News Nation Logo

राहत: राजस्थान में अब फ्री होगा ब्लैक फंगस का इलाज

राजस्थान में ब्लैक फंगस को लेकर राज्य सरकार ने बड़ा फैसला किया है. राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में म्यूकोमायकोसिस (ब्लैक फंगस) के मरीजों को कोविड के ही अनुरूप नि:शुल्क उपचार प्रदान किया जाएगा.

News Nation Bureau | Edited By : Deepak Pandey | Updated on: 22 May 2021, 01:15:52 PM
CM Ashok Gehlot

राजस्थान में अब फ्री होगा ब्लैक फंगस का इलाज (Photo Credit: फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

राजस्थान में ब्लैक फंगस को लेकर राज्य सरकार ने बड़ा फैसला किया है. राजस्थान के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में म्यूकोमायकोसिस (ब्लैक फंगस) के मरीजों को कोविड के ही अनुरूप नि:शुल्क उपचार प्रदान किया जाएगा. इस बीमारी को भी चिरंजीवी योजना में शामिल कर लिया गया है. उन्होंने इस बीमारी के अर्लीडिटेक्षन की आवश्यकता प्रतिपादित करते हुए कहा कि प्रारंभिक अवस्था में ही जानकारी प्राप्त होने पर इसका उपचार संभव है और र्मोटालिटी को रोकने के साथ ही आंख निकालना जैसी समस्याओं से बचा जा सकता है. 

डॉ. रघु शर्मा ने बताया कि प्रदेश में ब्लैक फंगस के अब तक लगभग 700 मरीज चिह्नित किए जा चुके हैं. उन्होंने बताया कि विशेषज्ञ चिकित्सकों के दल द्वारा ब्लैक फंगस के उपचार का प्रोटोकॉल भी निर्धारित कर दिया गया है और सूचिबद्ध अस्पतालों को इसी प्रोटोकॉल के अनुसार उपचार करने के निर्देश दिए जा रहे हैं. राज्य सरकार द्वारा निजी चिकित्सालयों में इस बीमारी की दवाइयों एवं इसके उपचार की दरें भी निर्धारित कर दी गई हैं. 

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि ब्लैक फंगस के उपचार में ईएनटी व नेत्र रोग सहित अन्य विषेषज्ञ चिकित्सकों की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए उपचार हेतु निर्धारित पैरामीटर्स होने पर ही अस्पतालों को सूचिबद्ध किया जाएगा. प्रारंभ में 20 राजकीय व निजी अस्पतालों को इसके उपचार के लिए सूचिबद्ध किया गया है. निर्धारित पैरामीटर्स पूरा करने वाले अस्पताल आगे भी सूचिबद्ध हो सकेंगे. पहले से ही जयपुर के सवाईमानसिंह अस्पताल में इसके लिए अलग से वार्ड बनाकर निर्धारित प्रोटोकॉल व पूरी सावधानी के साथ मरीजों का उपचार किया जा रहा है. 

डॉ. शर्मा ने बताया कि विशेषज्ञ चिकित्सकों के अनुसार कोरोना के उपचार के दौरान अधिक स्टेरॉयड देने से म्यूकोमायकोसिस (ब्लैक फंगस) की आशंका को ध्यान में रखते हुए स्टेरॉयड के संबंध में निर्धारित प्रोटोकॉल की पालना करने के भी निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने बताया कि म्यूकोमायकोसिस (ब्लैक फंगस) मरीजों की संख्या में निरंतर वृद्धि और कोरोना के साइड इफेक्ट के रूप में सामने आने तथा ब्लैक फंगस एवं कोविड का समन्वित रूप से उपचार किए जाने के चलते पूर्व में घोषित महामारी कोविड-19 के अन्तर्गत ही ब्लैक फंगस को संपूर्ण राज्य में महामारी तथा नोटिफाएबल बीमारी घोषित किया जा चुका है.

चिकित्सा मंत्री ने बताया कि राज्य सरकार ने इस बीमारी के रोकथाम एवं उपचार के लिए त्रिस्तरीय व्यवस्थाएं की हैं. चिकित्सा एवं स्वास्थ विभाग की टीमों को आवश्यक प्रशिक्षण प्रदान कर प्रभावित क्षेत्रों में डोर टू डोर सर्वे के लिए भिजवाया जा रहा है. यह टीमें घर-घर जाकर स्वास्थ्य परीक्षण करेगी. उन्होंने बताया कि सर्वेक्षण के दौरान कोरोना या ब्लैक फंगस की आशंका होने पर मरीज को अग्रिम उपचार हेतु स्थानीय चिकित्सा संस्थानों में उपचार हेतु भिजवाया जाएगा. मरीज की स्थिति के अनुसार उन्हें जिला स्तरीय अथवा अन्य सूचिबद्ध अस्पतालों में उपचार हेतु भेजा जाएगा. 

डॉ. शर्मा ने बताया कि कोरोना की दवाओं की तरह केंद्र सरकार ने ब्लैक फंगस की दवा को भी नियंत्रण में ले रखा है. इसे दृष्टिगत रखते हुए दवाओं की आपूर्ति के लिए राज्य सरकार से लगातार सपंर्क में है. भारत सरकार से प्रारंभ में केवल 700 वायल ही प्राप्त हुई थी. अब लगभग 2000 वायल्स आवंटित हो चुकी है. केंद्र सरकार से मरीजों की संख्या को ध्यान में रखते हुए दवाओं का आवंटन बढ़ाने का निरंतर आग्रह किया जा रहा है. उन्होंने बताया कि राज्य सरकार ने ब्लैक फंगस के उपचार में काम आने वाली दवा लाइपोजोमल एम्फोटेरेसिन बी के 2500 वाइल खरीदने के सीरम कंपनी को क्रयादेश दे दिए हैं. देश की 8 बड़ी फार्मा कंपनियों से संपर्क करने के साथ ही इस दवा की खरीद के लिए ग्लोबल टेंडर भी किया गया है.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 May 2021, 01:15:52 PM

For all the Latest States News, Rajasthan News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.