News Nation Logo
Banner

10-12 लड़कों ने किया 3 महीने में किशोरी से 30 बार दुष्कर्म, मुख्यमंत्री ने दिए काउंसलिंग के निर्देश

24 फरवरी को जिला विधिक सेवा प्राधिकार की पारा लीगल वलेंटियर खुशबू खातून ने पीड़िता को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के सामने पेश किया, जिसके बाद यह मामला प्रकाश में आया.

IANS | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 04 Mar 2020, 11:20:39 AM
Rape Case

किशोरी से 30 बार दुष्कर्म, मुख्यमंत्री ने दिए काउंसलिंग के निर्देश (Photo Credit: फाइल फोटो)

रांची:  

झारखंड (Jharkhand) के खूंटी जिले में 15 वर्षीय एक नाबालिग लड़की के साथ तीस बार से अधिक सामूहिक दुष्कर्म (Rape) की घटना के मामले में अब सभी आरोपियों की गिरफ्तारी और कठोर कार्रवाई की आस लोगों में जगी है. इस मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने खूंटी जिला प्रशासन को पीड़िता का काउंसलिंग कराने के निर्देश दिए हैं. पीड़िता का आरोप है कि 10-12 लड़कों ने तीन महीने में 25-30 बार दुष्कर्म किया है. 24 फरवरी को जिला विधिक सेवा प्राधिकार की पारा लीगल वलेंटियर खुशबू खातून ने पीड़िता को चाइल्ड वेलफेयर कमेटी के सामने पेश किया, जिसके बाद यह मामला प्रकाश में आया.

यह भी पढ़ें: पेंशन के लिए 40 साल दर-दर भटकी महिला, कोर्ट ने सरकार पर लगाया 50 हजार का जुर्माना

खूंटी के चाइल्ड वेलफेयर कमिटी (सीडबल्यूसी) दिए बयान के मुताबिक, घटना की तारीख उसे याद नहीं है. पीड़िता जब खूंटी बाजार गई थी, तभी बगडू के रहने वाले बजरंग नाम के लड़के से बातचीत हुई और फिर दोनों में दोस्ती हो गई. उसके साथ उसका मित्र सूरज भी था. बातचीत के बाद दोनों उसे बाइक पर बिठाकर सिंबुकेल गांव लेकर गए और दोनों ने हड़िया (एक प्रकार का नशीला पेय पदार्थ) पी और उसका मोबाइल ले लिया. बाद में उसे बाजार लाकर छोड़ दिया.

आरोप है कि जब भी पीड़िता बजरंग को फोनकर अपना मोबाइल वापस मांगती, तो वह उसे बुलाकर किसी सुनसान जगह पर ले जाता और दुष्कर्म करता. हर बार उसके साथ कई और लड़के रहते थे. विरोध करने पर वे जान से मारने की धमकी देते थे. यह सिलसिला तीन महीने तक चलता रहा.

यह भी पढ़ें: दिल्ली के बाद अब इस राज्य में भी मिलेगी लोगों को मुफ्त बिजली, खुलेंगे मोहल्ला क्लीनिक

खशबू की मदद से पीड़िता को आश्रय गृह 'सहयोग विलेज' में रखा गया है. इधर, इस मामले के प्रकाश में आने के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को ट्वीट कर पारा लीगल वलेंटियर खुशबू को धन्यवाद देते हुए लिखा, 'इस बेटी की मदद करने के लिए धन्यवाद खुशबू जी. उपायुक्त, खूंटी उचित कार्रवाई कर बिटिया को मेडिकल, काउंसलिंग तथा न्यायिक मदद पहुंचवाकर सूचित करें. खूंटी पुलिस कठोर कार्रवाई के लिए बचे हुए आरोपियों की शीघ्र धरपकड़ कर सूचित करें.'

इधर, खूंटी जिला प्रशासन ने मुख्यमंत्री के ट्वीट के जवाब में ट्वीट कर लिखा, 'मेडिकल और कउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है. प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश के द्वारा भी इस केस को 'स्पीडी ट्रायल' के अंतर्गत सुना जाएगा. साथ ही साथ, 'विक्टिम कंपनसेशन' के तहत लाभ पहुंचाने की भी कार्यवाही शुरू कर दी गई है.'

यह भी पढ़ें: लॉ छात्रा दुष्कर्म मामला : झारखंड में 11 लोगों को उम्रकैद की सजा

इस बीच, खूंटी के पुलिस अधीक्षक आशुतोष शेखर ने बताया कि एक मार्च को छह आरोपियों की गिरफ्तारी कर ली गई है तथा अन्य को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी चल रही है. उन्होंने उम्मीद जताते हुए कहा कि एक से दो दिन में वह भी गिरफ्तार कर लिए जाएंगे. उन्होंने कहा कि पीड़िता की चिकित्सकीय जांच कराया गया है. खूंटी सीडबल्यूसी के सदस्य बैजनाथ कुमार ने बताया कि पीड़िता आगे पढ़ने की इच्छा जताई है. इसे जल्द ही स्कूल में दाखिला करवाया जाएगा और पूरी व्यवस्था कराई जाएगी.

उल्लेखनीय है कि इन दिनों सोरेन ने ट्विटर को शासन करने का साधन बना दिया है. 29 दिसंबर को मुख्यमंत्री का पद संभालने के बाद से उन्होंने अधिकारियों को सतर्क रखते हुए शासन से संबंधित कई ट्वीट किए हैं. लोग अब मुख्यमंत्री के ट्विटर हैंडल नियमित रूप से शिकायतों को आगे बढ़ाने के लिए टैग कर रहे हैं. इसकी चर्चा भी खूब हो रही है.

यह वीडियो देखें: 

First Published : 04 Mar 2020, 11:10:58 AM

For all the Latest States News, Jharkhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.