logo-image
लोकसभा चुनाव

Haryana में कांग्रेस ने किया बहुमत का दावा, भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने विधायकों की संख्या भी गिनवाई

हरियाणा के पूर्व CM और कांग्रेस नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा ने पेश किया दावा, सभी विधायकों के संख्या बल को सामने रखा

Updated on: 10 May 2024, 06:08 AM

नई दिल्ली:

Bhupendra Singh Hooda on Haryana Politics: हरियाणा के पूर्व सीएम और कांग्रेस नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा ने राज्य में पार्टी के बहुमत का दावा पेश किया है. उन्होंने कहा कि राज्य में नायब सिंह सैनी की सरकार अल्पमत में है. कांग्रेस के विधायक एकसाथ हैं. इस दौरान पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने विधायकों के आंकड़े भी पेश किए. उन्होंने कहा, कांग्रेस के 30, जेजेपी के 10, निर्दलीय 3 हैं.  इसके साथ ही उन्होंने बलराज कुंडू और अभय चौटाला को गिनवाकर 45 विधायकों की संख्या पेश की है. विधायकों की परेड कराने को कहा है. 

ऐसे हालात को लेकर कांग्रेस नेता भूपिंदर सिंह हुड्डा ने नैतिकता के आधार पर सीएम नायब सिंह सैनी से इस्तीफा मांगा है. वहीं प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लागू करने की डिमांड की है. इसके साथ नए सिरे से विधानसभा चुनाव कराने की मांग रखी है. पूर्व सीएम भूपिंदर सिंह हुड्डा के सचिव शादी लाल कपूर ने हरियाणा राजभवन को खत लिखकर राज्य की वर्तमान राजनीतिक हालात पर राज्यपाल से समय मांगा है. इसे लेकर राज्यपाल से 10 मई तक समय देने का अनुरोध किया है. 

 

संकट के बादल छाए हुए हैं

हरियाणा सरकार पर सात मई के बाद से संकट के बादल छाए हुए हैं. तीन निर्दलीय विधायकों ने भाजपा सरकार से समर्थन वापस ले लिया. समर्थन लेने वाले तीन विधायकों में पुंडरी के रणधीर गोलन, नीलोखेड़ी के धर्मपाल गोंदर और चरखी दादरी के सोमवीर सांगवान हैं. सात मई को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए निर्दलीय विधायकों ने समर्थन की वापसी का ऐलान किया था. उस दौरान कांग्रेस नेता भूपिंद्र सिंह हुड्डा का कहना था कि सही समय पर लिया निर्णय जरूर रंग लाने वाला है.

नायब सिंह सैनी सरकार के पास अब 43 विधायक ही हैं

सत्ताधारी पार्टी की बात की जाए तो तीन निर्दलीय विधायकों के समर्थन वापस लेने के बाद नायब सिंह सैनी सरकार के पास अब 43 विधायक ही हैं. प्रदेश के पूर्व सीएम मनोहर लाल खट्टर और रणजीत चौटाला के इस्तीफे के बाद राज्य विधानसभा में कुल विधायकों की संख्या 88 है. इस आंकड़े के तहत राज्य में बहुमत में को लेकर 45 विधायकों के समर्थन की आवश्यकता है.