logo-image
लोकसभा चुनाव

हरियाणा के CM मनोहर लाल से मिले अमरिंदर सिंह, BJP से गठबंधन पर की चर्चा!

अमरिंदर सिंह ने कहा कि खट्टर के साथ यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी. उन्होंने कहा कि कोई नया राजनीतिक घटनाक्रम नहीं हुआ है.

Updated on: 29 Nov 2021, 08:22 PM

highlights

  •  CM खट्टर ने अमरिंदर सिंह का गर्मजोशी से स्वागत किया
  •  मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात को अमरिंदर ने कहा शिष्टाचार मुलाकात
  •  BJP और शिअद संयुक्त से कर सकते हैं गठबंधन

चंडीगढ़:

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने आज यानि सोमवार को चंडीगढ़ में हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाकात की. अमरिंदर सिंह ने कहा कि खट्टर के साथ यह एक शिष्टाचार मुलाकात थी. उन्होंने कहा कि कोई नया राजनीतिक घटनाक्रम नहीं हुआ है. मुख्यमंत्री के साथ एक बढ़िया कॉफी पी. एक सवाल के जवाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी पार्टी अकाली दल से अलग हुए गुट और भारतीय जनता पार्टी  के साथ मिलकर राज्य में अगली सरकार बनाएगी. अमरिंदर सिंह ने कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के साथ हुई सियासी रस्साकशी के बाद सितंबर में मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था.

यह पूछे जाने पर कि विधानसभा चुनाव से पहले क्या उनकी पार्टी पंजाब लोक कांग्रेस में बड़े चेहरे शामिल होंगे, अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘उसके लिए इंतजार कीजिये. सब कुछ ठीक चल रहा है. लोग बेहद उत्साहित हैं और हमारी सदस्यता अच्छी चल रही है.’ उन्होंने कहा कि भगवान ने चाहा तो भारतीय जनता पार्टी और (सुखदेव सिंह) ढींढसा की पार्टी (शिअद संयुक्त) के साथ सीटों का बंटवारा कर हम सरकार बनाएंगे. खट्टर के साथ उनकी मुलाकात ऐसे समय हुई है, जब तीन कृषि कानूनों को वापस लेने वाले एक विधेयक को आज संसद के दोनों सदनों से पारित कर दिया गया.

यह भी पढ़ें: Paytm यूजर्स हैं तो हो जाएं अपडेट, कंपनी ने दे दिया नए साल का बड़ा गिफ्ट!

भाजपा के साथ गठबंधन की बातचीत पर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में उन्होंने संवाददाताओं से कहा कि मैंने मुख्यमंत्री से मुलाकात की तो इसका यह मतलब नहीं है कि जब आप किसी से मिलें तो वह राजनीतिक ही हो. यह मात्र शिष्टाचार मुलाकात थी. हरियाणा सरकार की ओर से जारी तस्वीर में देखा जा सकता है कि खट्टर अमरिंदर सिंह का गर्मजोशी से स्वागत कर रहे हैं. यह पूछे जाने पर कि क्या वह पंजाब चुनाव के लिए सीटों के बंटवारे पर भाजपा नेताओं से मुलाकात करेंगे, सिंह ने कहा कि वह दिल्ली जाएंगे और निश्चित तौर पर उनसे मुलाकात करेंगे.

कृषि कानूनों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि अब सब कुछ खत्म हो चुका है. तीन कृषि कानूनों को संसद द्वारा वापस ले लिया गया है. सिंह ने कहा कि केंद्र सरकार ने किसानों की छह से सात मांग मान ली हैं इसलिए अब कोई मुद्दा नहीं रह गया है.