News Nation Logo
Banner

उद्धव ठाकरे ने BJP को दी चुनौती, कहा- दम है तो मेरी सरकार गिराकर दिखाएं

ठाकरे ने हमला जारी रखते हुए कहा कि कुछ लोग रोज मेंढक की तरह चिल्लाते रहते है रोज . ये वही है,जो हमेशा एक पार्टी छोड़कर दूसरे पार्टी में हमेशा जाते रहते है. मैं 6 महीने फेसबुक पर लाइव होकर महाराष्ट्र की जनता से चर्चा की और उस दौरान कहा था कि सीएम का मास्क निकाल कर आप से बात करूंगा.   मेंढक के  बच्चों ने बाघ को देखा है.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 25 Oct 2020, 11:48:37 PM
uddhav thackeray

उद्धव ठाकरे (Photo Credit: फाइल )

नई दिल्‍ली:

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने दशहरा त्योहार के मौके पर महाराष्ट्र वासियों को बधाई दी इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार और भारतीय जनता पार्टी पर जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा कि आज एक साल हो गया है , तारीख पे तारीख दे रहे है लोग कुछ लोग सरकार गिराने का प्रयास कर रहे है मैं कहता हूं आज गिरा कर दिखाओ. हिम्मत है तो सरकार गिरा कर दिखाओ. ठाकरे ने कहा कि सीएम बनने के बाद यह उनकी पहली दशहरा रैली है. यह महाराष्ट्र शेरों के औलाद का राज्य है. हम बाघ की औलाद है,जो रास्ते मे आएगा,उसकी छाती फाड़कर आगे जाने की हिम्मत रखते हैं. दशहरा रैली किसी को टारगेट करने के लिए नही है.

ठाकरे ने हमला जारी रखते हुए कहा कि कुछ लोग रोज मेंढक की तरह चिल्लाते रहते है रोज . ये वही है,जो हमेशा एक पार्टी छोड़कर दूसरे पार्टी में हमेशा जाते रहते है. मैं 6 महीने फेसबुक पर लाइव होकर महाराष्ट्र की जनता से चर्चा की और उस दौरान कहा था कि सीएम का मास्क निकाल कर आप से बात करूंगा.   मेंढक के  बच्चों ने बाघ को देखा है. महाराष्ट्र के बाघ को छेड़ने का काम न करे. हिंदुत्व को लेकर हमपर सवाल किए जाते है,कि मंदिर क्यों नही खोले जा रहे है. ये राज्य साधू -सन्तो का राज्य है. मुझे हिंदुत्व का सवाल किया जाता है, कौन हैं ये सवाल पूछनेवाले? हिंदुत्व को लेकर हमसे सवाल करते है क्यूं की मंदिर नही खोला , कौन पूछ रहा है हमसे हिंदुत्व के बारे में , जब बाबरी गिरी उस वक्त शिव सेना  खुल कर सामने आई.

 हमें हिन्दुत्व के बारे मे पूछते हैं, जब बाबरी मस्जिद गिराई गयी थी तब सभी गायब थे, जिन्हे अपने ही बारे मे नही मालूम वो हमसे हिन्दुत्व के बारे मे पूछते है, हमारे हिन्दुत्व और उनके हिन्दुत्व मे जमीन आसमान का फर्क है. बाला साहेब कहते थे सिर्फ घंटा बजाने वाले हिन्दू नहीं हैं आज यहा कुछ लोग गाय को माता कहते है और बगल में जाकर खाते है आज शिवसेना नही होते तो मुंबई नही बचती. मैं किसी के रास्ते मे जाता नही, कोई मेरे रास्ते मे नही आये. ये हमे हिंदुत्व की परिभाषा सिखाएंगे. जब बाबरी मस्ज़िद गिराई गई, तब किसी ने सामने आने की कोशिश नही की. सब बिल में जाकर चुप गए थे, तब बालासाहेब ने सामने आकर हिंदुत्व की परिभाषा दी थी. ये हमें सिखाएंगे हिंदुत्व.

संघ की टोपी के नीचे दिमाग है,क्या?
मोहन भागवत ने हिंदुत्व का अर्थ बताया सिर्फ हिंदुत्व पूजा तक सीमित नही है.  राजनीति में शत्रुता नही है विवेक होना चाहिए.  आज यह सरकार गिराने में ज्यादा रुचि दिखा रहे है.  कोरोना के कार्यकाल में सरकार गिराने का प्रयास करते हैं. आज देशभर में महिलाओं पर अत्याचार बढ़ा है. आपने महाराष्ट्र में गोहत्या पर रोक लगाया है, गोआ में नहीं. महाराष्ट्र में गाय माता और गोआ में खाता. यह हमारा हिंदुत्व नहीं है.

कई कागज साथ लाया हूं मैं
सुबह संघ संचालक मोहन भागवत ने दशहरा रैली को संबोधित किया. जो लोग उनकी तरह काली टोपी पहनते हैं, जो उनको मानते हैं उन्हें सुनना चाहिए.. मोहन भागवत ने कहा कि हिंदुत्व को पूजा से जोड़कर संकुचित किया गया है. मंदिर नहीं खोला तो सेक्युलर. यह बोलने वाले लोग जो काली टोपी पहनते हैं, उनके टोपी के नीचे अगर दिमाग है तो उन्हें संघ संचालक का भाषण सुनना चाहिए. यह लोग हमारे हिंदुत्व पर सवाल उठा रहे हैं.

पीएम मोदी पर साधा निशाना
आज हमें हिंदूत्व पर सिखा रहें हैं घंटी बजाओ, थाली पीटो यही आपका हिंदूत्व हैं. मुझे किसी ने कहा की अगली बाल फ्रॉग जंप करने के लिए बोलेंगे. महाराष्ट्र में गोवंश हत्या बंदी. गोवा में क्यों नहीं? यहां माता वहां खाते हैं भागवत जी ने आज हिंदू-हिंदूत्व के बारे में कहा आप भागवत जी की बात सुनों आप (बीजेपी) संघ की टोपी पहनते हैं लेकिन उस टोपी के नीचे दिमाग हैं? आज भागवत ने बहुत अच्छी बात कही. राउत आप उनकी बात को अच्छे से छापना उन्होंने अच्छी बात कही सियासत मतलब दुश्मनी नहीं. विवेक का पालन करे. शिवसेना विवेक का पालन कर रही हैं लेकिन बीजेपी क्या कर रही हैं. जितना आप सरकार के बारे में दिमाग लगाते हैं. उतना देश के बारे में सोचो
जितना लक्ष्य आप अपनी पार्टी को दे रहे है उतना देश पर भी दो. किसान परेशान है उनकी मदद नही की जा रही है जो हमारे हक के 38 हजार करोड़ जो महराष्ट्र के हक का है वो नही दे रहे है. बिहार को जो दे रहे है वो कहां से दे रहे है. 

 उद्धव ठाकरे का बीजेपी पर निशाना
राज्य का केंद्र पर महाराष्ट्र के हक का 38 हजार करोड़ बाकी है, जीएसटी के  रूप का बिहार को जो दे रहे है,वो कहां से दे रहे हैं. हमारे हक का पैसे नही मिल रहे है, जीएसटी का पैसा नही दे रहे है. अगर नही मिल रहा है तो प्रधानमंत्री को इसमे बदलाव करना चाहिए. यह देश की सत्ता किसी एक पार्टी की नही है ,आज जो आज़ादी मिली है लोगो के बलिदान से मिली है.  हमारे हक का पैसा जो है,वो हमें नही मिल रहा है .तो देश के सभी राज्यो के मुख्यमंत्री से आव्हान करता हूँ,की आइये हम सब इस बाबत बात करेंगे,और देश के प्रधानमंत्री को प्रामाणिक रुपसे इस बारे में आगे आकर बात करनी चाहिये. जीएसटी का पैसा नहीं दे रहे हैं और हमसे कर्ज़ लेने कह रहे हैं

देश के सभी मुख्यमंत्रियों से की अपील
आज मैं सभी मुख्यमंत्रियों से कहता हूं कि सामने आओ, बात करते हैं. जीएसटी का पैसा अगर नहीं मिल रहा है और यह पैसे फंसे हैं तो पीएम मोदी को माफी मांगकर पैसे देना चाहिये या फिर जीएसटी को बंद कर पुराने कर को वापास लाना चाहिए. यह देश किसी एक पक्ष का नहीं है.. 1947 तक लोगों ने लाठी खाकर देश को तुम्हारे लिए स्वतंत्र नहीं किया है.. अंग्रेजों को भी लगता था कि उनका कोई कुछ नहीं कर सकता.. पर इतिहास अलग है.. इसी तरह बीजेपी को लगता है कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक हम होंगे.. वो हो भी सकता था पर ऐसा उनके ही कारण नहीं हुआ. आज भी यह कह रहे हैं कि बिहार में नीतीश कुमार मुख्यमंत्री होंगे. इसी तरह हरियाणा में पहले कहा था कि कुलदीप सिंह बिश्नोई मुख्यमंत्री होंगे, उनके नाम पर वोट लिया, पर हुआ कुछ और. 

महाराष्ट्र में भी किया था यही काम
छत्रपति शिवाजी महाराज ने कहा था कि बताओ क्या हमने कभी किसी दोस्त को धोखा दिया है क्या. हमतो मोहन भागवत को राष्ट्रपति बनाने की मांग कर चुके हैं. तुम्हें यह शिवसेना नहीं पसंद है. पर संघ मुक्त भारत कहने वाले नीतीश कुमार तुम्हें पसंद है, तुम हमें हिंदुत्व मत सिखाओ 2014 तक नीतीश कुमार हमारे साथ थे पर 2014 में उन्होंने कहा कि उन्हें देश में सेक्युलर चेहरा चाहिए और उन्होंने गठबंधन तोड़ दिया. तो आखिर उसके बाद क्या हुआ? किसने किसे वैक्सीन दिया? बिहार में मुफ्त में वैक्सीन देने की बात कर रहै हैं. बाकी देश क्या पाकिस्तान है या बांग्लादेश. शर्म आना चाहिए ऐसा बोलने वाले को. तुम केंद्र में हो अगर जीएसटी के पैसे नहीं आएंगे तो हम पैसे नहीं मांगेंगे.

हम भी प्रतीकात्मक रावण का वध करते हैं
एक सिर कहता है मुम्बई पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर लगता है. 2014 में मोदीजी ने कहा कि पाकिस्तान के कश्मीर को हम लेंगे. अब मुम्बई की पीओके से तुलना. घर से यहां खाना खाने आते हैं, बड़े बनते हैं और महाराष्ट्र का पाकिस्तान से तुलना. हमें कहते हैं कि क्या किया शिवसेना ने. वडापाव दिया. हां दिया. भीख मांगकर हम नहीं खाते हैं, जो हमारा हक है उसे खाते हैं. हमने जो MoU किया है उससे महाराष्ट्र के भूमिपुत्रों के लिए हज़ारों करोड़ रुपये आ रहे हैं. मैं भूमिपुत्रों से कहता हूँ कि हम यह आपके लिए कर रहे हैं, हमें यह आपके लिए चाहिए.. इसके वजह से कई लोगों के पेट में दर्द होता है, इसलिए महाराष्ट्र की बदनामी की जा रही है.

मुंबई पुलिस को लेकर घेरा
मुम्बई पुलिस को निकम्मी कहा गया, बताया गया कि मुम्बई में गांजा की खेती है, सभी पी रहे हैं. मुम्बई की तुलना पाकिस्तान से कर रहे हैं. इन्हें पता नहीं कि महाराष्ट्र के घर घर में तुलसी है, गांजा नहीं.. गांजा कहीं और उगता है, यहां नहीं.. यहाँ कोई पिक्चर नहीं आता है कि मै गांजा तेरे घर का. मुझे मुंबई पुलिस पर गर्व है.  हमारे पुलिस ने आतंकवादी को ज़िंदा पकडकर उसे सजा दिलवाई उसका अभिमान है हमें. आप इनपर सवाल उठा रहे हो. मुम्बई कभी POK नहीं हो सकता. पर जो यह बोल रहे हैं, वो मोदीजी का अपमान कर रहे हैं. मोदीजी ने कहा कि वो POK को भारत में लाएंगे, ऐसा हुआ नहीं और उनके देश में POK बनने की बात कर रहे है.

सुशांत केस को लेकर बोला हमला
इस बीच बिहार के किसी पुत्र ने आत्महत्या की. तब भी मुम्बई पुलिस ने सही जांच की. अचानक वो बिहार का पुत्र बन गया. उसके बाद आपने मुम्बई पुलिस पर, महाराष्ट्र पर, मेरे परिवार पर, आदित्य पर ना जाने क्या कुछ कहा. यह सब करने के बावजूद तुमने क्या कर लिया. क्या सामने आया? मैं महाराष्ट्र की जनता से कहता हूं कि इनसे सतर्क रहो.. यह देश खत्म करने की कोशिश कर रहे हैं. हम यह होने नहीं देंगे. हम शांत हैं, पर इसे हमारी कमज़ोरी नहीं समझी जानी चाहिए. तलवार से युद्ध जीता जाता है, और तलवार पकड़ने के लिए जो हौसला लगता है, वो शिवसेना के पास है. हम जो कुछ कर रहे हैं, वो आपके लिए कर रहे हैं. बीजेपी जो कर रही है, उसे कम से कम इस मिट्टी के बारे में सोचना चाहिए, मित्र पक्ष के बारे में भले ना सोचें.

राज्य सरकारों को गिराने का षड्यंत्र कर रही है बीजेपी
हमने आरे को जंगल घोषित किया, लोग जंगल में शहर बना रहे हैं,  शहर में जंगल घोषित कर रहे हैं. सत्ता में आते आते हमने आरे कारशेड पर रोक लगाए, अब इसे कांजुरमार्ग में बिना एक रुपये खर्च किये शिफ्ट कर रहे है. अब लोग कह रहे हैं पैसा बर्बाद हुआ. कोई पैसा बर्बाद नहीं हुआ है. यह कारशेड केवल आरे के लिए नहीं, कल्याण डोम्बिवली जाने वाले जगहों तक के लिए यहीं पर कारशेड बनेगा. मैंने मुख्यमंत्री बनते ही सबसे पहले आरे में बन रहे कारशेड को स्थगित की. देश मे इस समय जो चल रहा है,वो बड़ा ही विचित्र चल रहा है. लेकिन यहां सिर्फ राज्य की सरकार गिराने का षड्यंत्र चल रहा है.

एकनाथ खडसे को लेकर कसा तंज
अगर आपके पांव की नीचे की जमीन खिसक रही है,उसे पहले सम्भाले. खडसे गए, अभी और कौन कौन जाते है, देखिए पाय मजबूत होना चाहिए सरकार बनाने के लिए और बीजेपी की नींव मजबूत नही है. बिहार जनता से आव्हान करता हूं की जिससे चाहे मतदान करो लेकिन सोच समझ कर. मराठा समाज और सभी समाज को न्याय दूंगा यह मैं सीएम के नाते बोल रहा हूं. मैं राज्य के सभी समाज के साथ हूँ,जिनका जो हक है,उन्हें दिया जाएगा.सिर्फ जात पात की राजनीति का शिकार न बने. ये बात मैं मुख्यमंत्री के नाते बोल रहा हूँ.

First Published : 25 Oct 2020, 08:14:54 PM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो