News Nation Logo

मप्र के ग्रामीण इलाकों का वैक्सीनेशन को लेकर बदल रहा नजरिया

राज्य में टीकाकरण का अभियान जोर-शोर से चल रहा है. अब तक दो करोड़ से ज्यादा लोगों को टीके लग चुके है.

IANS/News Nation Bureau | Edited By : Nihar Saxena | Updated on: 02 Jul 2021, 01:14:02 PM
MP Corona

ग्रामीण क्षेत्रों में भी टीकाकरण पर बढ़ रही जागरूकता. (Photo Credit: न्यूज नेशन)

highlights

  • टीकाकरण पर जागरुकता ग्रामीण इलाकों में भी बढ़ी
  • कई इलाकों में भीड़ उमड़ने और भगदड़ की स्थिति भी बनी

भोपाल:

कोरोना महामारी को रोकने का हथियार वैक्सीनेशन है, यह बात अब लोगों के मन मस्तिष्क में घर करने लगी है. टीकाकरण को लेकर जागरुकता सिर्फ शहरी ही नहीं बल्कि ग्रामीण इलाकों में भी बढ़ रही है. इसके प्रमाण भी सामने आने लगे है. कई ग्राम पंचायतों का तो शत-प्रतिशत टीकाकरण ही हो चुका है. राज्य में टीकाकरण का अभियान जोर-शोर से चल रहा है. अब तक दो करोड़ से ज्यादा लोगों को टीके लग चुके है. टीकाकरण का अभियान जारी है. ग्रामीण इलाकों में टीकाकरण की शुरुआत में कई तरह की समस्याओं का प्रशासन और टीकाकरण के काम में लगे लोगों को करना पड़ा. कई स्थानों पर तो टीकाकरण दल के साथ दुर्व्यवहार तक होने की स्थितियां सामने आई.

ग्रामीणों के बीच व्याप्त भ्रम को खत्म करना लोगों के सामने चुनौती था क्योंकि उन्हें लगता था कि टीकाकरण से जान तक जा सकती है, नपुंसक हो सकते है. इन स्थितियों से निपटने के लिए जिले स्तर पर अलग-अलग तरह से रणनीति बनाकर उस पर अमल किया गया. बैतूल में तो आदिवासियों के पुजारियों को आगे कर लोगों को यह बताया गया कि टीकाकरण ही कोरोना से बचाव का एक मात्र हथियार है और जो भ्रांतियां है वह गलत है. इस कोशिश का असर हुआ और आदिवासियों ने टीके लगवाए. टीकाकरण का अभियान बढ़ने के साथ ग्रामीण इलाकों के लोगों में जागृति लाने के लिए की गई कोशिशों के नतीजे सामने आने लगे. जबलपुर जिले में तो ग्रामीण इलाकों से टीकाकरण के आंकड़े जो सामने आए है वह प्रशासन और सरकार को राहत देने वाले है. यहां की 33 ग्राम पंचायतों में शत-प्रतिशत टीकाकरण हेा चुका है. इस जिले के ग्रामीण इलाकों में तो लक्ष्य से भी अधिक टीकाकरण हेा चुका है.

जबलपुर के जिलाधिकारी कर्मवीर शर्मा ने गांव के लोगों में आई जागरुकता सकारात्मक सोच का नतीजा बताते हुए कहा स्वास्थ्य, राजस्व और ग्रामीण विकास विभाग सहित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधियों तथा ग्राम आपदा प्रबंधन समिति के सदस्यों के प्रयास और गांव वालों के आगे आने से संभव हो पाया है. इसी तरह शहडोल जिले की जमुई ग्राम पंचायत भी सौ प्रतिशत टीकाकृत हो चुकी हैं. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए वैक्सीनेशन एक सशक्त उपाय है. इस संजीवनी का उपयोग शहडोल जिले के जमुई ग्रामवासियों की तरह प्रदेश की हर ग्राम पंचायत को करने की जरूरत है.

मुख्यमंत्री चौहान का कहना है कि कोरोना वायरस अभी खत्म नहीं हुआ है, हम सबको कोरोना के बीच ही जीने की कला सीखनी होगी. विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना की तीसरी लहर आने की आंशका है. प्रदेश सरकार इसके लिये पूरी तरह से तैयार है. इसके लिए सभी आवश्यक व्यवस्थाएं अग्रिम रूप से की जा रही हैं. वहीं कई इलाकों से वैक्सीनेशन केंद्रों पर अव्यवस्था और वैक्सीन न उपलब्ध होने की बातें भी सामने आ रही है. इतना ही नहीं भीड़ भी खूब जमा हो रही है. इसी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने चिंता जताते हुए कहा, 'प्रदेश में वैक्सीनेशन के दौरान कई इलाकों में भारी भीड़ उमड़ने और भगदड़ की स्थिति पैदा होने के समाचार आए हैं. सरकार को टीकाकरण केंद्रों की संख्या और टीका लगाने के दिन बढ़ाने चाहिए. तीसरी लहर की आशंका के बीच लोगों को इस तरह एक जगह जमा करना, जोखिम मोल लेना है.'

First Published : 02 Jul 2021, 01:14:02 PM

For all the Latest States News, Madhya Pradesh News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

वीडियो