News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

Terror Funding Case: NIA ने प्रतिबंधित जम्मू-कश्मीर जमात के 56 ठिकानों पर छापेमारी की 

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) ने रविवार को जम्मू-कश्मीर जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख सदस्यों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में 56 स्थानों पर छापेमारी की

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Sharma | Updated on: 08 Aug 2021, 09:52:43 PM
NIA

NIA (Photo Credit: News Nation)

नई दिल्ली:  

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ( NIA ) ने रविवार को जम्मू-कश्मीर जमात-ए-इस्लामी के प्रमुख सदस्यों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में 56 स्थानों पर छापेमारी की. अधिकारी ने यह जानकारी दी. एनआईए के एक प्रवक्ता ने कहा कि आतंकवाद निरोधी जांच एजेंसी ने CRPF और जम्मू-कश्मीर पुलिस ( Jammu and Kashmir Police ) के साथ श्रीनगर, बडगाम, गांदरबल, बारामूला, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, कुलगाम, रामबन, डोडा, किश्तवाड़ और राजौरी जिले में तलाशी ली. अधिकारी ने कहा कि एजेंसी ने इस साल 5 फरवरी को केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश पर जम्मू-कश्मीर जेईआई की अलगाववादी और अलगाववादी गतिविधियों से संबंधित एक मामला दर्ज किया था, जो 28 फरवरी, 2019 को इसके निषेध के बाद गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत एक गैरकानूनी संगठन है.

यह भी पढ़ेंःUP CM पर संजय सिंह का हमला, कहा-दलित बच्‍ची को न्‍याय नहीं दिलाना चाहते योगी

अधिकारी ने कहा, "संगठन के सदस्य दान के माध्यम से घरेलू और विदेश में धन एकत्र करते रहे हैं, विशेष रूप से 'जकात, मौदा और बैत-उल-मल' के रूप में, कथित तौर पर आगे दान और अन्य कल्याणकारी गतिविधियों के लिए, लेकिन इन निधियों का उपयोग हिंसक और अलगाववादी गतिविधियों के लिए किया जा रहा है."अधिकारी ने कहा कि खीक द्वारा जुटाई गई धनराशि को भी खीक कैडरों के सुव्यवस्थित नेटवर्क के माध्यम से हिजबुल-मुजाहिदीन (एचएम), लश्कर-ए-तैयबा (एलईटी) और अन्य जैसे प्रतिबंधित आतंकवादी संगठनों के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है. अधिकारी ने कहा, "जेईआई कश्मीर के प्रभावशाली युवाओं को भी प्रेरित कर रहा है और विघटनकारी अलगाववादी गतिविधियों में भाग लेने के लिए जम्मू-कश्मीर में नए सदस्यों (रुकुन) की भर्ती कर रहा है." अधिकारी ने कहा कि रविवार को की गई तलाशी में प्रतिबंधित संघ के पदाधिकारियों के परिसर, उसके सदस्य और जेईआई द्वारा संचालित ट्रस्टों के कार्यालय भी शामिल हैं.

यह भी पढ़ेंःसीएम योगी पर संजय सिंह का पलटवार, ब्राम्हणों, दलितों और पिछड़ों को लेकर कही ये बात

अधिकारी ने कहा, "तलाशी के दौरान संदिग्धों के परिसरों से विभिन्न आपत्तिजनक दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जब्त किए गए." यहां रिपोटरें में कहा गया है कि जेएम के स्वामित्व वाले और श्रीनगर के नौगाम बाहरी इलाके में स्थित फलाह-ए-आम ट्रस्ट पर भी छापा मारा गया है. एनआईए सूत्रों ने कहा कि इन छापों का फोकस प्रतिबंधित संगठन के फंडिंग स्रोतों की जांच करना है. सूत्र ने कहा कि मनीगाम गांदरबल निवासी गुल मोहम्मद वार और जेईआई के जिला प्रमुख अब्दुल हामिद भट, गमचीपोरा बटवीना निवासी, जहूर अहमद रेशी, एक जेई सदस्य और अब पूर्व शिक्षक जो अब सफापोरा में एक दुकान चला रहा है और सफापोरा में मेहराजदीन रेशी के परिसरों में भी तलाशी ली जा रही है.

रेशी एक पूर्व आतंकवादी है और अब एक दुकान चलाता है. अधिकारी, हालांकि, अन्य लोगों के नाम साझा करने पर चुप्पी साधे रहे, जिनके परिसरों की एजेंसी ने तलाशी ली थी. हाल के दिनों में एनआईए ने दो अलग-अलग मामलों में अलग-अलग जगहों पर तलाशी ली है और कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया है.

 

First Published : 08 Aug 2021, 09:48:43 PM

For all the Latest States News, Jammu & Kashmir News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.