News Nation Logo

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमवीर सिंह के खिलाफ एक्सटॉर्शन का मामला दर्ज किया गया

मुंबई पुलिस के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह के खिलाफ एक्सटॉर्शन का मामला दर्ज किया गया है. मुंबई के मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में एफआईआर (FIR) दर्ज हुआ है.

News Nation Bureau | Edited By : Shailendra Kumar | Updated on: 22 Jul 2021, 12:43:04 PM
former Mumbai Police Commissioner Paramvir Singh

पूर्व कमिश्नर परमवीर सिंह (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ रंगदारी का मामला
  • परमवीर सिंह के खिलाफ एक्सटॉर्शन का मामला दर्ज किया गया है
  • 6 पुलिसकर्मी समेत 8 लोगों के खिलाफ एफआईआर ( FIR )

मुंबई :

मुंबई पुलिस के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह के खिलाफ एक्सटॉर्शन का मामला दर्ज किया गया है. मुंबई के मरीन ड्राइव पुलिस स्टेशन में एफआईआर (FIR) दर्ज हुआ है. परमवीर सिंह समेत आठ लोगों पर एफआईआर ( FIR ) दर्ज किया गया है, जिसमें 2 सिविलियन है और 6 पुलिस वाले हैं. इन पुलिसवालों में मुंबई क्राइम ब्रांच के डीसीपी अकबर पठान का भी नाम है. दो सिविलियन को पुलिस ने गिरफ्तार किया है जिसमें सुनील जैन और पुनमिया नाम का आरोपी शामिल है. बता दें कि पूर्व पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने महाराष्ट्र पूर्व गृहमंत्री पर वसूली का आरोप लगाया था.

गौरतलब है कि भ्रष्‍टाचार के आरोपों में घिरे परमबीर सिंह के खिलाफ एक और मामले में भी कार्रवाई हो सकती है. परमबीर सिंह पर ठाणे में पुलिस प्रमुख रहते समय मालाबारी हिल्‍स इलाके में आधिकारिक अपार्टमेंट में रहने पर उसका किराया न चुकाने का भी आरोप है. ये राशि अब लाखों में पहुंच गई है. मिली जानकारी के अनुसार परमबीर सिंह 18 मार्च 2015 को ठाणे का पुलिस आयुक्‍त नियुक्‍त किया गया था. इससे पूर्व वह मुंबई में स्‍पेशल रिजर्व पुलिस फोर्स के एडिशनल डीजीपी थे.

परमबीर सिंह को मालाबार हिल्‍स के नीलिमा अपार्टमेंट में आवास उपलब्‍ध करवाया गया था. लेकिन ठाणे में पोस्टिंग होने के बाद भी उन्‍होंने अपार्टमेंट खाली नहीं किया. 17 मार्च, 2015 से 29 जुलाई 2018 तक किराये और पेनाल्‍टी को जोड़कर उनके ऊपर 54.10 लाख रुपये बकाया था. इसमें परमबीर सिंह 29.43 लाख रुपये अदा कर चुके हैं. 24.66 लाख रुपये अभी भी उन पर बकाया है.

बता दें कि पोस्टिंग अवधि समाप्‍त होने के बाद 15 दिन के भीतर सरकारी आवास में रहने की छूट दी जाती है इस दौरान सरकार लाइसेंस फीस वसूलती है. लेकिन समय पर आवास न खाली करने पर किराये के साथ पेनल्‍टी भी देनी होती है. परमबीर सिंह और महाराष्‍ट्र के तत्‍कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख के बीच विवाद होने से पहले परमबीर सिंह ने अपनी बकाया माफ करने की अपील की थी.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 22 Jul 2021, 11:43:04 AM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो