News Nation Logo
Banner

एमपी में 'लिफाफा' लेते वीडियो वायरल होने पर परिवहन आयुक्त नपे

शनिवार की रात को एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक व्यक्ति अधीनस्थ पुलिस अधिकारियों से एक-एक कर लिफाफा ले रहा है. इस वीडियो के वायरल होने के बाद देर रात को मधु कुमार को हटाए जाने का आदेश जारी हो गया.

IANS | Updated on: 20 Jul 2020, 08:25:18 AM
एमपी लिफाफा केस

एमपी लिफाफा केस (Photo Credit: (सांकेतिक चित्र))

नई दिल्ली:

मध्यप्रदेश के परिवहन आयुक्त वी. मधु कुमार को पद से हटा दिया गया है. उन्हें पुलिस मुख्यालय में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक के पद पर पदस्थ किया गया है. कुमार को हटाए जाने की वजह सोशल मीडिया पर वायरल हुए एक कथित वीडियो को बताया जा रहा है, जिसमें वे अधीनस्थों से लिफाफा ले रहे हैं. मधु कुमार वर्ष 1991 के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हैं.

वर्तमान में वह परिवहन आयुक्त के पद पर पदस्थ थे. शनिवार की रात को एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक व्यक्ति अधीनस्थ पुलिस अधिकारियों से एक-एक कर लिफाफा ले रहा है. इस वीडियो के वायरल होने के बाद देर रात को मधु कुमार को हटाए जाने का आदेश जारी हो गया.

और पढ़ें: एमपी : नाबालिग बच्चियों के यौन शोषण के आरोपी 5 दिन की पुलिस रिमांड पर

गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. आर.आर. भोसले द्वारा जारी किए गए आदेश में कहा गया है कि वी. मधुकुमार की परिवहन विभाग से सेवाएं वापस ली जाती हैं और तत्काल प्रभाव से मुख्यालय में अतिक्ति पुलिस महानिदेश के पद पर पदस्थ किया जाता है.

सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हो रहा है उसमें एक अधिकारी सोफा पर बैठा है और उसके सामने वर्दीधारी अधिकारी एक-एक कर आते हैं, लिफाफा सौंपते हैं. उसे कोई नमस्ते करता है तो कोई चरण स्पर्श. अधिकारी लिफाफे लेने के बाद उस पर कुछ लिखता है और फिर उसे ब्रीफकेस में रख लता है.

इस वीडियो के वायरल होने के बाद परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने सागर में स्थानीय पत्रकार से चर्चा में कहा, "यह वीडियो जो वायरल हुआ है, वह तब का है जब मधुकुमार उज्जैन रेंज के पुलिस महानिरीक्षक थे. वह लिफाफा लेते दिखाई दे रहे हैं, लेकिन इन लिफाफों में क्या है, वह नहीं दिखाई दे रहा है. इस वीडियो की जांच कराई जाएगी. इसके बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी.

सूत्रों का कहना है कि इस मामले में गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने वी. मधुकुमार से बात की है. इस पर मधुकुमार ने उन्हें बताया है कि अधीनस्थों से वे रिपोर्ट ले रहे थे. इस वीडियो को लेकर वी मधुकुमार से आईएएनएस ने संपर्क करने की कोषिष की मगर संपर्क नहंीं हो पाया. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो की आईएएनएस पुष्टि नहीं करता है. यह कथित वीडियो काफी पुराना बताया जा रहा है.

सूत्रों का कहना है कि यह वीडियो आगर मालवा जिले का है. उस समय वह उज्जैन के आईजी हुआ करते थे. मौसम सर्दी का था, क्योंकि वी. मधुकुमार स्वेटर पहने हुए हैं. यह वीडियो पांच मिनट 35 सेकेंड का है.

First Published : 20 Jul 2020, 08:25:18 AM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो