News Nation Logo

CM भगवंत मान ने पराली जलाने के मामले में केंद्र की खिंचाई की, उठाया ये कदम

News Nation Bureau | Edited By : Vijay Shankar | Updated on: 10 Sep 2022, 08:54:14 PM
Bhagwant Mann

Bhagwant Mann (Photo Credit: File)

चंगीगढ़:  

पराली जलाने की समस्या का व्यावहारिक समाधान सुनिश्चित बनाने से हाथ खींचने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान (CM Bhagwant Mann) ने शनिवार को कहा कि राज्य सरकार पराली के खेतों में ही निपटारे के लिए अपने संसाधनों से एक लाख से अधिक मशीनें देने पर विचार कर रही है. मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘हमने इस खतरे का साझा समाधान पेश किया था, परन्तु केंद्र सरकार ने हमारी मदद करने की बजाय इससे अपने हाथ पीछे खींच लिए हैं. इसका मतलब यह नहीं है कि यह हमें हमारे किसानों के कल्याण और पर्यावरण की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने से रोका जाएगा.’’

मुख्यमंत्री ने कहा कि पंजाब में 75 लाख एकड़ क्षेत्रफल में धान की खेती की गई है. इसमें से 37 लाख एकड़ वाले किसान पराली को आग नहीं लगाते. भगवंत मान ने कहा कि बाकी बची 38 लाख एकड़ ज़मीन में पराली के प्रबंधन को सुनिश्चित बनाने के लिए बड़े कदम उठाने की ज़रूरत है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार इस मंतव्य के लिए एक लाख मशीनें देने पर विचार कर रही है. उन्होंने कहा कि रोज़ाना की आठ से 10 एकड़ फसलों के अवशेष का निपटारा करने की क्षमता रखने वाली यह मशीनें इस समस्या को हल करेंगी. भगवंत मान ने कहा कि यह राज्य सरकार की पंजाब को स्वच्छ, हरा-भरा और प्रदूषण मुक्त बनाने की प्रतिबद्धता के अनुसार है.

ये भी पढ़ें : CM भगवंत मान ने राष्ट्रपति मुर्मू से की मुलाकात, दिया पंजाब आने का न्योता 

गुरबाणी की तुक ‘पवन गुरु, पानी पिता, माता धरत महत’ का हवाला देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि महान गुरुओं ने हवा (पवन) को गुरु से, पानी की पिता से और ज़मीन (धरती) की माता से तुलना की है. भगवंत मान ने कहा कि अब समय आ गया है, जब हमें फसलों के अवशेष को न जलाने का संकल्प लेकर राज्य की पुरातन शान को बहाल करने के लिए गुरबाणी की शिक्षाओं को अपने जीवन में धारण करना चाहिए. उन्होंने कहा कि राज्य सरकार इस नेक कार्य के लिए कोई कसर बाकी नहीं छोड़ेगी. 

First Published : 10 Sep 2022, 08:54:14 PM

For all the Latest States News, Punjab News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.