News Nation Logo
Banner
Banner

पंजाब कैबिनेट में सर्वे के आधार पर मिलेगा मंत्री पद, दागी चेहरे नहीं चाहता कांग्रेस आलाकमान

Punjab Congress: 117 विधायकों वाले सदन में कैबिनेट में सीएम समेत कुल 18 मंत्री हो सकते हैं. कैबिनेट विस्तार में देरी होने से पार्टी के नेता बेचैन हो रहे हैं. कई नेताओं ने कहा कि उन्हें अब तक नाम की घोषणा कर देनी चाहिए थी.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 22 Sep 2021, 10:57:42 AM
Charanjeet Singh Channi

पंजाब कैबिनेट में सर्वे के आधार पर मिलेगा मंत्री पद (Photo Credit: न्यूज नेशन)

चंडीगढ़:

पंजाब के नए मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) की कैबिनेट में किन चेहरों की जगह दी जाए, इसे लेकर कांग्रेस आलाकमान का मंथन जारी है. जानकारी के मुताबिक मंत्रिमंडल के गठन में देरी हो सकती है. इसकी वजह है कि कैबिनेट में कोई ऐसा चेहरा शामिल ना दो जिस पर कोई विवाद हो. इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक जिन कांग्रेस विधायकों को कैबिनेट में शामिल किया जाना है पार्टी ने अभी के नामों को अंतिम रूप नहीं दिया है. मंत्रियों के नाम को लगातार बैठकों का दौर जारी है.

जानकारी के मुताबिक पिछले दो दिनों में सीएम चरणजीत सिंह चन्नी, उनके दो डिप्टी सीएम और पीपीसीसी प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्यसभा सांसद अंबिका सोनी (Ambika Soni) और महासचिव प्रभारी हरीश रावत (Harish Rawat) से दिल्ली में दो अलग-अलग बैठकों में मुलाकात की है. आलाकमान की ओर से पहले ही इस बात के निर्देश दिए जा चुके हैं कि विधायकों का पहले सर्वे कराया जाए. मंत्रियों के नाम के लिए उन्हीं चेहरों को आगे किया जाए जिन पर किसी भी तरह का विवाद ना हो. दागी चेहरों को मंत्रिमंडल से दूर रखने के लिए कह दिया गया है.  

यह भी पढ़ेंः कोरोना के मामलों में कमी लेकिन मौत का आंकड़ा बढ़ा, 24 घंटे में 383 की मौत

भ्रष्टाचार और सत्ताविरोधी लहर पर भी चिंता
सूत्रों का कहना है कि वैसे तो कोशिश की जा रही है कि कैप्टन अमरिंदर की कैबिनेट में शामिल रहे अधिकांश मंत्रियों को फिर से कैबिनेट में शामिल कर लिया जाए लेकिन जिन पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं, उन्हें कैबिनेट में जगह नहीं दी जाएगी. इसके साथ ही आलाकमान चाहता है कि जिन चेहरों को शामिल किया जाए वह सभी मंत्री लोकप्रिय हों और चुनाव में सत्ता विरोधी लहर का सामना न करना पड़े.

अधिकतम 18 मंत्री हो सकते हैं.  
117 विधायकों वाले सदन में कैबिनेट में सीएम समेत कुल 18 मंत्री हो सकते हैं. इनमें से मुख्यमंत्री और दो उपमुख्यमंत्री पहले ही शपथ ले चुके हैं. ऐसे में 15 विधायकों को मंत्री बनाया जा सकता है. एक सूत्र ने कहा कि राजभवन कम से कम 24 घंटे की पूर्व सूचना चाहता है क्योंकि अगर 15 मंत्री शपथ लेते हैं तो उन्हें कम से कम 150 मेहमानों की व्यवस्था करनी होगी. सूत्रों ने बताया कि अगर राहुल बुधवार को सूची को हरी झंडी दे देते हैं तो गुरुवार से पहले मंत्री शपथ नहीं ले पाएंगे. 

First Published : 22 Sep 2021, 10:57:42 AM

For all the Latest States News, Punjab News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.