News Nation Logo
Banner

Delhi Violence : दंगों में मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख का मुआवजा - केजरीवाल

दिल्ली हिंसा में 32 लोगों के मारे जाने की खबर सामने आ चुकी है. गुरुवार को दिल्ली के गोकुलपुरी में दो लाशें मिली है. बताया जा रहा है कि दोनों लाशें नाले से बरामद की गई है

News Nation Bureau | Edited By : Aditi Sharma | Updated on: 28 Feb 2020, 12:04:29 AM
अरविंद केजरीवाल

अरविंद केजरीवाल (Photo Credit: ट्विटर)

नई दिल्ली:

दिल्ली हिंसा (Delhi Violence) में मरने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. इसमें अब तक 38 लोगों के मारे जाने की खबर सामने आ चुकी है. गुरुवार को दिल्ली के गोकुलपुरी में दो लाशें मिली है. बताया जा रहा है कि दोनों लाशें नाले से बरामद की गई है. इससे पहले आईबी कर्मी अकिंत शर्मा का शव भी चांदबाग में नाले से मिला था. आज यानी गुरुवार को भी मौजपुर इलाके में सुरक्षाबल मार्च करेंगे जबकि सीलमपुर, जाफराबाद, बाबरपुर में एहतियातन भारी सुरक्षाबल को तैनात किया गया है. वहीं दिल्ली में हालात अभी भी काफी तनाव ग्रस्त हैं जिसको देखते हुए सीबीएसई बोर्ड ने नार्थ ईस्ट दिल्ली में करीब 80 परीक्षा केंद्रों की परीक्षाएं टाल दी हैं.

मुझे आतंकवादी कहा जा रहा है लेकिन जिन लोगों ने देश तोड़ने की बात कही है उस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है- कपिल मिश्रा 

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा जंतर मंतर पर पहुंचे और कहा कि मैंने कोई भड़काऊ बयान नहीं दिया है.

दंगों पर राजनीति कतई बर्दाश्त नहीं की जाएगी अगर मेरे मंत्रिमंडल में से कोई भी दोषी हो तो उसे दोगुनी सजा दी जाए.

इन दंगों में जो भी दोषी हैं चाहे वो आम आदमी पार्टी का हो चाहे वो बीजेपी का हो उन पर कठोर कार्रवाई होनी चाहिए- अरविंद केजरीवाल

कल से हिंसा की घटनाएं कम हुई है, मैं कल दंगा प्रभावित इलाकों का दौरा करके आया था. इसे लेकर आज बहुत सी बैठकें की गई है. - केजरीवाल

श्री श्री रविशंकर ने भी दिल्ली वासियों से दिल्ली हिंसा पर शांति बनाए रखने की अपील की है.

इसी के साथ कोर्ट ने सरकार को पक्षकार बनने की इजाजत भी दे दी है

कोर्ट ने सरकार को जवाब दाखिल करने के लिए चार हफ्ते का वक़्त दिया. अगली सुनवाई 13 अप्रैल को होगी

दिल्ली HC के जज आदेश पढ़ रहे है. उन्होंने कहा - केंद्र ने और वक़्त मांगा है. सरकार का कहना है कि भड़काऊ भाषण वाली सभी स्पीच को सीज किया है. फैसला लेने के वक्त चाहिए. सरकार ने खुद को पक्षकार बनाने की मांग की है.

इसी बीच सरकार की ओर से कोर्ट को जानकारी दी गई कि कुल 48 FIR अभी तक हिंसा, लूट से जुड़ी अलग अलग धाराओं में दर्ज हुई है. इस पर कॉलिन गोंजाल्विस  ने कहा कि लेकिन पुलिस भड़काऊ भाषण देने वाले लोगो पर FIR दर्ज करने से क्यों बच रही है. इन भड़काऊ भाषण देने वालो का अपराध गम्भीर है. उसकी परिणीति लोगों की हत्या के रूप में सामने आ रही है. इन पर तुंरत FIR दर्ज करने की ज़रूरत है, ताकि सख्त सन्देश जाए. कॉलिन ने कहा, आप आज ही तुंरत FIR दर्ज करने का आदेश दीजिए

 तुषार मेहता ने मौजूदा हालात को लेकर हलफनामा भी कोर्ट को दिया. इसमें माहौल सामान्य होने तक वक्त देने और  उपयुक्त समय पर FIR दर्ज की बात कही गई थी. अब याचिकाकर्ता की ओर से कॉलिन गोंजाल्विस पेश हो रहे हैं. कॉलिन ने कहा कि उनके मुवक्किल को केंद्र के पक्षकार बनने से एतराज नहीं. लेकिन गौर करने वाली बात है कि ये भड़काऊ बयान चार बड़ी राजनीतिक हस्तियों की ओर से आये हैं इन नारो को रैलियो में उछाला गया , इनमें लोगो को मारने की बात कही गई। परसो भी एक बयान आया, इन सबसे हिंसा भड़की वरना उसजे पहले प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से चल रहा था

SG ने कहा हम माहौल सामान्य करने की पूरी कोशिश कर रहे है. अभी इस मामले में कोर्ट का दखल माहौल के लिए ठीक नहीं है. उन्होंने कहा, वारिस पठान हो या कपिल मिश्रा, उपयुक्त वक्त पर उनके खिलाफ FIR पर फैसला ले लिया जाएग

तुषार मेहता ने कोर्ट से मांग की कि केंद्र को इस मामले में पक्षकार बनाया जाए. कहा- ये कोर्ट का विशेषाधिकार है कि वो केंद्र को पक्षकार बनने की इजाजत दे या नहीं

 मौजूदा माहौल इस बात के लिए उपयुक्त नहीं है कि हम चुनींदा तरीके से  उन्हीं तीन वीडियो ( BJP नेताओ की स्पीच) को देखें. हमारे पास और भी ऑडियो और वीडियो क्लिप्स है - तुषार मेहता 

उसके अलावा भी  बहुत सारे भड़काऊ भाषण वाली वीडियो है-  SG

दिल्ली हिंसा मामले पर दिल्ली हाई कोर्ट में सुनवाई शुरू हो गई है. सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि याचिकाकर्ता ने चुनिंदा सिर्फ 3 वीडियो का हवाला दिया है. एक जनहित याचिका में ऐसा नहीं होता

दिल्ली हिंसा पर हरियाणा के मंत्री रंजित चौटाला का बयान सामने आया है. उनका मानना है कि दंगे जिंदगी का हिस्सा होते हैं जो होते रहते हैं. उन्होंने कहा, दंगे तो होते रहे हैं. पहले भी होते रहे हैं, ऐसा नहीं है, जब इंदिरा गांधी की हत्या हुई तो पूरी दिल्ली जलती रही. 



दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या अब बढ़कर 33 हो गई है



कांग्रेस नेता गुरुवार को राष्ट्रपति से मिले और सोनिया गांधी  के नेतृत्व में ज्ञापन सौंपा गया. ज्ञापन सौपने के बाद कांग्रेस नेताओं ने केंद्र  सरकार पर जमकर निशाना साधा. 

सोनिया गांधी ने निशाना साधते हुए कहा कि केंद्र सरकार राजधर्म का पालन नहीं कर रही है

दिल्ली में चार दिनों से हिंसा जारी है और केंद्र सरकार मूक दर्शक बनी हुई है- सोनिया गांधी

BJP नेताओं के खिलाफ FIR दर्ज करने को लेकर अर्जी पर सुनवाई में दिल्ली HC में पुलिस की पैरवी करने के लिए LG ने SG तुषार मेहता की नियुक्ति को सहमति दी है. बुधवार को दिल्ली सरकार के वकील राहुल मेहरा ने  दिल्ली पुलिस की ओर से SG तुषार मेहता की पैरवी पर ऐतराज जाहिर किया था.

दिल्ली हिंसा के बाद मौजूदा हालात पर दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर  एसएल श्रीवास्तव का बयान सामने आया है. उन्होंने कहा, फिलहाल स्थिति सामान्य हो रही है. हम केस दर्ज कर रहे हैं और कानूनी कार्रवाई कर रहे हैं. हम अब उपद्रवियों की गिरफ्तारी भी करेंगे. 



कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह, और पार्टी के अन्य नेता  दिल्ली हिंसा पर राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपने के लिए राष्ट्रपति भवन पहुंचे.



पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने दिल्ली में हुई हिंसा की निंदा करते हुए एक बहुत ही भावुक कर देने वाली कविता लिखी. उन्होंने लिखा, "कहां हैं हम? किस ओर जा रहे हैं? स्वर्ग के परे नरक में! कितने प्राण बिसर गए, फिर कभी न लौटेंगे. अब देश का हिंसक हो जाना, क्या यह लोकतंत्र का अंत है?"

आम आदमा पार्टी पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) के घर से कई ऐसी चीजें बरामद की गई है जिससे अब उन पर लगे सही साबित होते नजर आ रहे हैं. गुरुवार को न्यूज नेशन की टीम उस घर की छत पर पहुंच गई जहां से पत्थरबाजी करने के आरोप लगाए जा रहे थे. न्यूज नेशन की टीम को छत से भारी मात्रा में पत्थर, ईंटे और बोतले मिली हैं. इसके अलावा पेट्रोल बम और तेजाब भी बरामद किए गए हैं. बाताया जा रहा है कि ये घर आप पार्षद ताहिर हुसैन का है. इस छत से कई गुलेल बम भी बरामद किए गए हैं.

First Published : 27 Feb 2020, 11:29:45 AM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.

×