News Nation Logo
Banner
Banner

मॉब लिंचिंग मामले में पालघर के कासा थाने में तैनात 35 पुलिसकर्मी हटाए गए

इस पालघर हिंसा मामले में महाराष्ट्र सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए दो इंस्पेक्टरों को सस्पेंड कर दिया था. प्राथमिक जांच में दोनों पुलिस कर्मियों को हिंसा न रोक पाने का दोषी ठहराया गया था.

News Nation Bureau | Edited By : Ravindra Singh | Updated on: 29 Apr 2020, 12:55:13 AM
Mob Lynching

मॉब लिंचिंग (Photo Credit: फाइल)

नई दिल्ली:

20 अप्रैल को हुई मॉब लिंचिंग के दौरान साधुओंं की हत्या के मामले में पालघर के कासा पुलिस थाने से 35 पुलिसकर्मियों को हटाया गया है. आपको बता दें कि 20 अप्रैल को महाराष्ट्र के पालघर में दो संतों की भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी. इस पालघर हिंसा मामले में महाराष्ट्र सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए दो इंस्पेक्टरों को सस्पेंड कर दिया था. प्राथमिक जांच में दोनों पुलिस कर्मियों को हिंसा न रोक पाने का दोषी ठहराया गया है. इस मामले में कासा पुलिस स्टेशन के इंचार्ज का नाम भी शामिल था.

पिछले सप्ताह पालघर में हुई साधुओं की मॉब लिंचिंग में हत्या के विरोध में आज मुंबई वासियों ने अपने घरों में दीप जलाकर उन्हें श्रद्धांजलि दी. बॉलीवुड एक्टर गजेंद्र चौहान ने भी साधुओं की हत्या पर श्रद्धांजलि दी है. आपको बता दें कि पालघर में साधुओं की हत्या को लेकर विश्व हिन्दू परिषद ने मुंबई में ये आह्वान किया था कि मॉब लिंचिंग में मारे गए साधुओं को श्रद्धांजलि देने के लिए मुंबई कर मंगलवार को अपने घरों में दीपक जलाएं.

महाराष्ट्र में साधु-संत सुरक्षित नहीं
उन्‍होंने कहा, महाराष्ट्र में साधु-संत सुरक्षित नही हैं. और साधुओं की हत्‍या की आशंका जताते हुए नरेंद्र गिरी ने हत्यारों के एनकाउंटर की मांग की. उन्‍होंने यह भी कहा कि साधुओं की हत्या करने वाले इंसान नही शैतान हैं. वहीं, महामंडलेश्वर स्वामी विश्वेश्वरानंद गिरि ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगतसिंह कोश्यारी को पत्र लिखकर इस घटना को सभ्य समाज पर कलंक बताया है. नरेंद्र गिरी ने चेताया कि हत्यारों पर जल्‍द कार्रवाई नहीं की गई तो महाराष्ट्र सरकार के विरुद्ध आंदोलन किया जाएगा.

यह भी पढ़ें-COVID-19 वायरस के निर्माण को लेकर वुहान ने दिया जवाब, कहा- हमारी क्षमता नहीं है

शिवसेना का कोई भी प्रवक्ता पालघर कांड में जवाब नहीं देगाः सीएम ठाकरे
उधर, इस घटना से सकते में आई शिवसेना ने आदेश जारी किया है कि इस बारे में पार्टी का कोई भी प्रवक्‍ता बयान नहीं देगा. मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे सरकार से जारी बयान को ही पार्टी का आधिकारिक बयान माना जाएगा. नरेंद्र गिरी बोले, महाराष्ट्र पुलिस की मौजूदगी में संतों की हत्या से मन बहुत व्‍यथित है. उन्‍होंने यह भी कहा कि इस मामले में महाराष्ट्र पुलिस के बदले यूपी की योगी जी की पुलिस ही न्‍याय कर सकती है.

यह भी पढ़ें-पालघर में साधुओं की हुई हत्या पर मुंबई वासियों ने घरों में दीप जलाकर दी श्रद्धांजलि

लॉकडाउन के बाद महाराष्ट्र पहुंच सकते हैं लाखों साधु
नरेंद्र गिरी ने देश भर के लाखों नागाओं से अपील करते हुए लॉकडाउन खुलने के बाद महाराष्ट्र कूच के लिए तैयार रहने की अपील की है. उन्‍होंने कहा, लॉकडाउन के बाद अखाड़ा परिषद हरिद्वार में बैठक कर आंदोलन की रणनीति बनाएगी. महाराष्ट्र सरकार को चेताते हुए उन्‍होंने कहा, सरकार ने हत्यारों के विरूद्ध कार्रवाई नहीं की तो सभी अखाड़े बैठक कर महाराष्ट्र सरकार के विरूद्ध आंदालन बिगुल फूंकेंगे.

First Published : 28 Apr 2020, 09:55:09 PM

For all the Latest States News, Maharashtra News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.