logo-image
लोकसभा चुनाव

Maharastra: ताडोबा महोत्सव में बना गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड, 65 हजार पौधों से लिखा ‘भारतमाता’

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में तीन दिन का ताडोबा महोत्सव का आयोजन किया गया. इस अवसर पर यहां एक अनोखा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया गया, जिसमें कुल 26 प्रकार के देशी पौधों का प्रयोग कर कुल 65 हजार 734 पौधों की सहायता से शहर के रामबाग फॉरेस्ट कॉलोनी ग्राउंड में 'भारतमाता' लिखा गया.

Updated on: 02 Mar 2024, 07:33 PM

नई दिल्ली :

महाराष्ट्र के चंद्रपुर में तीन दिन का ताडोबा महोत्सव का आयोजन किया गया. इस अवसर पर यहां एक अनोखा गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया गया, जिसमें कुल 26 प्रकार के देशी पौधों का प्रयोग कर कुल 65 हजार 734 पौधों की सहायता से शहर के रामबाग फॉरेस्ट कॉलोनी ग्राउंड में 'भारतमाता' लिखा गया. गौरतलब है कि, इस ताडोबा महोत्सव का आयोजन महाराष्ट्र वन विभाग द्वारा किया गया था. इस दौरान गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड की एक टीम भी मौजूद थी, जिसने रिकॉर्ड से संबंधित सभी निष्कर्षों की तफ्तीश कर इसे विश्व रिकॉर्ड करार दिया. टीम ने मंत्री सुधीर मुनगंटीवार को इसका प्रमाण पत्र भी सौंपा गया...

ये है ताडोबा महोत्सव का उद्देश्य...

विश्व स्तर पर ताडोबा-अंधारी टाइगर रिजर्व को बढ़ावा देने के लिए चंद्रपुर शहर के चंदा क्लब मैदान में इस महोत्सव की शुरुआत 1 मार्च से की गई है. इसके द्वार महाराष्ट्र का वन विभाग ताडोबा-अंधारी टाइगर रिजर्व को पर्यटन के माध्यम से रोजगार में इजाफे की कोशिश कर रहा है. 

मंत्री सुधीर मुनगंटीवार का कहना है कि, ताडोबा को विश्व रिकॉर्ड का केंद्र और पर्यावरण जागरूकता बनाने की अवधारणा एक पहल है. इसी के माध्यम से वन विभाग आगे के कार्यों को प्रेरित करेगी. उन्होंने कहा कि, पीएम मोदी ने भारत के लिए 2070 में शून्य कार्बन उत्सर्जन का मकसद तय किया है. इसके साथ ही मुनगंटीवार ने बताया कि, ताडोबा महोत्सव का उद्देश्य देश-दुनिया में पर्यावरण संरक्षण को बढ़ावा देना है. इस कार्यक्रम के जरिए वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाना, महाराष्ट्र वन विभाग के माध्यम से देश में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन को दर्शाता है.