News Nation Logo
Banner

कुख्यात डकैत बबली कोल को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती इलाके में आतंक फैलाने वाले डकैत बबली कोल (Babli Kol) और उसके एक साथी की लाश बरामद की गई है.

By : Yogendra Mishra | Updated on: 16 Sep 2019, 06:03:50 PM
प्रतीकात्मक फोटो।

प्रतीकात्मक फोटो।

highlights

  • बबली कोल के साथ उसका एक और साथी मारा गया
  • डकैती से उसने MP और UP की पुलिस को परेशान कर रखा था
  • पहले खबर थी कि बबली को उसके साथी ने ही गोली मार दी

सतना:

मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के सीमावर्ती इलाके में आतंक फैलाने वाले डकैत बबली कोल (Babli Kol) और उसके एक साथी की लाश बरामद की गई है. रविवार की रात बबली कोल को गैंगवार में मार गिराया गया. पुलिस ने सतना में लेदरी के जंगल से दो लाशें बरामद की हैं. इनमें से एक की शिनाख्त बबली और दूसरा उसके साथी लवकेश के तौर पर हुई है. डकैत बबली कोल पर 7 लाख और लवकेश पर 1 लाख 80 हजार रुपये का इनाम था.

यह भी पढ़ें- प्रयागराज में गंगा-यमुना का रौद्र रूप देख खबराए लोग, खतरे के निशान से महज एक मीटर नीचे है जलस्तर 

पहले खबर आई थी कि फिरौती की रकम के बंटवारे को लेकर गिरोह के सदस्यों में झगड़ा हुआ. जिसके बाद बबली को उसके साथी लोली कोल ने गोली मार दी. लेकिन अब उसे पुलिस मुठभेड़ में मार गिराने की खबर आ रही है.

यह भी पढ़ें- जरूरत पड़ी तो UP में भी लागू करेंगे NRC, मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का बड़ा बयान

बबली कोल गिरोप पूरे विंध्य इलाके में अपहरण और हत्या के लिए कुख्यात था. हाल ही में उसने एक किसान का उसके ही घर से अपहरण कर लिया था. बाद में उसने फिरौती के रूप में 50 लाख रुपये मांगे थे. कई सालों से मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की पुलिस उसके पीछे पड़ी थी. किसान के अपहरण के मामले में भी पुलिस के हाथ खाली थे. बाद में किसान के परिवार ने 6 लाख रुपये की फिरौती देकर उसे मुक्त कराया.

बबली कोल कैसे बना डकैत

अपनी डकैती के कारनामों से दो राज्यों की पुलिस के नाक में दम करना वाला बबली कोल उत्तर प्रदेश के मानिकपुर के पास के एक गांव का निवासी थी. 2006 में पुलिस ने उसे डकैतों की मदद करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया. छह महीने जेल की सजा काटने के बाद वह बाहर आ गया. जेल से आते ही बबली कोल ने बंदूक उठा ली.

यह भी पढ़ें- मध्य प्रदेश के पन्ना में पेड़ पर बिजली गिरने का VIDEO हो रहा है वायरल

उसने पहली डकैती 2007 में मानिकपुर रेलवे स्टेशन के पास कामायनी एक्सप्रेस में की. विरोध करने पर उसने एक रशियन महिला को गोली मार दी. बबली कोल ने दोनों राज्यों के आधा दर्जन इलाकों में दहशत फैला रखी थी. बबली कोल के अपराध को सूचीबद्ध करने के लिए अंतर्राज्यीय अपराध सेल बनाया गया. जिसमें उसके खिलाफ डेढ़ दर्जन हत्याओं समेत दो दर्जन से ज्यादा अपहरण की वारदात पंजीबद्ध हैं. बबली कोल का रिकॉर्ड रहा है कि जब भी उसने किसी का अपहरण किया है उसे बिना फिरौती लिए नहीं छोड़ा.

First Published : 16 Sep 2019, 11:19:46 AM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×