News Nation Logo

बीजेपी ने झारखंड विधानसभा में किया जबरदस्त हंगामा, लगाए जय श्रीराम के नारे

Bhasha | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 02 Mar 2020, 04:52:31 PM
jharkhand assembly

बीजेपी ने झारखंड विधानसभा में किया हंगामा, लगाए जय श्रीराम के नारे (Photo Credit: फाइल फोटो)

रांची:  

झारखंड विधानसभा (Jharkhand Assembly) की कार्यवाही भाजपा के हंगामे के कारण सोमवार को दिनभर के लिए स्थगित कर दी गई. राज्य विधानसभा के बजट सत्र के दूसरे दिन बाबूलाल मरांडी (Babulal Marandi) को विपक्ष का नेता बनाए जाने पर विधानसभा अध्यक्ष के निर्णय में हो रही देरी के खिलाफ भाजपा (BJP) विधायकों ने जबरदस्त विरोध प्रदर्शन किया. इसके चलते भोजनावकाश के बाद सिर्फ तृतीय अनुपूरक बजट मांगें ध्वनिमत से पारित कराकर सदन की कार्यवाही दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी. मंगलवार को राज्य का आगामी वित्तीय वर्ष का बजट पेश किया जाना है. भोजनावकाश के बाद जब अपराह्न दो बजे विधानसभा की कार्यवाही प्रारंभ हुई तो एक बार फिर से भाजपा विधायकों का विरोध प्रदर्शन जारी रहा और उन्होंने लोकतंत्र की हत्या नहीं किए जाने की मांग की.

यह भी पढ़ें: Lohardaga Violence: लोहरदगा हिंसा के पीछे हेमंत सरकार का हाथ, बाबूलाल मरांडी का बड़ा आरोप

उन्होंने पार्टी के साथ न्याय करने की मांग की और अध्यक्ष के आसन के सामने आकर जय श्रीराम के नारे लगाये. हंगामे के बीच विधानसभाध्यक्ष रवींन्द्रनाथ महतो ने कई बार भाजपा विधायकों से अपना स्थान ग्रहण करने का आग्रह किया लेकिन वे अपनी मांग पर अड़े रहे. इस बीच विधानसभाध्यक्ष ने वित्त मंत्री कांग्रेस के रामेश्वर उरांव को अनुपूरक बजट मांग पर चर्चा प्रारंभ कराने का निर्देश दिया. महतो ने कटौती प्रस्ताव रखने वाले सरयू राय से अपने प्रस्ताव पर सदन में अपनी बात रखने को कहा लेकिन राय ने सदन में व्यवस्था कायम कराने का अनुरोध किया. जब सरयू राय ने अपना वक्तव्य नहीं दिया तो मंत्री रामेश्वर उरांव ने सदन में अनुपूरक बजट मांगें पारित करने का प्रस्ताव पेश कर दिया जिसे हंगामे के बीच सदन से ध्वनिमत से पारित कर दिया.

इस बीच स्वयं राय ने बिना किसी चर्चा के अपना कटौती प्रस्ताव वापस भी ले लिया. भोजनावकाश के बाद भी विधानसभा की कार्यवाही कुल लगभग पंद्रह मिनट ही चल सकी और तृतीय अनुपूरक बजट मांगें पारित कराये जाने के बाद विधानसभा की कार्यवाही मंगलवार की पूर्वान्ह्र ग्यारह बजे तक स्थगित कर दी गयी. इससे पूर्व भी विधानसभा की कार्यवाही दो बार स्थगित करनी पड़ी थी और पूर्वाह्न में हंगामे के बीच कार्यवाही सिर्फ 15 मिनट ही चल सकी जिस दौरान सत्ता पक्ष ने जहां वर्तमान वित्तीय वर्ष की आर्थिक सर्वेक्षण रिपोर्ट सदन में पेश की तो वहीं तृतीय अनुपूरक बजट मांगों पर चर्चा प्रारंभ करायी गई. सदन की कार्यवाही पूर्वान्ह्र ग्यारह बजे जैसे ही प्रारंभ हुई मुख्य विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी के सभी विधायक अध्यक्ष के आसन के सामने आ गये और अपने विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी को विपक्ष का नेता घोषित करने की मांग करने लगे.

यह भी पढ़ें: जो जनता का काम लटकाएंगे, वे अफसर निलंबित होंगे, भ्रष्टाचार पर CM हेमंत सोरेन ने चेताया

भाजपा विधायकों ने विधानसभाध्यक्ष महतो पर पक्षपात का आरोप लगाया और कहा कि झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस के दबाव में वह बाबूलाल मरांडी को विपक्ष का नेता नहीं घोषित कर रहे हैं. भाजपा ने इस मामले में न्याय शीघ्र किये जाने की मांग की. भाजपा विधायकों को विधानसभाध्यक्ष महतो ने समझाने की कोशिश की और कहा कि उनके साथ न्याय होगा लेकिन न्याय की प्रक्रिया है जिसमें कुछ समय लगेगा जिसकी सभी को प्रतीक्षा करनी होगी. इस पर भाजपा के विधायक नारेबाजी करने लगे जिसके चलते सदन की कार्यवाही विधानसभाध्यक्ष महतो ने साढ़े बारह बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

बाद में साढ़े बारह बजे एक बार फिर सदन की कार्यवाही प्रारंभ होने पर भाजपा विधायकों ने अपना विरोध जारी रखा और मरांडी को विपक्ष का नेता घोषित किये जाने की मांग की. उनकी नारेबाजी के बीच ही विधानसभाध्यक्ष ने वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव को वित्तीय वर्ष 2019-20 का आर्थिक सर्वेक्षण सदन के पटल पर रखने को कहा. हंगामे के बीच ही उन्होंने सदन के पटल पर यह रिपोर्ट रखी और सदन से ध्वनिमत से इसके वितरण पर सहमति ले ली गयी. बाद में सदन में वर्तमान वित्तीय वर्ष की तृतीय अनुपूरक बजट मांगों पर चर्चा की शुरुआत करायी गयी.

यह भी पढ़ें: महिला IAS ने पेश की नजीर, सरकारी अस्पताल में दिया बच्चे को जन्म

जिस पर अपना कटौती प्रस्ताव विधायक सरयू राय ने रखा जिसके बाद अध्यक्ष ने इस मामले पर दोपहर दो बजे चर्चा कराने की बात कहकर सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए एक बार फिर स्थगित कर दी. सदन के बाहर भाजपा ने आरोप लगाया कि सत्ताधारी झामुमो, कांग्रेस और राजद के दबाव में अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी को विपक्ष का नेता नहीं घोषित कर रहे हैं. भाजपा विधायक विरंची नारायण ने आरोप लगाया कि वास्तव में सरकार राज्यसभा की दो सीटों के लिए होने वाले द्विवार्षिक चुनावों में हेरफेर की दृष्टि से मरांडी की विधानसभा की सदस्यता समाप्त कराने की फिराक में है.

संसदीय कार्यमंत्री और कांग्रेस विधायक आलमगीर आलम ने भाजपा के इन आरोपों का खंडन किया. मंगलवार को सदन में आगामी वित्तीय वर्ष का बजट पेश किया जाना है जिसे लेकर राज्य सरकार और विपक्षी भाजपा भी अपनी-अपनी रणनीति बनाने में अभी से जुट गये हैं. भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने पार्टी के सभी विधायकों की विधानसभा भवन में कल सुबह दस बजे बैठक बुलायी है. बैठक में प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश भी उपस्थित रहेंगे.

First Published : 02 Mar 2020, 04:52:31 PM

For all the Latest States News, Jharkhand News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.