News Nation Logo
Breaking
Banner

मध्य प्रदेश में संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर ग्रामीण क्षेत्रों में खुलेंगी दुकानें

मध्य प्रदेश में संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर ग्रामीण क्षेत्रों में खुलेंगी दुकानें

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Sushil Kumar | Updated on: 26 Apr 2020, 01:45:16 PM
प्रतीकात्मक फोटो

प्रतीकात्मक फोटो (Photo Credit: फाइल फोटो)

भोपाल:  

Coronavirus (Covid-19) : कोरोना वायरस को रोकने के लिए उठाए गए एहतियाती कदमों के बीच आज रविवार से मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के उन ग्रामीण इलाकों में आवश्यक वस्तुओं की भी दुकानें (Shop) खुलने लगेंगी जो संक्रमित क्षेत्र में नहीं आता है. वहीं सभी जिलों में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप का गठन किया गया है. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ग्रामीण इलाकों के लिए राहत देने वाला बड़ा निर्णय लेते हुए बताया है कि सभी सुरक्षात्मक उपायों एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन करते हुए रविवार से प्रदेश के संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर सभी गांवों में आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खोली जा सकेंगी.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश के 24 सौ मजदूरों की गुजरात से वापसी का दौर शुरू, करीब सौ बस रवाना

शहरों में मुख्य बाजार, मल, सिनेमाघर, जिम, ब्यूटी पार्लर, सैलून आदि को खोलने की अनुमति नहीं होगी

यदि कोई गांव कंटेनमेंट एरिया में है, तो वहां दुकानें खोलने की अनुमति नहीं होगी. मुख्यमंत्री चौहान ने बताया कि शहरी क्षेत्रों में संक्रमित क्षेत्रों को छोड़कर मोहल्लों में आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खोली जा सकती हैं. शहरों में मुख्य बाजार, मल, सिनेमाघर, जिम, ब्यूटी पार्लर, सैलून आदि को खोलने की अनुमति नहीं होगी. चौहान ने बताया कि इंदौर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, धार, खरगोन जिले और संक्रमित क्षेत्रो में कोई भी दुकान खोलने की अनुमति नहीं होगी. मुख्यमंत्री ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण को प्रभावी ढंग से निपटाने के लिए प्रत्येक जिले में क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप का गठन किया गया है.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश: मास्क बनाने वाली महिलाओं को प्रति मास्क 11 रुपये देगी शिवराज सरकार

गुजरात से लगभग 24 सौ मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है

यह ग्रुप अपने जिले की परिस्थितियों को देखते हुए दुकानों को खोलने या न खोलने का फैसला कर सकते हैं. कोरोना महामारी के चलते उठाए गए एहतियाती कदमों के चलते मध्य प्रदेश के हजारों मजदूर दूसरे राज्यों में फंसे हुए हैं. इन मजदूरों की घर वापसी के प्रयास तेज हो गए हैं. गुजरात से लगभग 24 सौ मजदूरों को उनके घरों तक पहुंचाया जा रहा है. इन मजदूरों की 98 बसों से गुजरात के विभिन्न स्थानों से रवानगी भी हो चुकी है और कई बसें राज्य की सीमा में भी आ चुकी हैं. राज्य सरकार ने दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों की वापसी के लिए योजना बनाई है. इसके तहत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान आदि राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बात भी की. राजस्थान व गुजरात से मजदूर वापस अपने घरों को लौट चले हैं.

First Published : 26 Apr 2020, 01:19:08 PM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.