News Nation Logo
Banner

फारूक अब्‍दुल्‍ला की बहन और बेटी हिरासत में, अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने का कर रहे थे विरोध

5 अगस्त को केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को निष्‍प्रभावी किए जाने के बाद से ही फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah), उमर अब्‍दुल्‍ला (Omar Abdullah) और महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) हिरासत में हैं.

By : Sunil Mishra | Updated on: 15 Oct 2019, 03:02:29 PM
अनुच्‍छेद 370 हटाने का विरोध कर रहीं फारूक की बहन-बेटी हिरासत में

अनुच्‍छेद 370 हटाने का विरोध कर रहीं फारूक की बहन-बेटी हिरासत में (Photo Credit: ANI Twitter)

नई दिल्‍ली:

जम्‍मू-कश्‍मीर (Jammu and Kashmir) पुलिस ने पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के मुखिया फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) की बेटी साफिया और बहन सुरैया को हिरासत में ले लिया है. साफिया और सुरैया श्रीनगर में जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 (Article 370) हटाने का विरोध कर रही थीं. 5 अगस्त को केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 को निष्‍प्रभावी किए जाने के बाद से ही फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah), उमर अब्‍दुल्‍ला (Omar Abdullah) और महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) हिरासत में हैं. फारुख अब्दुल्ला को साफिया अब्दुल्ला, हिना अब्दुल्ला और सराह तीन बेटियां और एक बेटा उमर अब्‍दुल्‍ला हैं. सराह की शादी कांग्रेस नेता और राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट से हुई है.

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार 1 दिसंबर से शुरू करेगी One Nation One Fastag स्‍कीम, जानें इसके फायदे

मंगलवार को श्रीनगर में Women of Kashmir के बैनर तले कुछ महिलाएं अनुच्‍छेद 370 हटाए जाने के विरोध में प्रदर्शन कर रही थीं. इसमें साफिया और सुरैया भी शामिल थीं. विरोध प्रदर्शन के दौरान ही दोनों को हिरासत में लिया गया. पहले पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं को रोका और शांतिपूर्वक लौट जाने को कहा. महिलाएं नहीं मानीं तो हिरासत में ले लिया गया.

प्रदर्शनकारी महिलाओं ने पुलिस के रोक के बाद भी मीडिया को एक बयान दिया, जिसमें कहा गया, ‘हम कश्मीर की महिलाओं ने भारत सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 और 35A को हटाए जाने तथा राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के एकतरफा फैसले को अस्वीकार कर दिया है.”

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान की मदद करेगा हिंदुस्तान मगर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रखी ये शर्त

महिलाओं ने हिरासत में लिए गए लोगों को तत्काल रिहा करने और ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के विसैन्यीकरण की भी मांग की. बयान में यह भी कहा गया है ‘हम कश्मीर में झूठे एवं गुमराह करने वाले प्रचार के लिए राष्ट्रीय मीडिया के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त करते हैं.’

First Published : 15 Oct 2019, 03:01:19 PM

For all the Latest States News, Jammu & Kashmir News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×