News Nation Logo

वधावन भाइयों को यात्रा की अनुमति देने के मामले पर इस्तीफा दें अनिल देशमुख : सोमैया

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने लॉकडाउन जारी रहने के बावजूद डीएचएफएल के प्रमोटरों - कपिल और धीरज वधावन को यात्रा की अनुमति देने के मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग की.

News Nation Bureau | Edited By : Sunil Mishra | Updated on: 10 Apr 2020, 01:35:17 PM
kirit Somaiya

वधावन भाइयों को यात्रा की अनुमति देने के मामले पर इस्तीफा दें देशमुख (Photo Credit: फाइल फोटो)

मुंबई:  

भारतीय जनता पार्टी (BJP-भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व सांसद किरीट सोमैया (Kirit Somaiya) ने लॉकडाउन (Lockdown) जारी रहने के बावजूद डीएचएफएल (DHFL) के प्रमोटरों - कपिल और धीरज वधावन (Kapil Wadhavan and Dheeraj Wadhavan) को यात्रा की अनुमति देने के मामले में महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के इस्तीफे की शुक्रवार को मांग की. उन्होंने कहा कि इस घटना के बाद गृह विभाग में प्रधान सचिव (विशेष) अमिताभ गुप्ता (Amitabh Gupta) को अनिवार्य अवकाश पर भेजने की सरकार की कार्रवाई महज “खानापूरी” है.

यह भी पढ़ें : कोरोना खतरे के बीच संकट में उद्धव ठाकरे की सरकार, राज्यपाल के रहमोकरम पर टिकी उम्मीदें

दूसरी ओर, महाराष्ट्र के अल्पसंख्यक मंत्री नवाब मलिक ने वाधवान मामले पर कहा कि जैसे ही गृहमंत्री अनिल देशमुख को इस बारे में जानकारी मिली और उंन्होने सीएम से बात कर तुरंत अमिताभ गुप्ता को लांग लीव पर भेज दिया. बीजेपी नेता किरिट सोमैया जिस तरह से बयानबाजी कर रहे हैं, यह काफी गैरजिम्मेदाराना बयान है. उनकी पार्टी ने इसी वजह से उनको लोकसभा का टिकट नही दिया था. अगर केंद्र सरकार को लगता है कि इस मामले में जांच करनी चाहिए तो वो पूरी तरीके से जांच कर सकती है.

लोकसभा के पूर्व सदस्य ने यह भी जानना चाहा कि किसके निर्देशों पर “वित्तीय धोखाधड़ी” के आरोपी वधावन भाइयों के साथ वीवीआईपी सुलूक किया गया. सोमैया ने वीडियो बयान में कहा, “गुप्ता को अवकाश पर भेजना और कुछ नहीं बल्कि दिखावा है. हमें अनिल देशमुख का इस्तीफा चाहिए.” इससे पहले, सुबह में देशमुख ने घोषणा की थी कि वधावन परिवार के सदस्यों को सातारा जिले के लोकप्रिय हिल स्टेशन, महाबलेश्वर की यात्रा की अनुमति देने वाले गुप्ता को अनिवार्य छुट्टी पर भेज दिया गया है.

यह भी पढ़ें : कोरोना संक्रमित मौलवी के खिलाफ दर्ज केस, लॉकडाउन में तबलीगी जमात के साथ घूमने का आरोप

अधिकारी ने वधावन परिवार में आपात स्थिति का हवाला देकर उसके सदस्यों को बंद के नियमों से छूट देने का पत्र जारी किया था. देशमुख ने कहा कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ चर्चा के बाद यह फैसला लिया गया. स्थानीय पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, वधावन परिवार तथा अन्य ने बुधवार शाम अपनी कार से खंडाला से महाबलेश्वर तक की यात्रा की जबकि कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए प्रभावी बंद के बीच पुणे और सातारा दोनों जिलों को सील किया गया है.

कपिल और धीरज वधावन येस बैंक और डीएचएफएल धोखाधड़ी मामले में आरोपी हैं.

(WITH PTI-BHASHA INPUTS)

First Published : 10 Apr 2020, 01:24:46 PM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.