News Nation Logo
उत्तर प्रदेश : आज तीन बड़े मामले ज्ञानवापी, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा और ताजमहल पर सुनवाई प्रधानमंत्री आवास पर कैबिनेट और CCEA की बैठक, कुछ MoU समेत अहम मुद्दों पर हो सकता है फैसला कपिल सिब्बल सपा कार्यालय में अखिलेश यादव के साथ मौजूद, बनेंगे राज्यसभा उम्मीदवार राज्यसभा के लिए कपिल सिब्बल, डिंपल यादव और जावेद अली होंगे समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार- सूत्र पंजाब : ग्रुप सी और डी के पदों के लिए पंजाबी योग्यता टेस्ट कंपलसरी, भगवंत मान सरकार का फैसला मथुरा : जिला अदालत में श्रीकृष्ण जन्मभूमि मामले में 31 मई को होगी अगली सुनवाई मुंबई : मोटरसाइकिल पर दोनों सवारों को हेलमेट पहनना अनिवार्य होगा, 15 दिनों में नियम पर अमल यासीन मलिक की सजा पर बहस पूरी- ऑर्डर रिजर्व, दोपहर बाद विशेष NIA कोर्ट सुनाएगी सजा ज्ञानवापी हिंदुओं को सौंपने-पूजा की मांग वाला नया मामला सिविल जज फास्ट ट्रैक कोर्ट में स्थानांतरित अयोध्या : 1 जून को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर के गर्भगृह का शिला पूजन होगा, सीएम योगी होंगे शामिल उत्तराखंड : मौसम सामान्य होने के बाद आज दोबारा सुचारू रूप से शुरू हुई चारधाम यात्रा औरंगजेब की कब्र के बाद अब सतारा में मौजूद अफजल खान के कब्र पर बढ़ाई गई सुरक्षा
Banner

हेमंत सोरेन ने छोड़ी अपनी परंपरागत दुमका सीट, बिछने लगी चुनावी बिसात

दुमका को अपनी राजनीतिक कर्मभूमि मानने वाले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अब यहां से दूरी बना ली है.

News Nation Bureau | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 07 Jan 2020, 03:22:40 PM
हेमंत सोरेन ने छोड़ी अपनी परंपरागत दुमका सीट, बिछने लगी चुनावी बिसात

हेमंत सोरेन ने छोड़ी अपनी परंपरागत दुमका सीट, बिछने लगी चुनावी बिसात (Photo Credit: फाइल फोटो)

दुमका:  

दुमका को अपनी राजनीतिक कर्मभूमि मानने वाले झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने अब यहां से दूरी बना ली है. उन्होंने दुमका विधानसभा सीट को छोड़ दिया है और बरहेट विधानसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली. लेकिन उनके दुमका सीट छोड़ने से एक बार फिर चुनावी सरगर्मी बढ़ गई है. सबकी नजर राज्य की उपराजधानी दुमका पर फिर गढ़ने लगी है. यहां एक बार फिर झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के बीच बड़ी चुनावी जंग होना तय है. हालांकि पहले से ही झामुमो और बीजेपी के लिए दुमका सीट प्रतिष्ठा वाली रही है.

यह भी पढ़ेंः पूर्व सीएम बाबूलाल मरांडी की हो सकती है 'घर वापसी', ले सकते हैं ये बड़ा फैसला

2019 के विधानसभा चुनाव में झारखंड के अंदर पूर्वी जमशेदपुर के बाद दुमका ही सबसे हॉट सीट थी. इस सीट पर बीजेपी और झामुमो के बीच सीधा मुकाबला रहा. झामुमो की ओर से खुद हेमंत सोरेन और रघुवर सरकार में मंत्री रहीं डॉ. लुईस मरांडी चुनावी अखाड़े में उतरे. 23 दिसंबर 2019 को आए नतीजों में हेमंत सोरेन ने लुईस मरांडी को करारी शिकस्त देते हुए 2014 का बदला लिया. 2019 के चुनाव में हेमंत सोरेन ने 13 हजार से अधिक वोटों से जीत दर्ज कर लुईस मरांडी को हराया और अपनी पुरानी सीट बीजेपी के कब्जे से छीन ली. हालांकि इससे पहले 2014 में हेमंत को लुईस मरांडी के हाथों हार झालने पड़ी थी. इस बार के चुनाव में हेमंत सोरेन ने दुमका के अलावा बरहेट विधानसभा सीट पर जीत हासिल की है.

यह भी पढ़ेंः चप्पल पहन गार्ड ऑफ ऑनर लेने पहुंचे हेमंत सोरेन, बोले- जल्द खत्म करूंगा पुरानी परंपरा

अब हेमंत सोरेन ने इस सीट को छोड़ दिया है. जिसके बाद अब यहां उपचुनाव होना है. उपचुनाव में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की प्रतिष्ठा दांव पर रहेगी तो बीजेपी को फिर से अवसर का लाभ उठाने का मौका मिलेगा. कयास लगाया जा रहा है कि दुमका सीट से हेमंत के छोटे भाई बसंत सोरेन उपचुनाव लड़ेंगे. दुमका सीट को काफी हॉट सीट के रूप में देखा जाता है और यहीं से राज्य के राजनीति की दशा दिशा तय की जाती है. यही वजह है कि झामुमो लगातार इस सीट को बरकार रखने के लिए अपने छोटे भाई बसंत सोरेन को प्रत्याशी बनाकर जीत का झंडा गाड़ना चाहती है. उपचुनाव के लिए झामुमो प्रत्याशी के रुप में कल्पना सोरेन के नाम पर भी चर्चा है.

First Published : 07 Jan 2020, 03:22:40 PM

For all the Latest States News, Jharkhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.