logo-image
लोकसभा चुनाव

बेल के लिए सोरेन ने हाईकोर्ट में दर्ज की याचिका, 31 जनवरी को हुई थी गिरफ्तारी

झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही. सोरेन को 31 जनवरी की देर रात ईडी की टीम ने जमीन घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किया था. जिसके बाद से सोरेन जेल में बंद है.

Updated on: 27 May 2024, 05:45 PM

highlights

  • सोरेन ने हाईकोर्ट में दर्ज की याचिका
  • सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद याचिका ली वापस
  • मनी लॉन्ड्रिंग केस में किया गया था गिरफ्तार

Ranchi:

झारखंड के पूर्व सीएम हेमंत सोरेन की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही. सोरेन को 31 जनवरी की देर रात ईडी की टीम ने जमीन घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में गिरफ्तार किया था. जिसके बाद से सोरेन जेल में बंद है. वहीं, अब सोरेन ने झारखंड हाईकोर्ट मं याचिका दायर की है. इससे पहले 22 मई को सोरेन ने ईडी की कार्रवाई और गिरफ्तारी को चुनौती देने वाली याचिका को सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद वापस ले ली थी. बता दें कि 13 मई को रांची की स्पेशल पीएमएल कोर्ट ने सोरेन की जमानत याचिका को खारिज कर चुकी है. एक बार फिर सोरेन की ओर से दायर की गई जमानत याचिका में कहा गया है कि उनके खिलाफ जो ईडी ने 8.86 एकड़ जमीन पर कब्जे का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की है, उससे जुड़े दस्तावेज उनके पास नहीं है. 

यह भी पढ़ें- Jharkhand Lok Sabha Election 2024: 3 सीटों पर 93 प्रत्याशी, इन दिग्गज नेताओं के बीच मुकाबला

सोरेन ने हाईकोर्ट में दर्ज की याचिका

दरअसल, यह जमीन झारखंड की सीएनटी (छोटानागपुर टेनेंसी एक्ट) के तहत भुईंहरी नेचर के नाम है, जो किसी भी हाल में किसी व्यक्ति के नाम पर ट्रांसफर नहीं किया जा सकता है. इसके साथ ही याचिका में कहा गया है कि पीएमएल के तहत जमीन के अवैध कब्जे में शेड्यूल ऑफेंस के तहत केस नही बनता है. बहरहाल, सोरेन की याचिका पर सुनवाई की तारीख अभी तय नहीं की गई है. आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने सोरेन की याचिका पर सुनवाई करते हुए नाराजगी जताई थी और कहा कि सोरेन की ओर से दर्ज की गई पिटीशन में इस फैक्ट को छिपाया गया कि उनके खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग केस में ईडी की स्पेशल कोर्ट संज्ञान ले चुकी है. जिसके बाद सोरेन के वकील कपिल सिब्बल ने सुप्रीम कोर्ट से याचिका वापस लेने की इजाजत मांगी थी.

मनी लॉन्ड्रिंग केस में 31 जनवरी को किया गया था गिरफ्तार

आपको बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने सोरेन को 10 बार समन भेजा था, जिसमें से सिर्फ दो समन का सोरेन ने जवाब दिया था. 31 जनवरी को करीब 8 घंटे तक पूछताछ के बाद ईडी ने उन्हें देर रात गिरफ्तार कर लिया था. गिरफ्तारी से पहले सोरेन राज्यपाल के पास पहुंचे थे और अपना इस्तीफा सौंप दिया था. वहीं, सोरेन रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं.