News Nation Logo
Quick Heal चुनाव 2022

हम सब मिलकर असामाजिक तत्वों को दिखाएंगे पूरा पंजाब एक साथ है- केजरीवाल

इन घटनाओं से साबित होता है कि राजनीति से प्रेरित कुछ जन विरोधी ताकतों की मंशा पंजाब के शांतिपूर्ण माहौल और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ना है.

News Nation Bureau | Edited By : Satyam Dubey | Updated on: 29 Dec 2021, 11:13:08 PM
Arvind Kejriwal

Arvind Kejriwal (Photo Credit: Twitter- @ArvindKejriwal)

नई दिल्ली:

आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने पंजाब के लोगों से 31 दिसंबर को पटियाला में होने वाले 'शांति मार्च' में शामिल होने की अपील की है ताकि घृणा और वैमनस्य फैलाने वाले तत्वों को दिखाया जा सके कि पंजाब का हर वर्ग समुदाय एक है और कोई भी ताकत उनके भाईचारे को तोड़ नहीं सकती. बुधवार को एक वीडियो संदेश के माध्यम से केजरीवाल ने पंजाब में राजनीति से प्रेरित और बार बार लोगों की भावनाओं को आहत करने वाली घटनाओं पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि हरमंदिर साहिब में बेअदबी और लुधियाना कोर्ट ब्लास्ट की घटना भी कुछ समाज विरोधी तत्वों की देन है. इन घटनाओं से साबित होता है कि राजनीति से प्रेरित कुछ जन विरोधी ताकतों की मंशा पंजाब के शांतिपूर्ण माहौल और सांप्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ना है.

मुख्यमंत्री चन्नी को घेरते हुए केजरीवाल ने कहा कि जनता की कसौटी पर पूरी तरह विफल रही चन्नी सरकार अपनी कुर्सी तक ही सीमित है, जनता से कोई सरोकार नहीं है। केजरीवाल ने कहा कि क्योंकि चुनाव नजदीक हैं इसलिए षड्यंत्र के तहत कुछ जन विरोधी ताकते पंजाब में लगातार इस प्रकार की घटनाओं को अंजाम देने की कोशिश कर रहीं हैं. 2017 के चुनावों के दौरान भी इसी तरह की घटनाएं सामने आई थीं. उस वक्त कैप्टन अमरिंदर सिंह ने गुटका साहिब की सौगंध खाकर दोषियों को सलाखों के पीछे डालने की बात कही थी. लेकिन पांच साल बीत जाने के बाद भी कांग्रेस सरकार के हाथ आज भी खाली हैं. केजरीवाल ने कहा कि कांग्रेस पंजाब में सुरक्षा और कानून व्यवस्था पर ध्यान देने की बजाय गृहयुद्ध में व्यस्त है.

उन्होंने आगे कहा कि पंजाब गुरुओं की धरती है. यहां सभी धर्मों, जातियों और समुदायों के लोग एक साथ शांति और सद्भाव से रहते हैं. इसलिए, पंजाब के लोग इन असामाजिक तत्वों को अपनी गंदी राजनीतिक रणनीतियों/षड्यंत्र में सफल नहीं होने देंगे. पटियाला में इस शांति मार्च में हम एक साथ पंजाब की शांति और भाईचारे के लिए प्रार्थना करेंगे.

अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में होने वाले इस शांति मार्च की शुरुआत 31 दिसंबर को सुबह 11 बजे पटियाला के शेरांवाला गेट से होगी जिसमें पंजाब प्रधान भगवंत मान भी मौजूद रहेंगे. केजरीवाल ने पंजाब के भाईचारे के लिए एकजुटता दिखाने के लिए लोगों से अपने परिवार और दोस्तों के साथ इस मार्च में शामिल होने का आग्रह किया.

First Published : 29 Dec 2021, 11:13:08 PM

For all the Latest States News, Punjab News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.