logo-image

Jharkhand: विधानसभा चुनाव के बीच रांची में जेपी नड्डा की सभा, जानें क्या है मकसद  

Jharkhand Politics : देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद अगले साल लोकसभा चुनाव होगा. आम चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां अभी से तैयारी में जुट गई हैं.

Updated on: 28 Oct 2023, 07:50 PM

रांची:

Jharkhand Politics : देश के पांच राज्यों में अगले महीने नवंबर में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. चुनावी राज्यों में मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिरोमज शामिल हैं. इसके बाद अगले साल लोकसभा चुनाव 2024 होगा और उसके साथ झारखंड विधानसभा चुनाव भी है. इससे पहले सभी राजनीतिक पार्टियां तैयारी में जुट गई हैं. इस बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा झारखंड की राजधानी रांची पहुंचे और जनसभा को संबोधित किया. 

यह भी पढ़ें : Chhattisgarh Election: राहुल गांधी बोले- हमारी सरकार बनते ही हमने दो घंटे में वो कर दिखाया, जो...

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने रांची में 'संकल्प यात्रा 2023' के समापन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि यहां मैं आज जो उत्साह और उमंग देख रहा हूं उससे पता लगता है कि जनता ने संकल्प ले लिया है कि अगली बार फिर से यहां कमल खिलाना है और बीजेपी को लाना है. उन्होंने कहा कि जब मैं हेमंत सोरेन की बात करता हूं तो हमें ध्यान आता है कि इन्होंने आदिवासियों के बारे में चर्चा की, उनके नाम पर वोट मांगे और जितना नुकसान आदिवासियों और उनके हितों का हेमंत सोरेन की सरकार ने किया है उतना किसी ने नहीं किया है.

उन्होंने आगे कहा कि वोट की राजनीति के लिए धर्मांतरण को मौन रहकर देखना अपने आप में बताता है कि हमारे भाइयों की संस्कृति कहीं भी चली जाए, लेकिन हेमंत सोरेन का वोट नहीं जाना चाहिए. वो वोट के लिए हर कुछ करने को तैयार हैं. नड्डा ने कहा कि ये फरेबियों की सरकार है, ये ऐसी सरकार है, जिसमें महिलाओं का सम्मान नहीं है. ये सरकार अत्यंत भ्रष्टाचार में डूबी है. ये ऐसी सरकार है जहां मुख्यमंत्री के पीछे ED पड़ी है और मुख्यमंत्री भागते फिर रहे हैं. ये ऐसी सरकार है जहां शराब माफिया, लैंड माफिया, सैंड माफिया हर किस्म के माफिया दनदना रहे हैं.

यह भी पढ़ें : BJP की सरकार बनी तो इस जाति के पास रहेगी राज्य की बागडोर, अमित शाह ने की घोषणा

जेपी नड्डा ने आगे कहा कि भाजपा की सरकार और भाजपा के कार्यकर्ता जब सत्ता पर बैठते हैं तो लोगों की सेवा के लिए बैठते हैं, लोगों के काम करने के लिए बैठते हैं, झारखंड की तस्वीर और तकदीर बदलने के लिए बैठते हैं, लेकिन जब JMM के लोग सत्ता पर बैठते हैं तो वो अपनी सेवा के लिए बैठते हैं, मेवा खाने के लिए बैठते हैं. वे कहते हैं कि CBI और ED भेज दी, अगर CBI और ED गलत है तो आप कोर्ट का दरवाजा क्यों नहीं खटखटाते? आप क्यों राहत लेने की कोशिश नहीं करते?