News Nation Logo
उत्तराखंड : बारिश के दौरान चारधाम यात्रा बड़ी चुनौती बनी, संवेदनशील क्षेत्रों में SDRF तैनात आंधी-बारिश को लेकर मौसम विभाग ने दिल्ली-NCR के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया राजस्थान : 11 जिलों में आज आंधी-बारिश का ऑरेंज अलर्ट, ओला गिरने की भी आशंका बिहार : पूर्णिया में त्रिपुरा से जम्मू जा रहा पाइप लदा ट्रक पलटने से 8 मजदूरों की मौत, 8 घायल पर्यटन बढ़ाने के लिए यूपी सरकार की नई पहल, आगरा मथुरा के बीच हेली टैक्सी सेवा जल्द महाराष्ट्र के पंढरपुर-मोहोल रोड पर भीषण सड़क हादसा, 6 लोगों की मौत- 3 की हालत गंभीर बारिश के कारण रोकी गई केदारनाथ धाम की यात्रा, जिला प्रशासन के सख्त निर्देश आंधी-बारिश के कारण दिल्ली एयरपोर्ट से 19 फ्लाइट्स डाइवर्ट
Banner

Year ender 2021: पहले लॉकडाउन में प्रदूषण मुक्त था वातावरण, दिल्ली में फिर हालात खराब

इस साल जनवरी से दिसंबर तक हर माह बीते सालों की तुलना में कहीं अधिक प्रदूषण देखने को मिला. अक्टूबर में रिकार्ड तोड़ बारिश होने से प्रदूषण से छुटकारा मिला. मगर नवंबर और दिसंबर में अक्टूबर की कसर भी पूरी हो गई.

News Nation Bureau | Edited By : Mohit Saxena | Updated on: 28 Dec 2021, 09:11:02 AM
pollution

दिल्ली में प्रदूषण का स्तर निचले पायदान पर पहुंचा (Photo Credit: twitter@ians)

highlights

  • पूरे साल में सिर्फ 18 अक्टूबर को दिल्ली वासियों को साफ हवा मिली
  • इस साल जनवरी से दिसंबर तक बीते सालों की तुलना में अधिक प्रदूषण देखने को मिला 
  • दिल्ली में प्रदूषण के लिए पराली का धुआं ही नहीं वाहन भी जिम्मेदार हैं

नई दिल्ली:  

पर्यावरण के लिए लिहाज से साल 2020 जितना ऐतिहासिक रहा, वर्ष 2021 उतना ही निचले स्तर पर पहुंच गया. दिल्ली में बीते साल पिछले सभी रिकॉर्ड टूट गए थे. प्रदूषण लगभग शून्य के स्तर पर पहुंच गया था. लॉकडाउन की वजह से हवा की गुणवत्ता इतनी अच्छी रही कि इंसान ही नहीं, पशु पक्षियों को भी नीला आसमान नसीब हुआ. मगर इस साल एक बार फिर दमघोटू वातावरण सामने देखने को मिल रहा है. पराली भी खूब जली. समय रहते प्रदूषण की रोकथाम के लिए कोई उपाय नहीं किए गए और जब प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ा तो नए-नए प्रतिबंध लगाए गए. पूरे साल में सिर्फ 18 अक्टूबर को दिल्ली वासियों को साफ हवा मिली. दिल्ली का वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) आज 347 (बहुत खराब श्रेणी में) दर्ज किया गया है.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) का वायु गुणवत्ता सूचकांक शनिवार को शून्य से 500 के पैमाने पर 431 रहा. जबकि एक दिन यानि शुक्रवार को यह 415 था, वहीं गुरुवार को यह 423 के आंकड़े पर था. हालांकि, मौसम विभाग ने अगले 24 घंटों में दिल्ली में बारिश की भविष्यवाणी की है, जिससे दिल्ली की हवा में सुधार की संभावना है. इस साल जनवरी से दिसंबर तक हर माह बीते सालों की तुलना में कहीं अधिक प्रदूषण देखने को मिला. अक्टूबर में रिकॉर्ड तोड़ बारिश हुई, इस दौरान प्रदूषण का स्तर थमा रहा. यहां पर एक दिन एयर इंडेक्स महज 46 के स्तर पर दर्ज हुआ. लोगों को अच्छी हवा नसीब हुई. मगर नवंबर और दिसंबर में अक्टूबर की कसर पूरी हो गई. इस साल मानसून में भी हवा की गुणवत्ता पर कोई खास सुधार देखने को नहीं मिला.कहने को दिल्ली सरकार ने 10 सूत्रीय विंटर एक्शन प्लान तैयार किया लेकिन उसका असर नजर नहीं आया. 

निजी वाहनों पर निर्भरता अभी भी समस्या 

दिल्ली में प्रदूषण के लिए पराली का धुआं ही नहीं वाहन भी जिम्मेदार हैं.   साल दर साल 5.81 फीसद की दर से राजधानी में निजी वाहनों की संख्या में इजाफा हो रहा है. यह संख्या डेढ़ करोड़ के आंकड़े को छू रही है. दिल्ली में सबसे अधिक दोपहिया वाहन और उसके बाद कारें पंजीकृत हैं. यहां तक की डीजल वाहनों की बात है तो इनकी संख्या निजी वाहनों में काफी ज्यादा है. प्रदूषण में इजाफे के लिए ये  प्रमुख रूप से जिम्मेदार है.

लैंडफिल की ऊंचाई घटाने की कोशिश

राजधानी की तीनों लैंडफिल साइट का मशीनों के जरिए ऊंचाई घटाने का कार्य जारी है. 12 से 16 मीटर तक की ऊंचाई घटाने में निगमों को सफलता भी मिली है.

वायु प्रदूषण पर नियंत्रण को लेकर दिल्ली सरकार की तैयारी 

-पराली प्रबंधन: 4200 एकड़ से अधिक क्षेत्र में संयुक्त हार्वेस्टर का उपयोग कर धूल-विरोधी अभियान चलाया गया.

-एंटी डस्ट कैंपेन: निर्माण स्थलों के नियमित निरीक्षण को लेकर 75 टीमें गठित. सभी बड़े निर्माणस्थलों पर एंटी स्माग गन का उपयोग.

-खुले में कचरा जलाना: 250 टीमें दिन रात निगरानी कर रही हैं.

-पटाखे:  पटाखों की बिक्री और उपयोक पर 31 दिसंबर 2021 तक रोक.

-स्माग टावर: दो वर्ष तक कनाट प्लेस में लगाए जाने वाले स्माग टावर को लेकर परीक्षण जारी है. 

- ग्रीन वार रूम:  शिकागो विश्वविद्यालय और जीडीआइ पार्टनर्स की मदद से प्रोग्राम मैनेजमेंट टीम (पीएमयू) का गठन. विशेषज्ञों और युवा पेशेवरों के लिए ग्रीन फेलोशिप. दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति (डीपीसीसी) में होगी 50 नए पर्यावरण इंजीनियरों की भर्ती.

- ग्रीन दिल्ली एप: एंड्राएड एप के एक नए अपग्रेडेड वर्जन को सामने लाया गया.

- वाहन प्रदूषण: 64 जाम वाली सड़कों की पहचान हुई. पीयूसीसी जांचने को लेकर 500 कर्मियों की तैनाती. पुराने वाहनों को स्क्रैप करने का अभियान जारी है.

 

First Published : 28 Dec 2021, 08:18:53 AM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.