logo-image
लोकसभा चुनाव

Mohan Yadav Net Worth: कितने धनवान हैं MP के नए CM मोहन यादव? प्रोपर्टी जानकर रह जाएंगे हैरान

Mohan Yadav Net Worth: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के लिए मोहन यादव के नाम का ऐलान होते ही इंटरनेट पर उनको लेकर तरह-तरह की जानकारियां सर्च की जाने लगी हैं

Updated on: 13 Dec 2023, 11:42 AM

New Delhi:

Mohan Yadav Net Worth: मध्य प्रदेश के लिए आज यानी सोमवार को नए मुख्यमंत्री का ऐलान कर दिया गया है. विधानसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी को मिली भारी जाती के बाद मध्य प्रदेश में नए सीएम के नाम के लिए तरह-तरह की अटकलें लगाईं जा रही थी, लेकिन विधायक दल की बैठक में मुख्यमंत्री को लेकर सस्पेंस खत्म करते हुए मोहन यादव के नाम का ऐलान कर दिया गया. इसके साथ ही मध्य प्रदेश सरकार में दो उपमुख्यमंत्री होंगे, जिनके लिए राजेंद्र शुक्ला और जगदीश देवड़ा के नाम की घोषणा की गई है. 

यह खबर भी पढ़ें- MP: मुख्यमंत्री नाम के ऐलान के बाद क्या बोले मोहन यादव? जानें उन्हीं की जुबानी

मोहन यादव को लेकर गूगल पर कई तरह की जानकारियां सर्च

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के लिए मोहन यादव के नाम का ऐलान होते ही इंटरनेट पर उनको लेकर तरह-तरह की जानकारियां सर्च की जाने लगी हैं. ऐसे में कुछ लोग एमपी के नए सीएम मोहन यादव की संपत्ति से जुड़ी कई सूचनाएं भी सर्च इंजन गूगल पर खोज रहे हैं. लेकिन हम आपकी जिज्ञासा को शांत करते हुए बता दें कि मोहन यादव के पास 31 करोड़ 97 लाख 18 हजार 126 रुपए हैं. आपको बता दें कि चुनाव आयोग में दायर अपने हलफनामें में मोहन यादव ने बताया कि उनके ऊपर 9 करोड़ रुपए का कर्ज है. मोहन यादव ने अपने हलफनामे में बताया कि उन पर कुल 8,54,50,844 रुपये का कर्ज है. कुल संपत्ति की बात करें तो myneta.com के अनुसार मोहन यादव कुल 42 करोड़ रुपए की प्रोपर्टी के मालिक हैं. 

यह खबर भी पढ़ें- MP: मुख्यमंत्री नाम के ऐलान के बाद क्या बोले मोहन यादव? जानें उन्हीं की जुबानी

लंबे समय से राजनीति में सक्रिय मोहन यादव

मोहन यादव लंबे अरसे से राज्य की सियासत में सक्रिय है उनके राजनीतिक सफर पर गौर किया जाए तो वह 1982 में उज्जैन के माधव विज्ञान महाविद्यालय के सह सचिव चुने गए थे और 1984 में छात्रसंघ के अध्यक्ष बने थे. उसके बाद उन्होंने 1984 में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की उज्जैन के नगर मंत्री की कमान संभाली और 1986 में विभाग प्रमुख बने. इतना ही नहीं 1988 में अभाविप के प्रदेश मंत्री बने और राष्ट्रीय कार्यक्रम समिति सदस्य भी बने. वह 1989-90 में परिषद की प्रदेश इकाई के मंत्री बनाए गए और 1991-92 राष्ट्रीय मंत्री चुने गए.