर्तें 

वहीं  मृतका पश्चिम बंगाल की रहने वाली थी.गिरफ़्तार आरोपी आशाराम स्वामी पुलिस थाना झोटवाड़ा और मालपुरा गेट थाने में दर्ज दुष्कर्म के मामलों में जेल जा चुका है. आशाराम और राहुल अग्रवाल दोनों मिलकर वेश्यावृत्ति का काम करते है. वेश्यावृत्ति पर भेजने से पहले आरोपी महिला के साथ संबंध बनाते थे. विरोध करने पर उसके साथ मारपीट करने से लेकर हत्या तक कर देते थे. अब तक आरोपी कितनी महिलाओं को वेश्यावृत्ति के धंधे में भेज चुके है. इसकी पुलिस जानकारी जुटा रही है. 

आरोपी आशाराम स्वामी और राहुल अग्रवाल से पूछताछ में सामने आया कि 2022 में एक लड़की को वेश्यावृत्ति करवाने के लिए बुलाया, उसके साथ शारीरिक संबंध बनाने की कोशिश की गई. विरोध करने पर आरोपियों ने उसके साथ मारपीट कर हत्या कर दी. इसके बाद उसके चेहरे पर धारदार हथियार से वार कर चेहरे को कुचल दिया. इसके बाद शव को कालवाड़ में फेंक दिया था.