News Nation Logo

GNCTD संशोधन कानून रद्द करने की याचिका पर हाईकोर्ट ने भेजा केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस

GNCTD एक्ट की वैधता को चुनौती देने वाली याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केन्द्र सरकार और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है.

Written By : अरविंद सिंह | Edited By : Dalchand Kumar | Updated on: 24 May 2021, 11:24:42 AM
Delhi High Court

GNCTD एक्ट की वैधता पर HC में सुनवाई, केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस (Photo Credit: फाइल फोटो)

highlights

  • GNCTD एक्ट की वैधता पर सुनवाई
  • वैधता के खिलाफ हाईकोर्ट में सुनवाई
  • केंद्र और दिल्ली सरकार को नोटिस

नई दिल्ली:

दिल्ली ( Delhi ) में लेफ्टिनेंट गवर्नर (एलजी) को अधिक अधिकार देने वाले दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी राज्याक्षेत्र शासन (संशोधन) कानून 2021 ( GNCTD Act ) राष्ट्रपति की मंजूरी के बाद लागू हो चुका है, मगर इस पर कानूनी दांव पेंच अभी जारी हैं. इस एक्ट की वैधता को चुनौती देने वाली याचिका पर दिल्ली हाईकोर्ट ( Delhi High Court ) ने सुनवाई चल रही है. सोमवार को हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार और दिल्ली सरकार को नोटिस जारी किया है. हाईकोर्ट इस याचिका पर पहले से लंबित दूसरी याचिका के साथ सुनवाई करेगा. हाईकोर्ट में याचिका दाखिल करके केंद्र सरकार द्वारा जारी इस संशोधन कानून को रद्द करने की मांग की गई है.

यह भी पढ़ें : नारदा केस : TMC नेताओं को हाउस अरेस्ट के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंची CBI, सुनवाई स्थगित करने की मांग

आपको बता दें कि इस संशोधित अधिनियम के तहत उपराज्यपाल की शक्तियां को असीमित कर दिया गया है. संसद से विधेयक पारित होने के बाद राष्ट्रपति ने मंजूरी मिलने पर पिछले महीने केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस संबंध में अधिसूचना जारी की थी. गृह मंत्रालय द्वारा अधिसूचना में कहा गया, 'राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली की सरकार (संशोधन) अधिनियम, 2021, 27 अप्रैल से अधिसूचित किया जाता है; अब दिल्ली में सरकार का अर्थ उपराज्यपाल है.'

यह भी पढ़ें : Corona Virus Live Updates : राजस्थान के जोधपुर शहर में ब्लैक फंगस के मामले 100 के पार 

कानून के तहत ये हुए बदलाव

कानून में किए गए संशोधन के अनुसार, अब सरकार को उपराज्यपाल के पास विधायी प्रस्ताव कम से कम 15 दिन पहले और प्रशासनिक प्रस्ताव कम से कम 7 दिन पहले भेजने होंगे. दिल्ली के केंद्रशासित प्रदेश होने के चलते उपराज्यपाल को कई शक्तियां मिली हुई हैं. दिल्ली और केंद्र में अलग-अलग सरकार होने के चलते उपराज्यपाल और दिल्ली सरकार के बीच अधिकारों को लेकर तनातनी चलती ही रहती है. कानून कहा गया है कि उपराज्यपाल को आवश्यक रूप से संविधान के अनुच्छेद 239क के खंड 4 के अधीन सौंपी गई शक्ति का उपयोग करने का अवसर मामलों में चयनित प्रवर्ग में दिया जा सके. कानून के उद्देश्यों में कहा गया है कि उक्त कानून विधान मंडल और कार्यपालिका के बीच सौहार्दपूर्ण संबंधों का संवर्द्धन करेगा तथा निर्वाचित सरकार एवं राज्यपालों के उत्तरदायित्वों को राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली के शासन की संवैधानिक योजना के अनुरूप परिभाषित करेगा.

LIVE TV NN

NS

NS

First Published : 24 May 2021, 11:24:42 AM

For all the Latest States News, Delhi & NCR News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.