News Nation Logo
Agnipath Scheme: आज से Air Force में भर्ती के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होंगे 2002 Gujarat Riots: जाकिया जाफरी की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आज Agnipath Scheme: एयरफोर्स के लिए अग्निवीरों का रजिस्ट्रेशन आज से शुरू, ऐसे करें आवेदनRead More » राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा 27 जून को राष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना नामा Coronavirus: भारत में 17000 से ज्यादा केस, 5 माह में सबसे ज्यादा मामलेRead More » यशवंत सिन्हा को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल का 'जेड (Z)' श्रेणी का सशस्त्र सुरक्षा कवच प्रदान किया NCP प्रमुख शरद पवार से मिलने मुंबई के लिए शिवसेना नेता संजय राउत वाई.बी. चव्हाण सेंटर पहुंचे सुप्रीम कोर्ट ने एसआईटी जांच के खिलाफ जाकिया जाफरी की याचिका की खारिजRead More » महाराष्ट्र सियासी संकट पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को करेगा सुनवाई

मुख्यमंत्री ने लिया 5 घंटे में संज्ञान, 2 घंटे में निलंबित हो गया पुलिसकर्मी

बोकारो जिले के बारीडीह थाना में पदस्थापित पुलिस जवान सुखवंत सिंह को तीन लड़कों को बेवजह पीटने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 05 Mar 2020, 10:18:01 AM
Police

सीएम ने लिया 5 घंटे में संज्ञान, 2 घंटे में निलंबित हुआ पुलिसकर्मी (Photo Credit: फाइल फोटो)

रांची:  

झारखंड (Jharkhand) के बोकारो जिला में पुलिसकर्मियों को तीन किशोरों को बेवजह पीटना महंगा पड़ गया. पांच घंटे के भीतर ही इस मामले की जांच हो गई और ढाई घंटे के अंदर आरोपी पुलिस का जवान (कांस्टेबल) निलंबित भी हो गया. अमूमन इतनी तेजी से कार्रवाई बहुत कम ही देखने को मिलती है. आम तौर पर ऐसी घटनाओं को छोटा मानकर प्रशासन इसे नजरअंदाज कर देता है. लेकिन इस छोटी घटना पर भी झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने संज्ञान लिया और कार्रवाई हुई.

यह भी पढ़ें: बच्ची की दुष्कर्म के बाद हुई थी हत्या, कोर्ट ने महज 4 दिन में सुना दिया ऐतिहासिक फैसला

एक पुलिस के अधिकारी ने इस मामले को लेकर आईएएनएस से कहा कि बोकारो जिले के बारीडीह थाना में पदस्थापित पुलिस जवान सुखवंत सिंह को तीन लड़कों को बेवजह पीटने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है. आरोप है कि पांडेयपुरा गांव के रहने वाले तीन किशोर रिशु हेंब्रम, रवि हेंब्रम और विशल मुर्मू रविवार को एक डैम से स्नान कर वापस घर आ रहे थे. इसी क्रम में अपने एक सहयोगी के साथ कांस्टेबल सुखवंत सिंह ने इन तीनों लड़कों को रुकने के लिए कहा, लेकिन किशोर नहीं रुके और आगे बढ़ गए. इसके बाद कांस्टेबल ने किशोरों को पकड़ा और उनकी जमकर पिटाई कर दी. इसके बाद रिशु ने झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के नेताओं से भी मुलाकात की.

रिशु के बयान पर बालीडीह थाने में घटना की प्राथमिकी जरूर दर्ज कर ली गई, लेकिन कांस्टेबल पर कोई कार्रवाई नहीं की गई. दूसरे दिन यानी सोमवार को सुबह 9.24 बजे तीर्थनाथ बिरसा नामक एक युवक ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को ट्वीट कर दिया, जिसमें लिखा, 'बोकारो के बालीडीह थाना क्षेत्र के गरगा डैम में नहाने गए तीन नाबालिग आदिवासी लड़कों रिशु हेम्ब्रम, विशाल और रवि हेम्ब्रम को थाना के टाइगर मोबाइल के जवान सरदार सुखवंत सिंह और अन्य एक जवान ने आकर बिना कुछ बोले बेरहमी के साथ मारा.'

यह भी पढ़ें: पेंशन के लिए 40 साल दर-दर भटकी महिला, कोर्ट ने सरकार पर लगाया 50 हजार का जुर्माना

इसकी जानकारी मिलने के बाद मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडल से अपराह्न 2.26 बजे ट्वीट किया गया, 'जिलाधिकारी मामले की पूरी जांच करें और अगर जवान दोषी पाया जाता है, तो कड़ी कार्रवाई कर सूचित करें.' इस मामले में बोकरो के उपायुक्त (जिलाधिकारी) मुकेश कुमार ने शाम 4.44 बजे ट्वीट कर बताया, 'इस मामले की जांच की गई, जिसमें संबंधित पुलिसकर्मी को दोषी पाया गया. इसलिए दोषी पुलिसकर्मी सुखवंत सिंह को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.'

इधर, रिशु द्वारा दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि घुटने के बल बिठाकर उन तीनों को पीटा गया है. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद से ही हेमंत सोरेन ट्विटर पर काफी सक्रिय हैं. लोगों की समस्याओं के संज्ञान में आने के बाद उस पर कार्रवाई का अधिकारियों को निर्देश भी दे रहे हैं.

यह वीडियो देखें: 

First Published : 05 Mar 2020, 09:49:33 AM

For all the Latest States News, Jharkhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.